Expand

Notebandi पर BJP-Congress आमने-सामने

Notebandi पर BJP-Congress आमने-सामने

- Advertisement -

शिमला। 8 नवंबर की रात से 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट बंद करने के फैसले पर अब कांग्रेस और बीजेपी खुलकर आमने-सामने आ गए हैं। पहले कांग्रेस इस मुद्दे पर खुलकर कुछ भी बोलने से बच रही थी, लेकिन अब कांग्रेस ने इसका खुलकर विरोध करना शुरू कर दिया है। कांग्रेस के इस रुख को भांपते हुए बीजेपी ने भी नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फैसले को ऐतिहासिक करार देते हुए विपक्ष को आड़े हाथ लिया है।

  • पीएम के फैसले के विरोध में खुलकर सामने आई कांग्रेस

नोटबंदी के इस फैसले पर शुरू में कांग्रेस फूंक-फूंक कर कदम रख रही थी और इसके नफे-नुकसान का आकलन कर रही थी, लेकिन जैसे-जैसे समय बीतता गया और लोगों की दिक्कतें थमने का नाम नहीं ले रही थीं, उसे देखते हुए अब कांग्रेस ने इस फैसले का विरोध शुरू कर दिया है। कांग्रेस ने राष्ट्रीय स्तर पर इस फैसले पर शुरू में सधी हुई प्रतिक्रिया दी थी कि यह फैसला अच्छा है, लेकिन जिस तरह से इसे जल्दबाजी में लागू किया गया है, वह सरासर गलत है और इसकी मार गरीब लोगों पर पड़ी है। लेकिन अब वह हमलावर हो गई है और खुलकर पीएम मोदी के इस फैसले का विरोध कर रही है।

atm4उधर, आज भी बैंकों के बाहर लोगों की भीड़ है और ग्रामीण इलाकों में लोगों को बैंकों से पैसा नहीं मिल रहा है। एटीएम अभी तक ठप पड़े हुए हैं जिनमें छिटपुट एटीएम में ही पैसा डाला जा रहा है, उसमें भी चंद घंटों में पैसा समाप्त हो जाता है और लोगों को मायूस होकर घर लौटना पड़ता है। सबसे ज्यादा दिक्कत उन लोगों को हो रही है, जिनके घर में शादी है और जिन लोगों को इलाज के लिए शहर जाना पड़ रहा है। क्योंकि शहर में हर कार्य के लिए पैसे की जरूरत रहती है और पुराने नोटों को कोई ले नहीं रहा है। वैसे अस्पतालों में खुली दवाइयों की दुकानों में पुराने नोटों पर दवा दी जा रही है, लेकिन वहां भी छोटे नोटों की कमी से परेशानी हो रही है। शहर में खाने-पीने के लिए तो नए नोटों की ही जरूरत है और वे लोगों को मिल नहीं रहे।

  • नोटबंदी को ऐतिहासिक बताने में जुटी बीजेपी

congress_इन सब पहलुओं को देखते हुए अब कांग्रेस ने मोदी सरकार के इस फैसले का विरोध किया है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि पीएम मोदी ने नोटबंदी का जो फैसला लिया है, वह जल्दबाजी में और बिना किसी तैयारी के लिया है। उनका कहना था कि इस फैसले के कारण देश व प्रदेश में लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है और आज भी स्थिति यह है कि लोगों को लाइन में लग कर अपने पैसे निकालने के लिए घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। उनका कहना था कि नोटबंदी के इस फैसले से देश के हर वर्ग को परेशानी से जूझना पड़ रहा है। छोटे व्यापारी, मजदूर, दिहाड़ीदार, किसान, बागवान और आम जनता इससे प्रभावित हुई है। यही नहीं, देश की अर्थव्यवस्था भी प्रभावित हुई है और दुकानदारों का कारोबार काफी घटा है। सुक्खू ने कहा कि आम जनता अपना काम छोड़कर बैंकों के बाहर लाइन में खड़ी है और देश में आर्थिक आपातकाल जैसी स्थिति बन गई है। उनका कहना था, कि सरकार अपनी नाकामी छिपाने के लिए नोटबंदी के निर्णय में हर दिन परिवर्तन कर रही है और इससे लोगों में लगातार भ्रम की स्थिति बनी है।

bjp4इस बीच, पूर्व सीएम प्रेमकुमार धूमल ने पीएम मोदी के पुराने नोट बंद करने के फैसले को ऐतिहासिक व साहसिक कदम बताते हुए इसकी सराहना की है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के इस फैसले से देश में आतंकवाद पर भी लगाम लगेगी और काला धन रखने वालों पर भी सीधा हमला हुआ है। उनका कहना था कि कांग्रेस और अन्य विपक्षी दल ऐसे हैं जो केंद्र सरकार के हर फैसले का विरोध करते हैं। उन्होंने कहा कि पहले आतंकी शिविरों पर सर्जिकल स्ट्राइक पर विपक्ष सबूत मांग रहा था और अब काला धन रखने वालों पर कार्रवाई को लिए गए नोटबंदी के फैसले पर विरोध कर रहे हैं। धूमल ने कहा कि पीएम मोदी ने पुराने बड़े नोट बंद करके आतंकी घटनाओं को भी रोका है। क्योंकि आतंकवादी पुराने नोटों और जाली करंसी से देश के युवाओं को गुमराह कर देश के खिलाफ इस्तेमाल कर रहे थे। उनका कहना था कि इस फैसले से ड्रग माफिया की भी कमर टूटेगी। आज देश का युवा नशे की गिरफ्त में जा रहा है और अब पुरानी करंसी बंद होने से नशे का धंधा भी बंद होगा। धूमल ने कहा कि पुराने नोट बंद होने से कालाधन भी समाप्त होगा। उन्होंने कहा, कि निश्चित तौर पर कुछ राजनीतिक लोग नोटबंदी का विरोध कर रहे हैं, जबकि आम नागरिक लंबी लाइनों में खड़े होने के बाद भी कह रहा है कि कष्ट तो है, लेकिन कुछ ही दिनों का है और वह इस कष्ट को सहने के लिए तैयार है। जो भी हो, लोगों को इस वक्त नोटबंदी के कारण परेशानी झेलनी पड़ रही है और ग्रामीण इलाकों में यह दिक्कत ज्यादा है, क्योंकि वहां अभी तक नए नोट नहीं पहुंचे हैं। इसके अलावा 2000 रुपए का नोट आने से दिक्कत और बढ़ी है, क्योंकि छोटे नोटों की कमी है। इन हालात में अब कांग्रेस को केंद्र सरकार को घेरने का मौका मिला है और वह इसका खुलकर विरोध करने लगी है। कांग्रेस के विरोधी तेवर देखते हुए बीजेपी ने भी इसे ऐतिहासिक फैसला बताते हुए इसकी खुलकर प्रशंसा की है और इससे देश में बदलने वाले हालात, कालेधन पर रोक लगने और आतंकवाद पर नकेल कसने का जिक्र कर रही है। कुलमिलाकर अब इस मुद्दे पर भी कांग्रेस और बीजेपी में राजनीति गरमा गई है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है