×

…तो वीरभद्र सिंह Hamirpur से लड़ें Election

…तो वीरभद्र सिंह Hamirpur से लड़ें Election

- Advertisement -

शिमला।  सीएम वीरभद्र सिंह के अपने विधानसभा क्षेत्र शिमला ग्रामीण सीट से अपने बेटे और प्रदेश युवा कांग्रेस अध्यक्ष विक्रमादित्य सिंह को उतारने के ऐलान के बाद राज्य में सियासी पारा फिर बढ़ गया है। सीएम की इस घोषणा के बाद राजनीतिक दल अपने-अपने स्तर पर इस ऐलान का आकलन करने में जुट गए हैं। हालांकि बीजेपी नेता सीएम वीरभद्र सिंह के इस ऐलान पर मिलीजुली प्रतिक्रिया दे रहे हैं।


  • हमीरपुर सीट कांग्रेस ने पिछले 50 वर्षों में एक बार ही जीती है
  • बेटा पुराने हिमाचल से लड़े चुनाव और सीएम नए हिमाचल से
  • विक्रमादित्य उनकी सीट से चुनाव लड़े कोई बुराई नहींः सुक्खू
  • पर वरिष्ठ नेताओं से सलाह कर ही टिकट तय करेगा हाईकमान

कुछ इसे कांग्रेस का अंदरूनी मामला बता रहे हैं व कुछ का यह कहना है कि अगर सीएम उस सीट से लड़ना चाहते हैं, जहां पर कांग्रेस नहीं जीतती नहीं आई हो तो सीएम को हमीरपुर से चुनाव लड़ना चाहिए। क्योंकि पिछले 50 सालों में हमीरपुर से कांग्रेस मात्र एक ही बार जीत सकी है। वहीं चर्चा यह भी शुरू हो गई है कि क्या हिमाचल का हमीरपुर भी आने वाले समय में पंजाब का लंबी विधानसभा क्षेत्र बनेगा, जहां सीएम पद के दो उम्मीदवार आमने-सामने हैं। गौर हो कि पंजाब के लंबी विधानसभा हलके से मौजूदा सीएम प्रकाश सिंह बादल के खिलाफ कांग्रेस के कैप्टन अमरेंद्र सिंह चुनाव में उतरे हुए हैं। आज सीएम ने अपने सरकारी आवास ओकओवर में अपने विधानसभा हलके के नेता और कर्मचारी बुलाए थे। इस दौरान उन्होंने क्षेत्र में चल रहे विकास कार्यों का भी जायजा लिया और उनकी प्रगति का आकलन भी किया। इस बैठक में प्रदेश युवा कांग्रेस अध्यक्ष विक्रमादित्य सिंह भी मौजूद थे। उनकी मौजूदगी में सीएम ने जब यह ऐलान किया तो वहां मौजूद सभी नेता व अन्य लोग गदगद हो गए। लेकिन, साथ ही कहे गए अन्य शब्दों से सियासी हलके में पारा चढ़ गया। सीएम ने कहा कि वे उस सीट से चुनाव लड़ेंगे, जहां से कांग्रेस अभी तक नहीं जीती है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश की जनता जहां से उन्हें चुनाव लड़ने को कहेगी, वे चुनाव में उतरेंगे।  इससे राजनीतिक हलकों में इस बात पर चर्चा शुरू हो गई है कि सीएम आखिर किस सीट से उतरेंगे। इस मुद्दे पर विपक्षी बीजेपी भी पैनी नजर रखे हुए है।

प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि वीरभद्र सिंह कहां से चुनाव लड़ेंगे, यह कांग्रेस का अंदरूनी मामला है। उनका कहना था कि सीएम जहां से चाहें लड़े, बीजेपी को कोई फर्क पड़ने वाला नहीं हैं। उन्होंने कहा कि वे इससे ज्यादा इस बारे में अधिक कुछ नहीं कहेंगे। लेकिन बीजेपी ने इस बयान का विश्लेषण करना शुरू कर दिया है। उधर, शिमला से विधायक सुरेश भारद्वाज ने इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि बीजेपी कांगड़ा और हमीरपुर में मजबूत है और सीएम को चाहिए कि वे वहां किसी एक सीट से चुनाव लड़े। उन्होंने कहा कि हमीरपुर सीट कांग्रेस ने पिछले 50 वर्षों में एक बार ही जीती है और वहां से स्व. ठाकुर जगदेव चंद से लेकर मौजूदा विधायक व पूर्व सीएम प्रेमकुमार धूमल जीतते रहे हैं। ऐसे में सीएम को हमीरपुर सीट से चुनाव लड़ना चाहिए। भारद्वाज ने कहा कि यह अच्छी बात है कि बेटा पुराने हिमाचल से चुनाव लड़े और खुद सीएम नए हिमाचल से। इससे नए और पुराने हिमाचल की खाई भी मिट जाएगी।  इस बीच, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने कहा कि सीएम ने केवल इच्छा जाहिर की है। वे ऐसा कह सकते हैं कि उनका बेटा उनकी सीट से चुनाव मैदान में उतरे। इसमें कोई बुराई नहीं है। जहां तक टिकट तय करने की बात है, जब समय आएगा तब कांग्रेस हाईकमान प्रदेश के वरिष्ठ नेताओं के साथ सलाह-मशविरा कर उम्मीदवारों को उतारेंगे।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है