Expand

तैयारीः Handloom उद्योग को बढ़ावा देने के लिए एक साथ आए भुट्टिटको- Woolmark

तैयारीः Handloom उद्योग को बढ़ावा देने के लिए एक साथ आए भुट्टिटको- Woolmark

- Advertisement -

कुल्लू में पेश किए मेंस वियर और बूमन वियर के तीन शानदार डिजाइन

कुल्लू। ग्रोन इंन ऑस्ट्रेलिया और मेड इन इंडिया अभियान के तहत हैंडलूम उद्योग को बढ़ावा देने के लिए वूलमार्क कंपनी और कुल्लू की भुट्टिटको ने एक बार फिर वैली ऑफ गाड्स में बुल इन हैंडलूम का प्रदर्शन करने के लिए हाथ मिलाया है। लेबल रारा एिवस के जाने-माने फैशन डिजाइनरों ध्रुव बैश और सोनल वर्मा ने तीन शानदार मेंसवियर और बूमन वियर पेश किए हैं, जिसको लेकर कुल्लू के नेचर पार्क में एक फैशन शो का आयोजन किया गया। इस दौरान मैरिनो बूल को पर्यावरण अनुकुल तथा विविधतापूर्ण एवं शानदार प्रदर्शन करने वाले फाइवर के तौर पर पेश किया गया। दा ग्रोन इन ऑस्ट्रेलिया, मेड इन इंडिया प्रयास ऑस्ट्रेलियन मेरिनो बूल की उत्पति की ओर इशारा करता जो प्राकृतिक नवीकरणीय और वोडिग्रेडेबल फाइवर को लगजरी फैशन में उपयुक्त सामग्री के तौर पर पेश किया जा रहा है। यह भारत के पारंपरिक कारीगरी शिल्प कला का सममान और इस देश के ऊन उद्योग को बढ़ावा देता है। कुल्लू के नेचर पार्क में आयोजित फैशन शो में मोरिनो बूल गारमेंट्स प्रदर्शित किए गए, जिन्हें भारत में भुट्‌टिको द्वारा अपने सभी 32 आउटलेट्स में बेचा जाएगा।

ऊन हैंडलूम उद्योग को बढ़ावा देना मकसद

बुलमार्क कंपनी कंट्री मैनेजर इंडिया आरती गुडरल ने बताया क हम ग्रोन इन ऑस्ट्रेलिया, मेड इन इंडिया प्रयास के साथ भारतीय ऊन उद्योग के प्रति अपनी प्रतिवदता को दोहराना चाहते हैं। भुट्‌टिको के साथ सहयोगात्मक प्रयास के साथ ध्रुबवैश औशर सोनल वर्मा कुल्लू के बुनकरों को न सिर्फ बेहतर कुशलता हासिल करने का मौका देंगे, बल्कि भुट्टिको को ऐसे उत्पाद बेचन में भी मदद करते हैं, जो नए जमाने के उपभोक्ताओं को दर्शाता है।

भुट्टिको के अध्यक्ष सत्य प्रकाश ठाकुर ने कहा कि हैंडलूम उद्योग हम से जुड़ा हुआ मामला है और हमारी विरासत का अटूट हिस्सा है। हम ऊन हैंडलूम उद्योग को बढ़ावा देना चाहते हैं। उन्होंने खुशी जाहिर की है कि डिजाइनर सोनल वर्मा और ध्रुबवैश ने हमारी लिए ऐसे विशेष उत्पाद तैयार किए हैं। उन्होंने कहा क बूलमार्क कंपनी के साथ हमारा काफी पुराना संबंध है और हम बुल इन हैंडलूम प्रदर्शनी को ग्रोन इंन ऑस्ट्रेलिया और मेड इन इंडिया प्रयासों के समर्थन में बढ़ावा कदम मानते हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है