Covid-19 Update

59,059
मामले (हिमाचल)
57,473
मरीज ठीक हुए
984
मौत
11,204,179
मामले (भारत)
116,873,133
मामले (दुनिया)

भडल्या नवमीः विवाह बंधन के लिए अबूझ मुहूर्त का दिन

भडल्या नवमीः विवाह बंधन के लिए अबूझ मुहूर्त का दिन

- Advertisement -

आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को भड़ली या भडल्या नवमी कहते हैं। आज भडल्या नवमी है। इस दिन गुप्त नवरात्र का समापन भी होता है। उत्तर भारत में आषाढ़ शुक्ल नवमी तिथि का बहुत महत्व है। वहां इस तिथि को विवाह बंधन के लिए अबूझ मुहूर्त का दिन माना जाता है। नवमी का दिन होने से गुप्त नवरात्र का समापन भी इस दिन होता है। भारत के दूसरे हिस्सों में इसे दूसरों रूपों में मनाया जाता है।

शास्त्रों के अनुसार भडल्या नवमी विवाह के लिए अक्षय तृतीया के समान ही अबूझ मुहूर्त मानते हैं। इस दिन शादी की जा सकती है। जिन लोगों के विवाह के लिए कोई मुहूर्त नहीं निकलता उनका विवाह इस दिन किया जाए तो उनके वैवाहिक जीवन में किसी प्रकार का व्यवधान नहीं होता। सगाई, विवाह संस्कार, नींव पूजन, गृह प्रवेश, व्यापार आरंभ, वाहन खरीदना आदि कार्य इस तिथि पर किए जा सकते हैं। उत्तर भारतीय इलाकों में ये मान्यता है कि भड़ली नवमी शादी जैसे शुभ संस्कार के लिए एक अबूझ मुहूर्त है। इसके दो दिन बार ही देवशयनी एकादशी है, इस दौरान लगातार चार महीने तक विष्णु भगवान निद्रा में लीन रहते हैं। हिंदू धर्म में इस दौरान कोई भी शुभ काम करने की मना ही होती है। इसके बाद जब देवउठनी एकादशी के दिन जब वो जागते हैं तभी कोई शुभ काम शुरू किए जा सकते हैं। इस वर्ष एक जुलाई को देवशयनी के बाद विवाह आदि अनुष्ठान वर्जित रहेंगे।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है