×

BJP नेता बोले- सार्वजनिक माफी मांगें कांग्रेसी, विस उपाध्यक्ष का घेराव करेगी NSUI

बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सुरेश कश्यप ने घटना को निंदनीय दिया करार

BJP नेता बोले- सार्वजनिक माफी मांगें कांग्रेसी, विस उपाध्यक्ष का घेराव करेगी NSUI

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल विधानसभा परिसर (Himachal Assembly Complex) में पक्ष और विपक्ष के बीच हुए धक्का मुक्की का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। एक तरफ जहां बीजेपी (BJP) नेताओं ने कांग्रेस विधायकों के व्यवहार की कड़े शब्दों में निंदा की है और सार्वजनिक रूप से माफी मांगने की मांग की है। वहीं, एनएसयूआई ने कांग्रेस के विधायकों से धक्का-मुक्की किए जाने को लेकर नाराजगी जताते हुए विधानसभा के डिप्टी स्पीकर हंसराज (Deputy Speaker Hansraj) के घेराव का ऐलान किया है। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद सुरेश कश्यप ने कहा कि आज विधानसभा में जिस प्रकार से राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय (Governor Bandaru Dattatreya) के अभिभाषण के बीच में कांग्रेस के नेताओं द्वारा टिप्पणी की गई वह अशोभनीय है, ऐसा इतिहास में पहली बार हुआ है। उन्होंने कहा की उसके बाद जब राज्यपाल महोदय विधानसभा से राजभवन की ओर जा रहे थे तो उनकी गाड़ी को कांग्रेस के विधानसभा सदस्यों द्वारा जिस प्रकार से रोका गया है, वह भी निंदनीय है। राज्यपाल के एडीसी के साथ भी जिस प्रकार से धक्का-मुक्की हुई, वह भी अशोभनीय है। कांग्रेस ने हिमाचल प्रदेश विधानसभा को शर्मसार कर दिया है, इस घटनाक्रम से यह पूरी तरह स्पष्ट होता है कि कांग्रेस हिमाचल प्रदेश में पूरी तरह से बौखला गई है। जिस प्रकार से कांग्रेस (Congress) को लोकसभा चुनाव, हिमाचल प्रदेश के उपचुनाव एवं उसके उपरांत पंचायती राज चुनावों में करारी हार का सामना करना पड़ा है और बीजेपी को एकतरफा बहुमत प्राप्त हुआ है, उससे कांग्रेस को पता चल गया है कि धरातल पर कांग्रेस का कार्यकर्ता और कांग्रेस का वोट बैंक उनके हाथ से निकलता चला जा रहा है।


यह भी पढ़ें: Budget Session : Congress के निलंबित विधायकों का ऐलान, अब करेंगे कुछ ऐसा

कांग्रेस के पास जयराम सरकार के खिलाफ एक भी मुद्दा नहीं

उन्होंने कहा कि इस प्रकार के व्यवहार पर कांग्रेस के सभी नेताओं पर उचित कार्रवाई होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से हिमाचल प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष ने कई विधायकों को निलंबित किया है. वह निर्णय उचित है। कांग्रेस के सभी नेताओं को इस प्रकार के व्यवहार के लिए सार्वजनिक माफी भी मांगनी चाहिए। वरिष्ठ बीजेपी नेता एवं पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल ने कहा कि हिमाचल प्रदेश विधानसभा में जिस प्रकार की घटना हुई है, वह दुर्भाग्यपूर्ण और निंदनीय है। हिमाचल प्रदेश विधानसभा चर्चा का बढ़िया प्लेटफॉर्म है और यहां की लोकतांत्रिक प्रणाली चर्चाओं का अन्य प्रदेशों में उदाहरण प्रस्तुत होता है। उन्होंने यह भी कहा कि राज्यपाल महोदय का पद संविधानिक पद है और इस पद की अपनी एक प्रतिष्ठा और गरिमा होती है। पूर्व सीएम ने राज्यपाल का रास्ता रोकने को संविधान का रास्ता रोकना करार देते हुए कांग्रेस से सवाल किया कि क्या कांग्रेस का विश्वास उसी तरह संविधान से उठ गया है, जैसे कि जनता का विश्वास कांग्रेस से उठ गया है। पूर्व सीएम ने कहा कि मेरा आग्रह है, यदि सभी विधायक उचित समझें तो राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पास करने से पहले इस निंदनीय घटना पर खेद व्यक्त करें ताकि सद्भावना का माहौल बने। हिमाचल बीजेपी के महामंत्री त्रिलोक कपूर ने कहा कि कांग्रेस के पास हिमाचल में जयराम सरकार (Jai Ram Govt) के खिलाफ एक भी मुद्दा नहीं है, ना कांग्रेस के पास कोई नेता है ना नीति है। कांग्रेस इस प्रकार का शर्मसार व्यवहार कर केवल अपने आप को मीडिया में जिंदा रखना चाहती है। कांग्रेस के सभी नेताओं को इस प्रकार के व्यवहार के लिए सार्वजनिक माफी भी मांगनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: Budget Session : हंगामा करने पर नेता प्रतिपक्ष अग्निहोत्री सहित 5 कांग्रेसी विधायक बजट सत्र से निलंबित

 

 

विधानसभा उपाध्यक्ष हंसराज को बर्खास्त करने की मांग

विधानसभा बजट सत्र के दौरान बीजेपी के मंत्री व विधायकों द्वारा कांग्रेस के विधायकों से धक्का-मुक्की किए जाने को लेकर छात्र संगठन एनएसयूआई (NSUI) ने गुस्सा व खासी नाराजगी जाहिर की है और इसे बीजेपी द्वारा की गई एक शर्मनाक घटना करार दिया। प्रदेशाध्यक्ष छत्तर ठाकुर और संगठन महासचिव मनोज चौहान ने कहा कि राज्यपाल द्वारा अभिभाषण पत्र को पूरा पढ़ने के लिए अगर कांग्रेस विधायक जिद्द कर भी रहे थे तो बीजेपी के मंत्रियों और विधायकों को इसमें क्या आपत्ति थी। छत्तर ठाकुर ने आरोप लगाया कि अभिभाषण पत्र जिस पर सदन में चर्चा होनी थी, उसमें कुछ भी सच व तार्किक नहीं था, इसलिए राज्यपाल से उसे पूरा नहीं पढ़ाया गया। कांग्रेस नेताओं के साथ हाथापाई करने को लेकर एनएसयूआई ने विधानसभा उपाध्यक्ष हंसराज को बर्खास्त करने की मांग की है अन्यथा एनएसयूआई हंसराज को काले झंडे दिखाकर उनका घेराव करेगी।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है