Covid-19 Update

2,05,499
मामले (हिमाचल)
2,01,026
मरीज ठीक हुए
3,504
मौत
31,571,295
मामले (भारत)
197,365,402
मामले (दुनिया)
×

देखिए, ये है खेल मंत्री के गृह जिला के मैदान का हाल, कैसे प्रैक्टिस करें खिलाड़ी

देखिए, ये है खेल मंत्री के गृह जिला के मैदान का हाल, कैसे प्रैक्टिस करें खिलाड़ी

- Advertisement -

कुल्लू। खेलों में मेडल हासिल करने के लिए सुविधाओं का होना बहुत जरूरी है। बात कुल्लू जिला की करें तो कहने को तो प्रदेश के खेल मंत्री गोबिंद ठाकुर इसी जिले से संबंध रखते हैं पर लगता है खिलाड़ियों के लिए सुविधाएं जुटाने की तरफ उनका ध्यान नहीं जाता तभी को उनके गृह जिला में खिलाड़ियों के लिए सुविधाएं नाम मात्र की है। यहां तक कि मैदानों की हालत बदतर बनी हुई है। बात करते हैं ढालपुर मैदान की दशहरा उत्सव के खत्म होन के डेढ माह बाद भी ढालपुर खेल मैदान का रखरखाव नहीं हो पाया है।


हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

मैदान में चारों तरफ गड्ढे पड़े हुए है और इन गडढ़ों में बारिश के बाद पानी भरा हुआ है और यहां खेलना तो दूर की बात पैदल चलने में भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। मैदान में चारों तरफ पत्थर ,ईंच व कांच के टुकड़े बिखरे पड़े हुए है।



हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel… 

जिला प्रशासन के अधिकारी कह रहे है कि नगर परिषद को मैदान ठीक करने के निर्देश दिया है और बजट भी दे दिया है लेकिन नगर परिषद के अधिकारी कह रहे है कि अभी प्रशासन की तरफ से मैदान के रखरखाव के लिए बजट नहीं मिला है। खिलाड़ी समझ नहीं पा रहे हैं दोनों में सच कौन बोल रहा है।

दशहरा उत्सव में व्यापारियों से मैदान की मैंटिनस के नाम पर लाखों-करोड़ों रुपए इक्कठे किए जाते हैं लेकिन मैदान की रखरखाव पर दशहरा उत्सव के खत्म होने के डेढ माह के बाद भी उस बजट का प्रयोग नहीं किया गया। मैदान के रखरखाव का जिम्मा भी प्रशासन का है। ऐसे में कुल्लू जिला का खेल मैदान अनदेखी का शिकार हो रहा है जिसका खामियाजा खिलाड़ियों को भुगतना पड़ रहा है।

जिला फुटबॉल संघ के महासचिव एंव कोच पवन कुमार ने बताया कि कुल्लू जिला का दुर्भाग्य है कि मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर के नेतृत्व में भी जिला के खिलाड़ियों को मूलभूत सुविधा नहीं मिल पा रही है। संघ के 5 खिलाड़ी संतोष ट्रॉफी खेलकर लौटे है और अब आगे की तैयारी करनी है लेकिन खेल मैदान में खेलना तो दूर पैदल चलने में भी परेशानी है ऐसे में खिलाड़ी प्रेक्टिस कहां करें। खेल मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर जिला प्रशासन को उचित निर्देश दे ताकि कुछ दिनों के भीतर खेल मैदान में पत्थर, ईंट व कांच के टूटे टुकड़ों को इक्कठा कर र मैदान को दुरूस्त करें।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है