Expand

नोटों की नसबंदीः अधिकतर ATM बन गए शोपीस

नोटों की नसबंदीः अधिकतर ATM बन गए शोपीस

- Advertisement -

लोकिन्दर बेक्टा/शिमला।राजधानी के लोगों को पुराने नोटों के स्थान पर नए नोट लेने को अभी भी भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। यही नहीं, बैंक में जमा पैसा निकालने में भी लोगों को पसीना बहाना पड़ रहा है। इसके साथ-साथ एटीएम से भी पैसा नहीं मिल रहा है। आलम यह है कि अधिकतर एटीएम अभी तक बंद पड़े हैं और जिन एटीएम में पैसा डाला भी जाता है, वह एक घंटे में ही खाली हो जाता है। इससे आम जनमानस अभी तक परेशानियों से जूझ रहा है।

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 500 रुपए और 1000 रुपए के पुराने नोट बंद करने के ऐलान के बाद से आज तक यह स्थिति बनी है। लोगों की बैंक में लंबी-लंबी लाइनें लगी हैं और लाइनों में लगने के बाद भी निराशा हाथ लग रही है।

bektaकुछ दिन सब्र करने के बाद भी लोगों को बैंकों से अपना ही पैसा नहीं मिल रहा है। इससे उनके धैर्य का बांध भी टूटने वाला है। बैंकों से एक बार में पैसे निकालने की सीमा को भले ही सरकार ने 10 हजार से बढ़ाकर 12 हजार कर दिया है, लेकिन हकीकत यह है कि बैंक प्रबंधन इतनी राशि नहीं दे रहे हैं। राज्य सहकारी बैंक में तो 2000 रुपए से ज्यादा की राशि निकालने नहीं दे रहे। इसके पीछे तर्क दिया जा रहा है कि अभी पैसा नहीं है। इसलिए जो पैसा आया है वह अधिकतर लोगों को मिले, इसलिए कम पैसा निकालने को कहा जा रहा है। उधर, राजधानी के अधिकतर एटीएम शोपीस बनकर रह गए हैं। अधिकतर एटीएम के शटर लगे हैं और जो खुले हैं, उन पर नो कैश के बोर्ड टंगें है। इसके बाद भी कई लोग तसल्ली करने के लिए एटीएम में घुस जाते हैं और फिर निराश होकर बाहर निकलते हैं। जिन एटीएम में पैसा डाला जाता है, वह एक घंटे के भीतर ही खत्म हो जाता है।

bekta2बाजार में घूम रहे लोगों की नजर एटीएम पर लगी रहती है, जिस एटीएम के बाहर लाइन लगी हो, समझो उसमें कैश है और लोग उसकी तरफ दौड़ पड़ते हैं, लेकिन कई लोगों को लाइन में रहना पड़ता है और कैश खत्म हो जाता है। राजधानी में स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, आईसीआईसीआई, एचडीएफसी आदि बैंकों के ही कुछ एटीएम काम कर रहे हैं। बाकी बैंकों के एटीएम बंद पड़े हैं। इन सब के चलते लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। उधर, राज्य सहकारी बैंक के प्रबंध निदेशक गोपाल शर्मा का कहना है कि बैंक के पास अपनी शाखाओं में ही पैसा नहीं है। उनकी प्राथमिकता ग्रामीण इलाकों को पैसा पहुंचाने की है। ऐसे में एटीएम में पैसा कैसे डालें। उन्होंने कहा कि पैसा आएगा तो एटीएम में भी डाला जाएगा, लेकिन अभी ऐसी स्थिति नहीं है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है