Story in Audio

Story in Audio

ठंड से बचाने वाली चाय, और भी कई मायनों में है मददगार पढ़ेंगे तो चलेगा पता

किन्नौर में 18 हजार फीट की ऊंचाई में पाई जाती हैं इसकी पत्तियां

ठंड से बचाने वाली चाय, और भी कई मायनों में है मददगार पढ़ेंगे तो चलेगा पता

- Advertisement -

रिकांगपियो। सर्दियों के दिनों में ठंड से बचाने वाली चाय और कहीं नहीं बल्कि हिमाचल प्रदेश में ही पाई जाती है। ये ऐसी चाय है जो औषधीय गुणों से पूरी तरह से भरपूर है। किन्नौरी चाय कहते हैं इसे,इसकी पत्ती किन्नौर की पहाड़ियों पर करीब 15 से 18 हजार फीट की ऊंचाई पर मिलती हैए जिसे लेने के लिए लोगों को वर्ष में एक बार पहाड़ियों पर जाना पड़ता है। किन्नौर में अधिकतर लोग किन्नौरी चाय ही पीते हैं। यहां की मेहमान नवाजी किन्नौरी चाय से ही शुरु होती है। यहां की नमकीन किन्नौरी चाय ठंड से तो बचाती ही है साथ ही शरीर में पानी की कमी पूरी करती है, गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य को ठीक रखती है। इतना ही नहीं बुजुर्गों को हड्डियों का दर्द नहीं होने देती, पहाड़ों में चढ़ने से थकावट का एहसास नहीं होने देती,शरीर में खून की सफाई के लिए लाभदायक रहती है साथ ही शूगर लेवल ठीक रखने में भी मददगार होती है। इस चाय को पीकर चलते हुए रास्ते में थकावट नहीं होती।


सर्दियों में भारत-चीन सीमा पर तैनात जवान भी इस चाय का उपयोग करते हैं। शरीर को गर्म रखने व ऊंचाई पर चढ़ते हुए थकावट ना हो इसी कारण सेना के जवान किन्नौरी चाय का सेवन करते हैं। नमकीन चाय को बनाने की विधि थोड़ी अलग है। इस चाय को मिट्टी के चूल्हे पर बनाया जाता है। सबसे पहले आम चाय की तरह गर्म पानी किया जाता है, इसके बाद पहाड़ों से निकाली गई प्राकृतिक शिंग चा यानी पहाड़ों में पाई जाने वाली लकड़ी चाय को एक स्पेशल कपड़े में बांधकर पानी के बर्तन रखा जाता है, जब तक इसमें एक विशेष रंग न आ जाएए फिर इसे करीब आधा घंटा तक उबाला जाता है। इसके बाद इस चाय पत्ती के कपड़े को बाहर निकाला जाता है और फिर पानी को उबलने दिया जाता है। चाय में डलने वाली सामग्री को तैयार किया जाता है। इसमें मुख्य रूप से अखरोट, गाय का दूध, किन्नौरी मक्खन और अन्य सूखे मेवों को पीसकर स्पेशल किन्नौरी धूप की लकड़ी से बने एक लंबे बर्तन में एक साथ चढ़ाया जाता है और करीब 15 मिनट लंबी लकड़ी से हिलाकर सामग्री को मिलाया जाता है। जब इस बर्तन से चाय की सामग्री की खुशबू आने लगती है तो चाय को बर्तन में डालकर हिलाया जाता है और अंत में लकड़ी के लंबे बर्तन से चाय के पतीले में नमकीन चाय को डाला जाता है। इसे खूब उबाला जाता है। जब तक इसकी खुशबू पूरे घर में ना फैल जाए।

इसकी उत्पति किन्नौर व तिब्बत से हुई, ये बात उस समय की है जब सैकड़ों वर्ष पूर्व किन्नौर व तिब्बत के व्यापारिक रिश्ते काफी अच्छे हुआ करते थे। किन्नौर के लोग यहां से अनाज तिब्बत ले जाते थे और वहां से नमक किन्नौर लेकर आते थे। चूंकि तिब्बत में अनाज की कमी होती थी और किन्नौर में नमक की कमी होती थीए तिब्बत में लकड़ी की चाय पत्ती नहीं होती थी और इसलिए तिब्बत के लोग इसे किन्नौर से तिब्बत ले जाते थे। इस लकड़ी को किन्नौर में शिंग चा कहते हैं।

 

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस Link पर Click करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

टांडा: मरीज ने झटका हाथ तो Doctor ने जड़ दिया थप्पड़, फिर शुरू हुआ दे-दना-दन

Tourism को बढ़ाने के लिए घटाए शराब के दाम, कृषि मंत्री ने दिया स्पष्टीकरण

लारजी के ग्रामीणों ने Kangra Airport पर Anurag Thakur को सुनाया अपना दुखड़ा

सुंदरनगर: जड़ोल में बाप-बेटे पर कातिलाना हमले पर High Court ने 10 को जारी किए Notice

HPU में एमफिल -पीएचडी में एक सीट दिव्यांग के लिए होगी आरक्षित, अधिसूचना जारी

जयराम सरकार की नई Excise Policy के विरोध में उतरी DYFI और ABVP

Dehra-Haripur सड़क निर्माण में गडबड़, Tender रद्द, ठेकेदार को लगेगा जुर्माना-होगी जांच

देहरा में CU के स्‍थायी कैंपस का निर्माण कार्य को लेकर क्या बोले Anurag, पढ़ें

नादौन में Irrigation Scheme की मशीनों पर चोरों ने किया हाथ साफ

जयराम के सामने अनुराग हुए Ignore तो सीएम ने प्रिंसिपल को लताड़ा

भूमि विवाद इतना बढ़ा कि युवक के सिर पर मार दी रॉड, PGI रेफर

SP Una In Action: अवैध खनन में जुटे वाहनों से वसूला करीब 3 लाख जुर्माना

सीएम जयराम 6 मार्च को करेंगे बजट पेश, Budget Session के दौरान होंगी कुल 22 बैठकें

घालूवाल और देहलां में पुलिस ने अवैध शराब के साथ दबोचे दो

Himachal की राजधानी Shimla में जाने से पहले सोच लें, प्रशासन ने क्या कहा है

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

विज्ञान विषयः अध्याय-10... प्रकाश-परावर्तन तथा अपवर्तन

Students के लिए अब आसान होगी केलकुलेशन, शिक्षा बोर्ड करेगा कुछ ऐसा

विज्ञान विषयः अध्याय-9......... अनुवंशिकता एवं जैव विकास

विज्ञान विषयः अध्याय-8......... जीव जनन कैसे करते हैं?

इस बार दो लाख 17 हजार 555 छात्र देंगे बोर्ड परीक्षाएं, 15 से Practical

शिक्षा बोर्डः 10वीं और 12वीं के Admit Card अपलोड, फोन नंबर भी जारी

ब्रेकिंगः HP Board ने इस शुल्क में की कटौती, 300 से 150 किया

विज्ञान विषयः अध्याय-7......... नियंत्रण एवं समन्वय

विज्ञान विषयः अध्याय-6......... जैव प्रक्रम

बोर्ड इन छात्रों को पेपर हल करने के लिए एक घंटा देगा अतिरिक्त, डेटशीट जारी

विज्ञान विषयः अध्याय-5......... तत्वों का आवर्त वर्गीकरण

बोर्ड एग्जाम में आएंगे अच्छे मार्क्स,  बस फॉलो करें ये ख़ास टिप्स

विज्ञान विषयः अध्याय-4… कार्बन और इसके घटक

Breaking: ग्रीष्मकालीन स्कूलों की 9वीं और 11वीं वार्षिक परीक्षा की Date Sheet जारी

विज्ञान विषयः अध्याय-3 ……धातु एवं अधातु


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है