Covid-19 Update

1,99,467
मामले (हिमाचल)
1,92,819
मरीज ठीक हुए
3,404
मौत
29,685,946
मामले (भारत)
177,559,790
मामले (दुनिया)
×

कोरोना संक्रमितों के लिए रामबाण है ये दवा- सात दिनों में पॉजिटिव से नेगेटिव हो रहे लोग

ए-सिम्टोमेटिक, माईल्ड और मोडरेट मरीजों के लिए वरदान बन रही दवा

कोरोना संक्रमितों के लिए रामबाण है ये दवा- सात दिनों में पॉजिटिव से नेगेटिव हो रहे लोग

- Advertisement -

मंडी। आयुष मंत्रालय द्वारा कोरोना संक्रमितों के लिए जारी की गई आयुष 64 दवा (AYUSH 64 drug) रामबाण साबित हो रही है। 7 मई को केंद्रीय आयुष मंत्री किरेन रिजिजू (Union Ayush Minister Kiren Rijiju) ने इस दवा के राष्ट्रव्यापी वितरण का कार्यक्रम शुरू किया था और अब यह दवा हिमाचल प्रदेश में भी वितरित होना शुरू हो गई है। हालांकि पहले भी इस दवा का वितरण किया जा रहा था लेकिन अब इसे बड़े पैमाने पर वितरित किया जा रहा है। मंडी जिला के पंडोह स्थित क्षेत्रीय आयुर्वेद अनुसंधान संस्थान (Regional Ayurveda Research Institute at Pandoh) की रिसर्च ऑफिसर एवं आयुष 64 के दवा वितरण की प्रदेश नोडल आफिसर विनिता नेगी ने बताया कि 90 के दशक में इस दवा का निर्माण मलेरिया रोग (Malaria Disease) के उपचार के लिए किया गया था। लेकिन हाल ही में जब कोरोना का कहर बरपा तो इसे संक्रमित मरीजों को दिया गया, जिसके काफी ज्यादा सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं। होम आइसोलेशन में रह रहे ए-सिम्टोमेटिक, माईल्ड और मोड्रेट मरीजों के लिए यह दवा किसी वरदान से कम नहीं है।

यह भी पढ़ें:संक्रमण से ठीक होने वालों की देश में दर बढ़ी- Himachal में कोरोना के नए मामलों ने बढ़ाई चिंता

दवा के सेवन के बाद ऐसे मरीजों की रिपोर्ट मात्र 7 दिनों में पॉजिटिव (Positive) से नेगेटिव आ रही है। यही नहीं इस दवा का सेवन करने वालों को न तो हास्पिटल में भर्ती होने की जरूरत पड़ रही है और न ही अन्य प्रकार के उपचार की। यही कारण है कि केंद्रीय आयुष मंत्रालय ने देश भर में इसका निशुल्क वितरण शुरू कर दिया है। सेवा भारती संगठन के साथ मिलकर आयुष विभाग इस दवा का वितरण करने में जुटा हुआ है। दवा की खासियत यह भी है कि आप अन्य एलोपैथी दवाओं के साथ भी इसका सेवन कर सकते हैं और इसका कोई साईड इफैक्ट भी नहीं होता।


यह भी पढ़ें:कोरोना के मामलों में गिरावट जारी-कांग्रेस सांसद Rajeev Satav समेत मौत के आंकड़ों ने बढ़ाई चिंता

जो भी संक्रमित व्यक्ति होम आईसोलेशन में है वो अपनी आरटी पीसीआर की रिपोर्ट और आधार कार्ड किसी भी परिजन के पास भिजवा कर दवा को निशुल्क मंगवा सकता है। विनिता नेगी ने होम आईसोलेशन में रह रहे संक्रमितों से इस दवा का सेवन करने की सलाह दी है। दवा के परिणामों को देखते हुए लोग अब इसकी तरफ काफी ज्यादा आकर्षित हो रहे हैं। पंडोह स्थित आयुर्वेद संस्थान में अपनी बेटी के लिए दवा लेने आए सन्नी सिंह ने बताया कि उनकी बेटी को इस दवा से काफी ज्यादा लाभ मिल रहा है। उन्होंने अन्य लोगों से भी इसका लाभ उठाने की अपील की है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है