Expand

Bindal Attack, नाकामियों की `कांग्रेस सरकार`

Bindal Attack, नाकामियों की `कांग्रेस सरकार`

- Advertisement -

शिमला। आईजीएमसी में सीटें बढ़ाने के प्रपोजल रद होने पर बीजेपी प्रवक्ता और नाहन के विधायक राजीव बिंदल ने प्रदेश सरकार पर हल्ला बोल दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल की गोल्डन जुबली तो धूमधाम से मनाई, लेकिन अस्पताल की कमियों को दूर करने के बारे में नहीं सोचा।

  • bindal1बिंदल ने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार को सत्ता में आए चार वर्ष पूरे हो  चुके हैं। इन चार वर्षों में आईजीएमसी व डॉ. राजेन्द्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज टांडा में एमबीबीएस और एमडी/एमएस की सीटें बढ़ाने के लिए अनेक बार आवेदन किया लेकिन सरकार की नाकामी से एमसीआई की शर्तें पूरी नहीं हो पाईं, जिसका परिणाम है  कि चार वर्षों में एमबीबीएस और एमडी/एमएस की एक भी सीट नहीं बढ़ी।
  • साथ ही सुपर स्पेशिएलिटी के लिए भी कोई सीट न बढ़ना सरकार की नाकामी की ही बानगी है।  डॉ. बिंदल ने कहा कि बीजेपी सरकार, प्रेम कुमार धूमल के नेतृत्व में 2007 में बनी उस समय तक आईजीएमसी में एमबीबीएस की 65 सीटें जबकि डॉ राजेन्द्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज  में 50 सीटें थीं। एमडी/एमएस की भी सीटें 38 थीं। जबकि एमसीएच/एमडी (सुपर स्पेशिएलिटी) की एक भी सीट नहीं थी। तत्कालीन भाजपा सरकार ने 3 वर्षों में आईजीएमसी की सीटों को 65 से बढ़ा कर 100 कर दिया जबकि टांडा मेडिकल कॉलेज में भी सीटों को 50 से बढ़ाकर 100 कर दिया।
  • एमडी/एमएस की सीटें भी 38 से बढ़ाकर 149 कर दीं और एमसीएच/एमडी (सुपर स्पेशिएलिटी) की भी आठ नई सीटें  प्रारम्भ की थीं। पूर्व सरकार ने सभी सुविधाओं एवं मानकों को समय रहते पूरा किया था, जिसके परिणाम स्वरूप एमबीबीएस, एमडी/एमएस  व एमसीएच/एमडी (सुपर स्पेशिएलिटी) की सीटें बढ़ाने में कामयाबी मिली। लेकिन वर्तमान कांग्रेस सरकार इसमें पूरी तरह से विफल साबित हुई है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है