Covid-19 Update

2,01,049
मामले (हिमाचल)
1,95,289
मरीज ठीक हुए
3,445
मौत
30,067,305
मामले (भारत)
180,083,204
मामले (दुनिया)
×

सिल्ट निकासी से किसानों को नुकसान, बीबीएमबी प्रबंधन करेगा पुख्ता इंतजाम

सिल्ट निकासी से किसानों को नुकसान, बीबीएमबी प्रबंधन करेगा पुख्ता इंतजाम

- Advertisement -

सुंदरनगर। बीएसएल प्रोजेक्ट सिल्ट निकासी के कारण क्षेत्र में किसानों को हो रहे नुकसान को कम करने के लिए बीबीएमबी प्रबंधन पुख्ता इंतजाम उठाने जा रहा है। बीबीएमबी चेयरमैन डीके शर्मा ने सुंदरनगर में बीबीएमबी (BBMB) के अधिकारियों के साथ बैठक की और कई अहम मुद्दों पर चर्चा की। सिल्ट निकासी मामले पर बीबीएमबी चेयरमैन डीके शर्मा ने कहा कि बीबीएमबी प्रबंधन ने पिछले वर्षों के मुकाबले इस वर्ष सिल्ट कंट्रोल पर काफी हद तक कोशिश की है। उन्होंने कहा कि पंडोह डैम (Pandoh Dam) में सिल्ट को कंट्रोल किया गया है। इससे पंडोह डैम (Pandoh Dam) में सिल्ट की मात्रा में भी कमी आई है। डीके शर्मा ने कहा कि हर वर्ष डैम की एक दिन फ्लशिंग की जाती है, लेकिन इस बार अधिक समय तक डैम फ्लशिंग की गई। उन्होंने कहा की सिल्ट को फ्लशिंग करने का कार्य मानसून सीजन में ही किया जाता है और सिल्ट निकासी से किसानों को आ रही परेशानी जल्द ठीक होगी।


डीके शर्मा ने कहा की बीबीएमबी द्वारा आईआईटी (IIT) रूड़की को सिल्ट का कमर्शियल उपयोग बताने के लिए कहा गया है, जिससे किसानों की बर्बाद हो रही हजारों बीघा उपजाऊ भूमि को बचाया जा सके। उन्होंने कहा कि बीबीएमबी अलग-अलग तरीके सिल्ट की गंभीर समस्या पर काम कर रही है। सिल्ट को कंट्रोल करने के लिए बीबीएमबी प्रबंधन ने इस वर्ष हिमाचल प्रदेश में 7 लाख पौधे लगाने का निर्णय लिया है,जिसका काम जोरों पर है। उन्होंने कहा कि इसमें जनता का भी भरपूर सहयोग मिल रहा है। उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है की पेड़-पौधे लगाने से सिल्ट की पैदावार में कमी आएगी। और किसानो को निजात मिलेगी।

सिल्ट निकासी के लिए ड्रेजर (Drazor) द्वारा सुकेती खड्ड में पाइपों के माध्यम से सिल्ट फैंकी जाती है। इसको लेकर इन पाइपों की चैनलाइजेशन करने का भी रास्ता भी तलाशा जा रहा था। इन सब बातों पर विराम लगाते हुए बीबीएमबी चेयरमैन डीके शर्मा ने कहा कि सिल्ट को बाहर फैंकने वाली पाइपों की चैनलाइजेशन की ओर बीबीएमबी प्रबंधन द्वारा कोई विचार नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सिल्ट कंट्रोल को लेकर बीबीएमबी प्रबंधन अलग-अलग तरीकों से कार्य प्रगतिशील है।

 

विधायक राकेश जंवाल भी उठा चुके हैं विस सत्र में मामला

बीएसएल प्रोजेक्ट सुंदरनगर से निकलने वाली सिल्ट से किसानों की कई बीघा भूमि उपजाऊ भूमि नष्ट होने को लेकर सुंदरनगर के विधायक राकेश जंवाल ने विधानसभा के मानसून सत्र में सवाल उठा चुके हैं। वहीं इस मसले को लेकर हिमाचल प्रदेश लोक सेवा लेखा समिति के दौरे के दौरान भी जोरों शोरों से उठाया था और बीबीएमबी के अधिकारियों को इस मसले को लेकर आधुनिक तकनीक से सिल्ट का समाधान निकालने के निर्देश भी दिए थे।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है