Covid-19 Update

1,98,551
मामले (हिमाचल)
1,90,377
मरीज ठीक हुए
3,375
मौत
29,505,835
मामले (भारत)
176,585,538
मामले (दुनिया)
×

एशिया की दूसरे नंबर की सहकारी सभा एलपीएस की कार्यकारिणी भंग, जानिए कारण

एशिया की दूसरे नंबर की सहकारी सभा एलपीएस की कार्यकारिणी भंग, जानिए कारण

- Advertisement -

कुल्लू। एशिया की दूसरे नंबर की सहकारी सभा लाहुल पोटेटो सोसायटी (एलपीएस) के बोर्ड आफ डायरेक्टर्स को भंग कर प्रशासक की नियुक्ति कर दी गई है। यह कार्रवाई भ्रष्टाचार और गबन के आरोप साबित होने के बाद की गई है। गौरतलब है कि सितंबर 2017 को संपन्न हुए एलपीएस (LPS) के आम सभा में जिला परिषद सदस्य एवं किसान नेता सुदर्शन जस्पा ने एलपीएस प्रबंधन और बोर्ड के पदाधिकारियों पर भ्रष्टाचार (Corruption) और कुप्रबंधन के गंभीर आरोप लगाए थे, जिसको लेकर जिलाधीश के माध्यम से रजिस्ट्रार कोऑपरेटिव सोसाइटीज हिमाचल प्रदेश स्थित शिमला (Shimla) को ज्ञापन (Memorandum) सौंप मामले में कड़ी कार्रवाई करने की मांग की थी।

यह भी पढ़ेंः हिमाचल सेवा सदन चंडीगढ़ से पीजीआई के लिए चलेगी मिनी बस


ज्ञापन में संस्था के प्रबंध निदेशक पर दस लाख रुपए के गबन, संस्था के होटल और गेस्ट हाउस को कौड़ियों के दाम पर बंदरबांट किए जाने, रिपेयर और मेंटेनेंस के नाम पर लाखों के हेरफेर तथा रायसन स्थित फैक्ट्री के लीज प्रक्रिया को जारी नहीं रखने के कारण संस्था को हुए करोड़ों रुपए के नुकसान के आरोप शामिल थे।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें

मामले की शिकायत के बाद रजिस्ट्रार कार्यालय शिमला ने सहायक पंजीयक कुल्लू (Kullu) को जांच के आदेश दिए थे। 17 मई को सहायक पंजीयक कार्यालय ने अपनी जांच में भ्रष्टाचार और कुप्रबंधन में संचालक मंडल को दोषी पाया और तत्काल प्रभाव से इसे भंग कर दिया। बोर्ड ऑफ डायरेक्टर के सात सदस्यों वाली कार्यकारिणी के भंग होने के बाद अब एलपीएस का कामकाज सहकारी सभा के निरीक्षक देखेंगे। वे नई कार्यकारिणी तक सोसायटी का संचालन करेंगे। इस फैसले पर खुशी जाहिर करते हुए सुदर्शन जस्पा ने इसे भ्रष्टाचार के खिलाफ अपने संघर्षों और लाहुल के किसानों की जीत करार दिया है। वहीं, उम्मीद की है कि भ्रष्टाचार में लिप्त लोगों को जल्द ही सलाखों के पीछे पहुंचाया जाएगा। उन्होंने कहा है कि लाहुल घाटी किसान मंच रायसन फैक्ट्री के मुआवजे के रूप में मिलने वाले करोड़ों रुपए को तुरंत रिलीज करने के लिए सरकार पर दबाव बना रही है, ताकि लगातार घाटे में चल रहे एलपीएस को उबारा जा सके।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है