Covid-19 Update

1,35,782
मामले (हिमाचल)
99,400
मरीज ठीक हुए
1925
मौत
22,992,517
मामले (भारत)
159,607,702
मामले (दुनिया)
×

सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या मामला, मुस्लिम पक्षकार साबित नहीं कर पाए कि मस्जिद बाबर ने बनवाई

सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या मामला, मुस्लिम पक्षकार साबित नहीं कर पाए कि मस्जिद बाबर ने बनवाई

- Advertisement -

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में अयोध्या (Ayodhya) के रामजन्मभूमि/बाबरी मस्जिद मामले की रोजाना सुनवाई (Hearing) गुरुवार को भी हुई। सुप्रीम कोर्ट में 15वें दिन की सुनवाई के दौरान राम जन्मभूमि पुनरुद्धार समिति के वकील पीएन मिश्रा ने पांच सदस्यीय बेंच के सामने दलीलें पेश कीं। इस दौरान उन्होंने किताबों को सबूत के तौर पर स्वीकार करने संबंधी इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) के फैसले का जिक्रकरते हुए कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि ये साबित नहीं हो पाया है कि विवादित जमीन पर मंदिर को तोड़कर मस्जिद का निर्माण बाबर (Babar) ने कराया था या औरंगजेब ने?


यह भी पढ़ें: चंडीगढ़ में होगी नॉर्थ जोन काउंसिल की बैठक, आएंगे अमित शाह-हिमाचल से यह लेंगे भाग


सुनवाई के दौरान जस्टिस बोबड़े ने वकील पीएन मिश्रा से तीन बिंदु स्पष्ट करने को कहा

1. क्या वहां एक स्ट्रक्चर था?

2. क्या स्ट्रक्चर मस्जिद है या नहीं?

3. वह स्ट्रक्चर हिंदुओं को समर्पित था?

वहीं समिति के वकील ने कहा कि हाईकोर्ट के फैसले के मुताबिक, एक जज ने लिखा था कि इसका कोई सबूत नहीं मिला है कि ढांचे का निर्माण बाबर ने कराया था। जबकि दूसरे जज ने कहा था कि इसे औरंगजेब ने बनवाया था। लेकिन मुस्लिम पक्षकार साबित नहीं कर पाए कि मस्जिद का निर्माण बाबर ने करवाया था। उन्होंने आगे कहा कि ऐसे में मेरा कहना है कि जब कोई सबूत ही नहीं है तो मुस्लिम पक्षकार को विवादित जमीन पर कब्जा या हिस्सेदारी नहीं दी जा सकती। बाबर ने मस्जिद का निर्माण नहीं कराया था और न ही वह विवादित जमीन का मालिक था। जब वह जमीन का मालिक ही नहीं था तो सुन्नी वक्फ बोर्ड का मामले में दावा ही नहीं बनता।

वकील मिश्रा ने कोर्ट को आगे बताया कि हाईकोर्ट के जज एसयू खान का निष्कर्ष अनुमान पर आधारित था। उन्होंने अपने फैसले में कहा था कि इस बाबत सबूत नहीं है कि मस्जिद का निर्माण बाबर ने किया था, लेकिन मैं ये अनुमान लगा सकता हूं कि ये मस्जिद बाबर ने बनवाई थी। यह तो स्पष्ट है कि मस्जिद को मंदिर के ऊपर बनाया गया था, क्योंकि मंदिर के अवशेष उस जगह से मिले हैं। जबकी कुछ लोगों का मानना है कि मंदिर को ध्वस्त कर के मस्जिद बनाई गई।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है