Covid-19 Update

2,05,017
मामले (हिमाचल)
2,00,571
मरीज ठीक हुए
3,497
मौत
31,341,507
मामले (भारत)
194,260,305
मामले (दुनिया)
×

बाड़ीधार मेला : भोले शंकर से पांडवों का भव्य मिलन

बाड़ीधार मेला : भोले शंकर से पांडवों का भव्य मिलन

- Advertisement -

Badidhar Fair: सोलन। जिला के अर्की उपमंडल के तहत पड़ने वाले प्राचीन ऐतिहासिक स्थल बाड़ीधार की शक्ति एवं प्राचीन इतिहास के चर्चे आज भी दूर-दूर तक प्रसिद्ध हैं। यहां हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी प्रसिद्ध बाड़ीधार मेले का आयोजन धूमधाम से किया जा रहा है। हालांकि मेले का शुभारंभ सीएम वीरभद्र सिंह के हाथों किया जाना था लेकिन उनका प्रवास किन्हीं अपरिहार्य कारणों के दृष्टिगत स्थगित कर दिया गया। यह मेला जहां महाभारत काल की पौराणिक गतिविधियों को संजोए हुए है, वहीं यहां के लोगों के जीवन में भी अपना अलग महत्व रखता है। कहा जाता है बाड़ीधार के मेले में पांडवों और भोले शंकर का मिलन होता है। इस आयोजन के माध्यम से नई पीढ़ी को क्षेत्र के इतिहास से अवगत करवाया जाता है तथा उन्हें अपने पूर्वजों से विरासत में मिली परंपराओं को निभाने का पाठ भी पढ़ाया जाता है। देव भूमि बाड़ी धार के बाड़ी मेले में जो आता है बाड़ा देव उसकी सभी मन की मुरादें पूरी करते हैं। यही कारण  है कि श्रद्धालु दूर-दूर से इस मेले को देखने के लिए यहां पहुंचते हैं। इस मेले की पूर्व संध्या पर इस स्थान पर रतजगा अर्थात जागरण का आयोजन होता है।

Badidhar Fair: शिवजी को ढ़ूंढने आए थे पांडव


कहा जाता है कि पांडव अज्ञातवास में शिवजी को ढूंढते हुए हिमाचल आए क्योंकि हिमालय शिव का स्थान है। पौराणिक ग्रन्थों में ऐसा वर्णन है और यहां की पर्वत मालाएं शिवालिक अर्थात शिव की जटाएं कही जाती हैं। जैसे ही उन्हें पता चला कि बाड़ी की धार पर्वत पर शिवजी की धुन बज रही है तो शिवजी के दर्शन की इच्छा लेकर पांडव वहां गए। दो दिन तथा तीन रात वहां प्रतिदिन जाते रहे। उन्हें शिवजी की धुन तो सुनाई दी, पर शिवजी नहीं मिले। देवाज्ञा से उन्हें वहीं प्रतिष्ठित हो जाने का आदेश हुआ। पांडवों को आकाशवाणी हुई कि आज से यह स्थान ज्येष्ठ युधिष्ठिर के नाम से जाना जाएगा और यह स्थान बाड़ी की धार के नाम से विख्यात होगा। पांडवों को भी अन्य स्थान मिले और वे उन स्थानों पर पूजे जाते हैं। कालान्तर में वहां बाड़ा देव की पूजा होने लगी।

भूतों से लोगों की रक्षा करते बाड़ा देव

कहते हैं कि पहाड़ी की दूसरी तरफ भूतों का साम्राज्य हुआ करता था वहां पर भूतों के लिए प्रारम्भ में नरबलि दी जाती थी जो बाद में पशुबलि हो गई। बाड़ी की धार में बहुत बड़ा उत्सव होता है जहां पांचों पांडव अपने अपने स्थानों से आकर बाड़ा देव से मिलते हैं। वहां रात को कोई नहीं रुकता था। अगर कोई रुक भी जाता तो बाड़ा देव भूतों से लोगों की रक्षा करते थे। स्थानीय लोगों के अनुसार एक बार मेले में गया व्यक्ति कौतूहलवश कि रात को यहां क्या होता होगा ऐसा सोचकर वहां रुक गया और एक वृक्ष पर चढ़ गया जब अंधेरा घिरने लगा तो वहां भूतों का तांडव शुरू हो गया । वे लोगों द्वारा दी गई बलियों का भक्षण करने लगे। यह देख कर वह व्यक्ति भयभीत हो गया और चिल्लाने लगा। भूत उसको डराने लगे तो उसने बाड़ा देव से प्रार्थना की कि हे देव आप मुझे इस विपत्ति से बचा लें मेरी रक्षा करें। उसी समय वह वृक्ष वहां से उखड़ा और दयोथल नामक स्थान पर स्थापित हो गया, जो आज भी वहां है। उसके पश्चात बाड़ा देव आसपास के क्षे़त्र में विख्यात हो गए। यहां हर साल मेला लगता है जो बाड़ी का मेला के नाम से जाना जाता है। बाड़ादेव आज भी गुरों के माध्यम से लोगों की समस्याओं का निवारण करते हैं।

यह भी पढ़ें – निर्जला एकादशी व्रत से मिलती दीर्घायु

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है