×

B.Tech छात्र द्वारा निर्मित सॉफ्टवेयर लगाएगा रोड एक्सीडेंट्स पर लगाम; जानें किस तरह करता है काम

100 टेक इन्नोवेटर्स में शामिल मोहित कुमार ने सफलतापूर्वक फाइल किया सॉफ्टवेयर पेटेंट

B.Tech छात्र द्वारा निर्मित सॉफ्टवेयर लगाएगा रोड एक्सीडेंट्स पर लगाम; जानें किस तरह करता है काम

- Advertisement -

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी (Chandigarh University) के बी.टेक इंजीनियरिंग में सेकंड ईयर स्टूडेंट मोहित कुमार ने सड़क दुर्घटनाओं से निजात पाने के लिए सॉफ्टवेयर (Software) निर्मित कर नया कीर्तिमान स्थापित किया है। मोहित ने इस सॉफ्टवेयर को मशीन लर्निंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के आधार पर विकसित किया है, जो सीट बेल्ट का उपयोग न करने, शराब पीकर गाड़ी चलाने, इंडिकेटर का प्रयोग न करने, ट्रैफिक जाम और कोहरे जैसे प्रमुख कारणों से होने वाली दुर्घटनाओं को रोक सकता है।


सड़क दुर्घटनाओं में भारत नंबर 1 पर है; होता है लाखों करोड़ का नुकसान

डब्ल्यूएचओ (वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन) की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में रोड एक्सीडेंट (Road Accident) की वजह से हर साल 10 लाख लोग अपनी जान गँवा देते हैं, वहीं तकऱीबन 5 लाख जख्मी होते हैं। इसके अतिरिक्त दुनियाभर में होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में भारत नंबर 1 पर है और इसी कारण कुल घरेलू उत्पादन में देश को 3 लाख करोड़ का नुक्सान उठाना पड़ता है। भारत में प्रतिदिन रोड एक्सीडेंट में 400 लोग मारे जाते हैं, जो कि देश के लिए बहुत चिंताजनक विषय है। इसी के मद्देनजर चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के छात्र और टॉप 100 टेक इन्नोवेटर्स और प्रभावशाली व्यक्तियों की सूची में शामिल मोहित कुमार ने एक ऐसा सॉफ्टवेयर विकसित किया है, जो सड़क हादसों को नियंत्रित करने में कारगर साबित होगा और मोहित ने सॉफ्टवेयर का सफलतापूर्वक पेटेंट फाइल कर दिया है।

जानें किस तरह से काम करता है यह सॉफ्टवेयर

मोहित द्वारा निर्मित इस सॉफ्टवेयर की एक अनूठी विशेषता है कि बिना सीट बेल्ट बांधे कार स्टार्ट नहीं होगी। सीट बेल्ट पर 3 सेंसर हैं, जिससे सीट बेल्ट बांधने बाद ही कोई व्यक्ति कार चला सकेगा। ड्रंकन ड्राइविंग सड़क दुर्घटनाओं का तीसरा बड़ा कारण है और यह सॉफ़्टवेयर उन लोगों को भी ड्राइविंग करने से रोकेगा, जिन्होंने 0.08 प्रतिशत की अनुमति दर से ज्यादा शराब का सेवन किया होगा। जैसे ही व्यक्ति स्टीयरिंग को छूएगा, तो नशे की हालत में वह कार को शुरू करने में सक्षम नहीं होगा। इसके अलावा, अगर वह शराब का सेवन करता है, तो उसकी सांस सेंसर को ट्रिगर कर देगी। इतना ही नहीं, इस सॉफ्टवेयर की मदद से, इंडिकेटर का उपयोग किए बिना वाहनों की लापरवाह ओवरटेकिंग के कारण अधिक दुर्घटनाएं नहीं होंगी, क्योंकि यह सॉफ्टवेयर गूगल मैप्स के साथ कनेक्टेड होगा और जैसे ही ड्राइवर एक लेन को स्विच करने वाला है, तो यह सॉफ्टवेयर स्वचालित रूप से इंडिकेटर चालू करेगा। सड़क दुर्घटनाओं का एक और कारण फोग व कोहरा है। इस सॉफ्टवेयर में एक इनबिल्ट अल्ट्रसोनिक रडार सिस्टम है, जो आपको यह बताता है कि 50 मीटर के दायरे में आपके रस्ते में कोई (वस्तु/ प्राणी) है या नहीं। मोहित द्वारा निर्मित किए गए इस सॉफ्टवेयर को विकसित करते समय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय से सभी नियमों और विनियमों का पालन किया।

मोहित ने साल भर में 6 स्टार्ट-अप और 24 पेटेंट दर्ज किए

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी न केवल दुनिया के लिए पेशेवर तैयार कर रही है, बल्कि समाज को वापस देने की भावना भी पैदा करती है। उत्तर भारत में सबसे तेजी से विकसित हो रहे चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के स्टार्टअप एमके ऐप क्रिएटिव्स प्राइवेट लिमिटेड के फाउंडर और सीईओ व यूनिवर्सिटी के छात्र मोहित कुमार ने 1 साल के भीतर स्पोर्ट्स और टेक्नोलॉजी सहित विभिन्न क्षेत्रों में 6 स्टार्ट-अप और 24 पेटेंट दर्ज किए हैं। यह ऐप गेम डेवलपमेंट, मोबाइल ऐप डेवलपमेंट, लोगो डिज़ाइन, वेब डेवलपमेंट, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, साइबर सिक्योरिटी जैसे सभी संभव इनफार्मेशन एंड टेक्नोलॉजी (आईटी) समाधान प्रदान करता है। चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी के चांसलर सतनाम सिंह संधू ने कहा कि रिसर्च-इनोवेशन, तकनीक और औद्योगिक क्षेत्र में सफलता हासिल करने वाले यूनिवर्सिटी के विद्यार्थियों में मोहित कुमार विशेष छात्रों में से एक है, जिसने महज 17 साल की उम्र में स्काई मैसेंजर नाम का ऐप बनाया था, जिसके बेहतरीन फीचर्स के फलस्वरूप ब्राज़ील,
जापान, जर्मनी, यूनाइटेड स्टेट और बेल्जियम सहित 160 देशों के लोगों द्वारा डाउनलोड किया गया। बता दें स्काई मैसेंजर एप के जरिए सेंड किए जा चुके मैसेज को 24 घंटे के अंदर कभी भी एडिट किया जा सकता है, वहीँ सीक्रेट चैट और गेम अडॉप्टमेन्ट का ऑप्शन भी है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है