सभी के पाप-पुण्य का हिसाब रखते भगवान चित्रगुप्त

सभी के पाप-पुण्य का हिसाब रखते भगवान चित्रगुप्त

- Advertisement -

मनुष्यों के पाप और पुण्य का हिसाब रखने वाले भगवान चित्रगुप्त का नाम तो सबने सुना होगा। हम सदियों से सुनते आए हैं कि मृत्यु के बाद हर मनुष्य का हिसाब धर्मपुरी में किया जाता है। वहां पर भगवान चित्रगुप्त धर्मराज की नगरी में सभी लोगों के पाप-पुण्य का हिसाब देखते हैं, पर इन्हें यह दायित्व कैसे दिया गया उसके पीछे भी एक कहानी है …
कहते हैं ब्रह्मा ने सृष्टि की रचना की और उसकी रक्षा का भार अपने ज्येष्ठ पुत्र पर सौंप कर समाधि लगा ली। हजारों वर्ष बीत गए ब्रह्मा विश्राम में थे, तब उनके शरीर से श्यामवर्ण… कमलवत् नेत्रों, लंबी भुजाओं वाले अति बुद्धिमान और तेजस्वी पुरुष प्रकट हुए। उनके हाथ में कलम और दवात थी। आंख खुलने पर जब ब्रह्मा ने उन्हें देखा तो पूछा- हे पुरुषोत्तम आप कौन हैं? उन्होंने उत्तर दिया- मैं आपके ही शरीर से उत्पन्न हुआ हूं और आपका ही पुत्र हूं। आप मेरा नामकरण करें और मेरे योग्य कार्य भी बताएं ताकि मैं आपकी सृष्टि में शामिल हो सकूं। ब्रह्मा ने कहा चूंकि तुम मेरे शरीर से उत्पन्न हुए इसलिए तुम्हारी संज्ञा कायस्थ है। पृथ्वी पर तुम्हारा नाम चित्रगुप्त विख्यात होगा।
धर्मपुरी में धर्म-अधर्म विचार के लिए तुम्हारा निश्चित निवास होगा। अब तुम अपना काम आरंभ कर सकते हो। ब्रह्मा जी वर देकर चले गए चित्रगुप्त के वंश में जो भी पुत्र हुए उन्होंने उन सबको पृथ्वी पर भेजा और शिक्षा दी कि वे देवताओं के पूजन, पितरों का श्राद्ध-तर्पण, ब्राह्मणों का पालन तथा अभ्यागतों की सेवा करें तथा देवी महिषमर्दिनी का पूजन करें। कहते हैं कि चित्रगुप्त का प्रभाव व्यापक है उनकी पूजा के चलते ही भीष्म को इच्छामृत्यु का वरदान प्राप्त हुआ था। ऋषि मुनियों का कहना है कि इस मृत्युलोक के ऊपर एक दिव्य लोक है जहां न जीवन का हर्ष है और न मृत्यु का शोक… वह लोक जीवन मृत्यु से परे है।
इस दिव्य लोक में देवताओं का निवास है और फिर उनसे भी ऊपर विष्णु लोक, ब्रह्मलोक और शिवलोक है। जीवात्मा जब अपने प्राप्त शरीर के कर्मों के अनुसार विभिन्न लोकों को जाता है। जो जीवात्मा विष्णु लोक, ब्रह्मलोक और शिवलोक में स्थान पा जाता है उन्हें जीवन चक्र में आवागमन यानी जन्म मरण से मुक्ति मिल जाती है। जो जीवात्मा अपने पाप कर्म से दूषित हो जाता है, उन्हें यमलोक जाना पड़ता है। मृत्यु काल में इन्हें साथ ले जाने के लिए यमलोक से यमदूत आते हैं। यमराज के दरबार में उस जीवात्मा के कर्मों का लेखा जोखा होता है। कर्मों का लेखा-जोखा रखने वाले भगवान हैं चित्रगुप्त। यही भगवान चित्रगुप्त जन्म से लेकर मृत्युपर्यन्त जीवों के सभी कर्मों को अपनी पुस्तक में लिखते रहते हैं और जब जीवात्मा यमराज के समझ पहुंचता है तो उनके कर्मों को एक-एक कर सुनाते हैं और उन्हें अपने कर्मों के अनुसार क्रूर नjक में भेज देते हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

यहां जानें Himachal में कब तक साफ रहेगा मौसम, March महीने में हुई 55% ज्यादा बारिश

COVID-19: सोलन जिला में कर्फ्यू के उल्लंघन पर 16 के खिलाफ FIR दर्ज

सब्जी मंडी का विवाद सुलझा, दुकानदारों ने सेरी मंच पर लगाई सब्जी की अस्थाई दुकानें

Nahan: प्रवासी विवाहिता ने कमरे में फंदा लगाकर दे दी जान

राज्यपाल के निर्देश: गैर पंजीकृत प्रवासी मजदूरों को पंजीकृत कर जारी करें Identity card

जयराम बोले : अवधि से पहले बाहर आ रहे लोगों की निगरानी रखेगा क्वारंटाइन App

Corona के शोर के बीच Jai Ram ने औद्योगिक घरानों को Facilities देने का फेंका पासा

Paonta से जंगल के रास्ते पैदल Nerwa पहुंचे 12 लोग, पुलिस ने दर्ज किया मामला

Corona के शोर के बीच Sarveen पहुंची धर्मशाला, अधिकारियों से ली जानकारी

Mandi में तब्लीगी जमात के 13 और सदस्य, पुलिस-स्वास्थ्य विभाग की टीम ने की जांच

Kangra के लिए राहत भरी खबर, 6 सैंपलों की रिपोर्ट आई नेगेटिव

Himachal में 5,281 लोग Quarantine में, तब्लीगी जमात से शिमला पहुंचे 11 पर मामला दर्ज

First Hand : कोरोना वायरस के शोर के बीच आ गई Jai Ram Cabinet की कॉल, महत्वपूर्ण रहेगी

Liquor Shop में सेंध, शातिरों ने रातोंरात चोरी की 90 हजार की शराब

देश में Coronavirus से सबसे कम उम्र की पहली मौत, 25 साल के युवक की गई जान

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

विज्ञान विषयः अध्याय-16 ... प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन

किन्नौर, भरमौर व पांगी में 10वीं और 12वीं की Practical परीक्षा की तिथि घोषित

विज्ञान विषयः अध्याय-15 ... हमारा पर्यावरण

विज्ञान विषयः अध्याय-14 ... ऊर्जा के स्त्रोत

विज्ञान विषयः अध्याय-13 ... विद्युत धारा के चुंबकीय प्रभाव

Board Exam के पहले दिन नकल के तीन मामले, अधीक्षक और स्टाफ ड्यूटी से हटाए

HP Board की परीक्षाओं से पहले CM जयराम ने छात्रों के लिए जारी किया Video मैसेज, देखें

Board Exam के दौरान ये अधिकारी करेंगे आपकी समस्याओं का समाधान

HP Board: 10वीं-12वीं की परीक्षाओं की तैयारियां पूरी, इन इलाकों में हेलीकॉप्टर से भेजे गए प्रश्नपत्र

विज्ञान विषयः अध्याय-12 ... विद्युत

दुविधा में छात्रः SOS 10वीं और जमा एक का पेपर एक दिन-क्या कहना बोर्ड का जानिए

नकल की सूचना के लिए जारी हुआ Toll Free नंबर, घुमाते ही होगा ऐसा कुछ जाने

हिमाचल के स्टूडेंट स्कूलों में करेंगे Vedic Maths की पढ़ाई

SOS 8वीं, 10वीं और 12वीं परीक्षा के Admit Card जारी, वेबसाइट से करें डाउनलोड

Himachal में सुधरा शिक्षा का स्तर, Performance Grading Index में छठा रैंक


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है