×

अब चार साल की होगी B.Ed, पुराने डिग्री धारकों को 2030 के बाद नहीं मिलेगी Teacher की नौकरी

नई शिक्षा नीति के तहत प्रदेश के कॉलेजों में फर्स्ट ईयर से ही शुरू की जाएगी एजूकेशन विषय की पढ़ाई

अब चार साल की होगी B.Ed, पुराने डिग्री धारकों को 2030 के बाद नहीं मिलेगी Teacher की नौकरी

- Advertisement -

शिमला। नई शिक्षा नीति बीएड (B.Ed) धारकों और बीएड करने वालों के लिए कुछ मुशिकलों भरी हो सकती है। क्योंकि राष्ट्रीय शिक्षा नीति (National Education Policy) के अनुसार अब बीएड तीन साल में नहीं बल्कि चार साल की होगी। वहीं पुराने डिग्री धारकों को भी 2030 के बाद शिक्षक (Teachers) की नौकरी नहीं मिल पाएगी। इसका मुख्य कारण नई नीति है, जिसमें स्पष्ट किया गया है कि चार वर्ष की बीएड करने वालों को ही नौकरी के लिए पात्र माना जाएगा। इसके लिए जल्द ही प्रदेश के कॉलेजों में फर्स्ट ईयर (First Year) से ही एजूकेशन विषय को शुरू किया जाएगा। तीन साल तक कॉलेज और उसके बाद एक वर्ष की एजूकेशन विषय की पढ़ाई करने वालों को ही बीएड की डिग्री मिलेगी। राष्ट्रीय शिक्षा नीति के इस प्रावधान को लागू करने के लिए जल्द ही प्रदेश में बीएड और डीएलएड का पाठ्यक्रम भी बदला जाएगा।


यह भी पढ़ें: Language Teacher की बैच वाइज भर्ती के लिए इस दिन होगी Counseling, साथ लाएं जरूरी कागज

 

 an example image

स्कूल प्रवक्ता के लिए भी टेट पास करना अनिवार्य

मौजूदा समय में जेबीटी, टीजीटी और शास्त्री के पदों के लिए ही टेट (TET) पास करना अनिवार्य है। लेकिन आने वाले समय में स्कूल प्रवक्ता के लिए भी टेट पास करना जरूरी हो जाएगा। शिक्षा सचिव राजीव शर्मा ने बताया कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति में मिड डे मील को तीन वर्ष की आयु तक के बच्चों के लिए भी शुरू किया जाएगा। मिड डे मील के साथ बच्चों को ब्रेकफास्ट भी दिया जाएगा। वहीं, आंगनवाड़ी और स्कूलों में प्री प्राइमरी शिक्षा के लिए आंगनबाड़ी वर्करों और शिक्षकों को प्रशिक्षित किया जाएगा।

आरएंडपी नियमों से बाहर अब नहीं होगी भर्तियां

प्रदेश में अब शिक्षा विभाग के तहत आरएंडपी नियमों (R&P rules) से बाहर किसी भी तरह से भर्तियां नहीं की जा सकेंगी। शिक्षा सचिव राजीव शर्मा ने बताया कि यह फैसला मंत्रिमंडल की बैठक में लिया गया है। जिसकी सूचना शिक्षा विभाग को भी मिल गई है। अब विभाग में किसी भी तरह से बिना आरएंडपी नियमों के बाहर भर्ती नहीं की जाएगी।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Channel

 

 an example image

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है