Covid-19 Update

57,121
मामले (हिमाचल)
55,671
मरीज ठीक हुए
958
मौत
10,626,200
मामले (भारत)
98,095,813
मामले (दुनिया)

Asha Worker बोलीं- काम को मना नहीं, पर सुरक्षा और मानदेय पर कब ध्यान देंगे सरकार

फ्रंट वॉरियर में कार्य कर रही आशा वर्कर्स ने स्वास्थ्य मंत्री से मुलाकात कर सौंपा मांग पत्र

Asha Worker बोलीं- काम को मना नहीं, पर सुरक्षा और मानदेय पर कब ध्यान देंगे सरकार

- Advertisement -

दयाराम कश्यप/सोलन। मंत्री महोदय! कोरोना काल में फ्रंट लाइन वॉरियर्स (Front line warriors) के रूप में काम करने वाली आशा वर्कर्स (Asha Workers) अब निराश हो चुकी हैं। प्रदेश सरकार ने उनके लिए बजट में जो घोषणाएं की थीं, उनकी आज तक अधिसूचना जारी नहीं हुई है। इसके कारण वे अपने आप को ठगा सा महसूस कर रही हैं। यह बात गुरुवार को स्वास्थ्य मंत्री डॉ. राजीव सैजल (Health Minister Dr. Rajiv Saizal) से मुलाकात करने पहुंची आशा वर्कर्स ने कही। इस दौरान उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री को मांग पत्र भी सौंपा। आशा वर्कर्स का कहना है कि कोरोनावॉयरस के लिए प्रदेश में कोई भी अभियान चलाया जाता है तो सबसे पहले आशा वर्कर्स को ही आगे किया जा रहा है, चाहे वह एक्टिव केस फाइंडिंग अभियान की बात की जाए या फिर अब प्रदेश सरकार द्वारा शुरू किए गए हिम सुरक्षा अभियान की आशा वर्कर इस समय कोरोना वॉरियर के रूप में काम कर रही हैं।

यह भी पढ़ें: #HP_Protest: श्रम कानूनों के विरोध में प्रदेश भर में गरजा भारतीय मजदूर संघ, ज्ञापन सौंप दी यह चेतावनी

आशा वर्कर काफी लंबे समय से मांग कर रही है कि उन्हें राज्य कर्मचारी घोषित किया जाए वहींए उन्हें मानदेय भी पूरा दिया जाए। आशा वर्करों का कहना है कि वह काम करने के लिए मना नहीं कर रहे, लेकिन जो मानदेय उन्हें मिल रहा है उसे देखकर लगता है कि सरकार उनका शोषण कर रही है सरकार उनकी बात सुनने को तैयार तक नहीं है। वहीं, जब उनकी सुरक्षा की बात आती है तो सरकार सिर्फ मास्क और ग्लब्स देकर अपना पल्ला झाड़ रही है जो कि उनकी सुरक्षा से खिलवाड़ है।

 

 

डॉ. राजीव सैजल बोले: मांगों पर किया जाएगा विचार

आशा कार्यकर्ता अनिता कुमारी और मंजू का कहना है कि कोरोनाकाल में आशा कार्यकर्ताओं ने फ्रंट लाइन पर रहते हुए अपनी सेवाओं का निर्वहन किया है। और अब वे लोग हिम सुरक्षा अभियान (Him Suraksha Abhiyaan)में भी अब हिस्सा ले रही हैं, लेकिन उनकी सुरक्षा का ध्यान बिल्कुल नहीं रखा गया है उनके लिए जो किट दी गई है उसमें सिर्फ मास्क, ग्लब्स और सैनिटाइजर दिया गया है, लेकिन इतने से उनकी सुरक्षा नहीं होने वाली है। इस संदर्भ में स्वास्थ्य मंत्री डॉ. राजीव सैजल का कहना है कि कोरोना काल में आशा कार्यकर्ता फ्रंट वॉरियर के रूप में काम कर रही है। उनकी मांगों को सहानुभूति पूर्वक विचार किया जाएगा। सरकार की ओर से जो भी घोषणा की गई है उन्हें जल्द पूरा किया जाएगा।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है