Covid-19 Update

21,798
मामले (हिमाचल)
18,575
मरीज ठीक हुए
307
मौत
8,137,119
मामले (भारत)
45,921,789
मामले (दुनिया)

‘ये गांव है वीर जवानों का’: Asia के सबसे बड़े गांव ने देश को दिए हैं 27,000 से अधिक फौजी; जानें

‘ये गांव है वीर जवानों का’: Asia के सबसे बड़े गांव ने देश को दिए हैं 27,000 से अधिक फौजी; जानें

- Advertisement -

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के गाजीपुर (Ghazipur) के गहमर गांव (Gahmar Village) को फौजियों का गांव कहते हैं। इस गांव में कई पीढ़ियों से देश सेवा के लिए फौजी बनना एक परम्परा बन चुकी है। गहमर का हर युवा आज भी फौजियों के गांव की इस परम्परा की विरासत को पूरे जिम्मेदारी से संभाले हुए हैं। गाजीपुर में फौजियों का ये गांव जहां एशिया में सबसे बड़ा गांव है। वहीं, औसतन हर घर में एक सैनिक इस गांव की शान बढ़ा रहा है। वर्तमान में गहमर के 12 हजार से अधिक लोग भारतीय सेना के विभिन्न अंगों में सैनिक से लेकर कर्नल तक के पदों पर कार्यरत हैं। जबकि 15 हजार से ज्यादा भूतपूर्व सैनिक गांव में रहते हैं। बताया जाता है कि सैन्य सेवा को लेकर गहमर की ये परम्परा प्रथम विश्व युद्ध से शुरु हुई। द्वितीय विश्व युद्ध में गहमर के 226 सैनिक अंग्रेजी सेना में शामिल रहे, जिसमें से 21 सैनिक वीरगति को प्राप्त हुये थे।

 

एक लाख 20 हजार है गांव की आबादी

गाजीपुर जिला मुख्यालय से लगभग 40 किलोमीटर दूर गंगा किनारे बसा गहमर एशिया का सबसे बड़ा गांव माना जाता है, जिसकी कुल आबादी एक लाख बीस हजार है। तकरीबन 25 हजार मतदाताओं वाला गहमर 8 वर्ग मील में फैला हुआ है। गहमर 22 पट्टियों या टोले में बंटा है। ऐतिहासिक दस्तावेज बताते हैं कि सन 1530 में कुसुम देव राव ने सकरा डीह नामक स्थान पर गहमर गांव बसाया था। गहमर में ही प्रसिद्ध कामख्या देवी मंदिर भी है, जो पूर्वी उत्तर प्रदेश समेत बिहार के लोगों के लिए आस्था का बड़ा केन्द्र है। लेकिन गहमर की सबसे बड़ी पहचान है यहां के हर घर में एक फौजी से। गांव वाले मां कामाख्या को अपनी कुल देवी मानते हैं और देश सेवा को अपना सबसे बड़ा फर्ज। गहमर गांव के औसतन हर घर से एक पुरुष सेना में कार्यरत है। गांव के हर घर में फौजियों की तस्वीरें, वर्दियां और सेना के मेडल फौजियों के इस गांव की कहानी खुद ही बयान कर देती हैं।

यह भी पढ़ें: ये कैसी आजादी: ना बना रास्ता, ना पुल- बरसात में शेष दुनिया से कट जाता है गांव

 

मां कामख्या स्वयं करती हैं अपने बेटों की रक्षा

गहमर के सैनिकों ने सन 1962,1965 और 1971 के युद्धों में भी भारतीय सेना के लिए अपने हौंसले और जज्बे के दम पर मोर्चा संभाला था। देश सेवा इस गांव के हर बांशिदे के लिए सबसे बड़ी गर्व की बात है। फौजियों के इस गांव की एक सच्चाई ये भी है कि आजादी के बाद से आज तक गहमर के सैनिक विभिन्न युद्धो में अपनी वीरता और शौर्यता का परचम तो फहराते रहे, लेकिन आज तक कोई भी शत्रु सेना उनका बाल भी बांका नही कर पायी। गहमर के लोगों की मान्यता है कि उनकी कुल देवी मां कामख्या हर मोर्चे पर गहमर के अपने बेटों की रक्षा स्वयं करती हैं। यूपी के गाजीपुर जिले के गहमर गांव को पूरे देश में फौजियों के गांव के रुप में पहचाना जाता है। गहमर का हर युवा होश संभालते ही देश सेवा के लिए सेना में भर्त्ती होने के लिए अभ्यास शुरु कर देता है। फौजियों के इस गांव में युवाओं का मकसद सैनिक बनकर देश सेवा ही होता है। पूरा गांव अपने इस जज्बे पर गर्व भी महसूस करता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

राष्ट्रीय संदर्भ में लें निर्णय, जो देश की एकता अखंडता को मजबूत करने वाले हों: IAS प्रोबेशनर्स से बोले PM

Kullu में पकड़ी 209 किलो भुक्की, Punjab के 2 लोग श्रीनगर से लाए थे खेप

हिमाचल में #Corona से दो की Death,मेडिकल कॉलेज नेरचौक में तोड़ा दम

Chamba: घर में लग गई अचानक आग, कमरे में सो रहा व्यक्ति जिंदा जला

हिमाचल High Court ने #Solan के ढाबा मालिक के हत्यारोपी की जमानत याचिका खारिज की

अमेठी में दलित प्रधानपति की जलाकर हत्‍या: Smriti Irani ने दिए जल्द गिरफ्तारी के निर्देश

Basketball Court का मुनीष ने किया शिलान्यास, कोमल ने गिनवाए नप के विकास कार्य

अगली कैबिनेट बैठक में रखा जाएगा NPS कर्मचारियों का मामला

#HP_Transfer: जयराम सरकार ने इधर-उधर किए 19 HPS अधिकारी, यहां पढ़े किसे कहां भेजा

#Dr. Rajesh ने महर्षि वाल्मीकि जी के प्रकटोत्सव पर प्रदेश वासियों को दी हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

किन्नौर के निगम भंडारी हो सकते हैं Himachal Youth Congress अध्यक्ष, विधिवत घोषणा बाद में

#HRTC के हाथ खड़े : कोरोना काल में नहीं मिल रही सवारी, 70 रूट बंद करने की तैयारी

आंखों में दर्द की शिकायत लेकर #Doctor के पास गया शख्स, ऑपरेशन में निकाले 20 जिंदा कीड़े

#Corona_ Update: हिमाचल में आज भी 300 से ज्यादा मामले, 6 की गई जान

CM Jai Ram ने सभी फोरलेन परियोजनाओं को तय सीमा में पूरा करने के दिए निर्देश

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board

#HP_Board ने जारी किया D.El.Ed नियमित व रि-अपीयर वार्षिक परीक्षाओं का Schedule

Big Breaking: शिक्षा बोर्ड ने जमा दो अनुपूरक परीक्षा का Result किया आउट

अब कभी भी-कहीं भी पढ़ाई कर सकेंगे Himachal के छात्र, शिक्षा मंत्री ने किया #Jio_TV का शुभारंभ

#Himachal के इन स्कूलों में सर्दियों की छुट्टियों पर चलेगी कैंची, प्रस्ताव तैयार

जवाहर नवोदय विद्यालय कक्षा 6 का #Entrance_Exam अब 7 नवंबर को

स्कूलों के बाद अब Colleges खोलने की तैयारी, नवंबर से आएंगे Practical विषयों के छात्र

TET Exam में इन अभ्यर्थियों को मिली छूट, बिना आवेदन दे सकेंगे परीक्षा, बस करना होगा ये काम

#Himachal में School खोलने की तैयारी में सरकार, क्या रहेगा प्लान पढ़े यहां

Big Breaking: हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने टैट परीक्षा का शेड्यूल किया जारी- जानिए

#HPBose: 9वीं, 10वीं, 11वीं और 12वीं कक्षाओं के छात्रों को बड़ी राहत- पढ़ें खबर

हिमाचल में 100% मास्टर जी लौट आए #School, बनने लगा स्टूडेंट्स के लिए माइक्रो प्लान

SMC शिक्षकों को बड़ी राहत, #Supreme_Court ने हिमाचल हाईकोर्ट के फैसले पर लगाई रोक

गोविंद ठाकुर बोले- #Himachal में स्कूल खोलने हैं या नहीं, 9 को होगा फैसला

शिक्षा विभाग ने तैयार किया #Himachal में स्कूल खोलने का प्रस्ताव; जानें क्या है योजना

D.El.Ed CET 2020: 12 से 23 अक्टूबर तक होगी स्क्रीनिंग, अभ्यर्थी करें ऐसा



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है