Covid-19 Update

58,457
मामले (हिमाचल)
57,233
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,045,587
मामले (भारत)
112,852,706
मामले (दुनिया)

सीएम जयराम ठाकुर ने गेयटी थिएटर में अरुण जेटली को दी श्रद्धांजलि

सीएम जयराम ठाकुर ने गेयटी थिएटर में अरुण जेटली को दी श्रद्धांजलि

- Advertisement -

शिमला। बीजेपी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली के देहावसान पर बुधवार शाम गेयटी थिएटर रिज के सभागार में उन्हें भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित की गई। श्रद्धांजलि सभा में सीएम जयराम ठाकुर सहित विभिन्न सभाओं और राजनीतिक दलों के सदस्य ने भाग लिया। इस दौरान जयराम ठाकुर ने बताया कि जब वह प्रदेश अध्यक्ष थे तो अरुण जेटली जी से उन्हें बहुत कुछ सीखने को मिला और सबको साथ लेकर कैसे चलना है, वह विशेष रूप में सीखने को मिला। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक जीवन में हमारा व्यवहार कैसा होना चाहिए वह अरुण जेटली से हमें सीखना चाहिए। जो बात वह करते थे वह हटकर होती थी और उस बात में तर्क होता था।


यह भी पढ़ें: हिमाचल विधानसभा ने खत्म किए एक साथ 20 कानून , दो बिल ध्वनिमत से पारित

अरुण जेटली ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और बीजेपी व केंद्र सरकार में विभिन्न दायित्वों पर कार्य किया है और हर दायित्व पर उन्होंने अपनी एक अलग पहचान बनाई है। इस प्रकार की योग्यता बहुत कम मिलती है। वहीं शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कहा कि अरुण जेटली भारत के महान सपूत थे और उनका देश के लिए बहुत बड़ा योगदान रहा है। जिस प्रकार से उन्होंने एक देश और एक टैक्स को जीएसटी के माध्यम से स्थापित कियाए वह अपने में एक इतिहास है।

इसी तरह से कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने कहा कि अरुण जेटली जैसा व्यक्तित्व एक पार्टी का नुकसान नहीं पर पूरे देश का नुकसान है। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतपाल सत्ती ने कहा कि चाहे वह वकील हो या अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद एवं बीजेपी के नेता उन्होंने हर चीज में ख्याति प्राप्त की हैए अरुण जेटली ने अपने हर मिशन को पूरा किया चाहे वह दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रेसिडेंट हो या मंत्रिमंडल में अलग-अलग पदों पर कार्य करने वाले एक मंत्री जिस चीज को वो ठान लेते थे वह सरल तरीके से पूर्ण करते थे।

उन्होंने कहा कि अरुण जेटली की एक बहुत बड़ी विशेषता थी की उनके परिवार में जो कार्य करने वाले व्यक्ति थे उनके बच्चों को भी उन्होंने उसी स्कूल में पढ़ाया जिसमें उनके स्वयं के बच्चे पढ़ रहे थे और कुछ को तो उन्होंने विदेश भी भेजा। उन्होंने कहा कि एक बार उनके एक काम करने वाले के बेटे के एलएलबी में बहुत अच्छे नंबर आए तो उन्होंने उसको अपनी गाड़ी ही दे दी। हमें उनके स्वभाव से बहुत कुछ सीखना चाहिए ।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है