Covid-19 Update

2,00,328
मामले (हिमाचल)
1,94,235
मरीज ठीक हुए
3,426
मौत
29,881,965
मामले (भारत)
178,960,779
मामले (दुनिया)
×

दूसरों के घरों को रोशन कर, खुद अंधेरे में बनाते हैं खाना

दूसरों के घरों को रोशन कर, खुद अंधेरे में बनाते हैं खाना

- Advertisement -

बिलासपुर। उजड़ने का दर्द कोई उन से पूछे जिन्होंने देश की प्रगति के लिए घर, खेत-खलिहान दे दिए पर बदले में सरकार (Government) से जो मिला वो केवल मजाक ही कहा जा सकता है। चुनाव हुए, सरकारें बनीं पर विस्थापितों के दर्द को किसी ने नहीं समझा। इन लोगों को ऐसी जगह पर बसा दिया गया, जहां पर आज तक उन्हें जरूरी सुविधाएं तक नहीं मिल पाईं हैं। हाल यह है कि दूसरों के घरों को रोशन करने वाले खुद अंधेरे में जीवन यापन कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें :-मृत्यु की भौतिक स्थिति महसूस करना चाहता था जेएनयू का छात्र, लगा लिया फंदा

 


भाखड़ा विस्थापितों (Bhakra displaced ) के नाम पर राजनीति करने वाले तो बहुत मिल जाएंगे पर इनके दर्द को समझने वाला शायद को नहीं। पंजाब व हिमाचल सीमा (Punjab and Himachal border) पर स्थित है भाखड़ा विस्थपितों का एक गांव कल्लर। पहाड़ियों से बीच बसा यह गांव आंनदपुर साहिब से लगभग 24 किलोमीटर दूर और नैना देवी से लगभग 7 किलोमीटर दूर स्थित है। घर-घर बिजली पहुंचाने वाली सरकार के दावे इस गांव में आकर खोखले साबित हो जाते है क्योंकि यहां तक बिजली नहीं पहुंच पाई है। न तो यहां स्कूल है न डिस्पेंसरी और न ही सड़क।

गांव में आज भी लोग आदिवासियों की तरह जीवन व्यतीत कर रहे हैं। हालांकि कुछ घरों तक बिजली पहुंची पर अधिकांश घर अंधेरे में डूब चुके हैं। महिलाएं आज भी दीये की रोशनी में खाना बनाती हैं। सबसे बड़ी विडंबना तो यह है कि इस गांव में चुनावों के समय नेता पहुंचते हैं, लेकिन उसके बाद कोई यहां तक नहीं पहुंचता। बुजुर्गों को तो यह भी पता ही नहीं कि उनके प्रदेश के सीएम कौन है। गांव की महिलाओं ने सरकार से मांग की है कि गांव में मूलभूत सुविधाएं (Basic facilities) तो मुहैया करवाएं ताकि वे अपनी जीवन अच्छे से व्यतीत कर सकें।


हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है