Covid-19 Update

2,00,043
मामले (हिमाचल)
1,93,428
मरीज ठीक हुए
3,413
मौत
29,821,028
मामले (भारत)
178,386,378
मामले (दुनिया)
×

इंदिरा जयंती पर कांग्रेस और बीजेपी दोनों को खूब याद आईं आयरन लेडी

इंदिरा जयंती पर कांग्रेस और बीजेपी दोनों को खूब याद आईं आयरन लेडी

- Advertisement -

अभीअभी टीम। भारत की प्रथम महिला पीएम स्व. इंदिरा गांधी की 101वीं जयंती प्रदेश भर में धूमधाम से मनाई गई। देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू और कमला नेहरू की बेटी इंदिरा को देश आयरन लेडी के रूप में जानता है। इंदिरा का जन्म 19 नवंबर, 1917 को इलाहाबाद में हुआ था। सोमवार को पूरे प्रदेश में स्व. इंदिरा गांधी को याद किया और उन्हें श्रद्वांजलि दी।
शिमला के रिज में इंदिरा गांधी की प्रतिमा पर खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री किशन कपूर ने इंदिरा गांधी को पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। किशन कपूर ने कहा कि इंदिरा गांधी ने बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया, जिससे भारत के प्रत्येक व्यक्ति को लाभ मिला है। हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी की ओर से शिमला में पार्टी मुख्यालय राजीव भवन में आयोजित कार्यक्रम में इंदिरा गांधी का स्मरण करते हुए उन्हें श्रद्वांजलि दी गई। इस अवसर पर पूर्व विधायक रोहित ठाकुर ने स्व. इंदिरा गांधी के जीवन पर प्रकाश डाला।
हमीरपुर के पीडब्लूडी रेस्ट हाउस में इंदिरा जयंती पर कार्यक्रम के दौरान पूर्व विधायक कुलदीप पठानिया, जिला अध्यक्ष नरेश ठाकुर सहित उपस्थित सभी कार्यकर्ताओं ने देश की पूर्व पीएम स्व. इंदिरा गांधी के छाया चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित किए।

धारकंडी कांगे्रस कमेटी ने याद की देश की प्रथम महिला पीएम

शाहपुर। धारकंडी कांगे्रस कमेटी ने सल्ली में देश की प्रथम महिला पीएम स्वर्गीय इंदिरा गांधी की 101वीं जयंती पर कार्यक्रम का आयोजन किया। युवा कांग्रेस नेता केवल सिंह पठानिया ने कांग्रेस जनो सहित इंदिरा गांधी की प्रतिमा पर फूल अर्पित कर उन्हें श्रद्वांजलि दी । इस अवसर पर पठानिया ने इंदिरा गांधी की सोच और बहादुरी पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि वह प्रभावी व्यक्तित्व वाली मृदुभाषी महिला थीं और अपने कड़े से कड़े फैसलों को पूरी निर्भयता से लागू करने का हुनर जानती थीं। उन्होंने जून, 1984 में अमृतसर में सिखों के पवित्र स्थल स्वर्ण मंदिर से आतंकवादियों को बाहर निकालने के लिए सैन्य कार्रवाई को अंजाम दिया था। इसके अलावा 1975 में आपातकाल की घोषणा और उसके बाद के घटनाक्रम को भी उनके एक कठोर फैसले के तौर पर देखा जाता है।


- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है