Covid-19 Update

20,817
मामले (हिमाचल)
17,978
मरीज ठीक हुए
293
मौत
7,990,322
मामले (भारत)
44,285,074
मामले (दुनिया)

Himachal में हर साल कितनी गिर रही बर्फ, प्रभावित क्षेत्रों का अब लगाया जा सकेगा अनुमान

Himachal में हर साल कितनी गिर रही बर्फ, प्रभावित क्षेत्रों का अब लगाया जा सकेगा अनुमान

- Advertisement -

हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा एचपी काउंसिल फॉर साइंस टेक्नोलॉजी एंड एन्वायरमेंट (HP Council for Science Technology and Environment) के तत्वावधान में राज्य जलवायु परिवर्तन केंद्र विभिन्न पहलुओं पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव को समझने के लिए अध्ययन कर रहा है। राज्य जलवायु परिवर्तन केंद्र ने अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंन्द्र, अहमदाबाद, भारत सरकार के सहयोग से हिमाचल हिमालय में हिम, हिमनदों से संबंधित अध्ययन करने में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के अनुप्रयोगों का सफलतापूर्वक उपयोग किया है। क्रोयोस्फेरिक अध्ययन एक महत्त्वपूर्ण अध्ययन है क्योंकि राज्य का एक तिहाई भाग इस महान हिमालय अभ्यारण की विशेषता है और इस अध्ययन क्षेत्र की दुर्गमता के कारण किसी भी अन्य पारंपरिक पद्धति के उपयोग से संभव नहीं है। हिमाचल प्रदेश राज्य में उच्च ऊंचाई पर बर्फ गिरती है और राज्य के कुल भौगोलिक क्षेत्र का लगभग एक तिहाई भाग सर्दियों के मौसम (Winter season) में घनी बर्फ की चादर के नीचे रहता है। हिमालय से निकलने वाली नदियां मुख्यतः चवाब, ब्यास, पार्वती, बासपा, स्पीति, रावी, सतलुज और इसकी बारहमासी सहायक नदियों में से अधिकांश प्रमुख नदियां अपने निर्वहन निर्भरता के लिए मौसमी हिम आवरण पर निर्भर करती हैं। इसके अलावा, बर्फ का आवरण राज्य में ग्लेशियर क्षेत्रों में संचय और पृथक्करण पैटर्न को नियंत्रित करने में भी मदद करता है।

यह भी पढ़ें: हिमालय में बर्फ पिघलने के कारण बनी सभी Glacier Lakes की Mapping की तैयारी

 

 

 

सर्दियों में गिरने वाली बर्फ नदी घटियों के जल-विज्ञान को नियंत्रित करती है और इसके महत्त्व को ध्यान में रखते हुए निदेशक पर्यावरण विज्ञान एवं तकनीकी एवं सदस्य सचिव हिमएचपी काउंसिल फॉर साइंस टेक्नोलॉजी एंड एन्वायरमेंट डीसी राणा ने बताया कि हालांकि हमें कुल बर्फ गिरने (Total snowfall) की जानकारी हमारी विभिन्न वेधशालाओं से मिलती है पर वो एक प्वाइंट सूचना होती है। इसलिए इससे बर्फ प्रभावित क्षेत्रों का अनुमान नहीं लगाया जा सकता है। इस प्रकार विभिन्न उपग्रहों के डेटा का उपयोग करके अब सर्दियों के बर्फ प्रभावित क्षेत्र का अनुमान लगाना संभव हो गया है। उन्होंने कहा कि केंन्द्र ने सर्दियों के मौसम में विभिन्न उपग्रहों के डाटा के उपयोग से बर्फ प्रभावित क्षेत्र का अनुमान लगाया है जोकि विभिन्न नदियों के जल विज्ञान में बर्फ के योगदान को समझने में एक महत्त्वपूर्ण जानकारी है। हिमाचल प्रदेश में सर्दियों में बर्फबारी की वर्तमान प्रवत्ति को ध्यान में रखते हुए, सभी बेसिनों जैसे चंद्रा, भागा, मियार, ब्यास, पार्वती, जिवा, पिन, स्पीति और बसपा में बर्फ का मानचित्रण किया गया, जिसमें एडब्ल्यूआइएफएस उपग्रह डेटा (अक्तूबर से मई) का उपयोग किया गया, जिसकी स्पेशियल रेज्यूलेशन 56 मीटर थी। अक्तूबर 2019-20 के दौरान प्रत्येक माह में बर्फ के तहत कुल क्षेत्र के औसत मूल्य के संदर्भ में बर्फबारी का अनुमान लगाया गया और मई 2018-19 के साथ इसका तुलनात्मक विश्लेषण किया गया।

 

 

सर्दियों के महीनों (नवंबर से जनवरी) के दौरान, हम कह सकते हैं कि राज्य के दक्षिणपूर्वी हिस्से में 2019-20 की सर्दियों में अधिक बर्फ पायी गई, बल्कि बेसिन (जैसे ब्यास और रावी) की तुलना में सतलुज बेसिन मुख्य रूप से शामिल था। जबकि, चिनाब में 2018-19 की तुलना में 2019-20 में बर्फ आवरण क्षेत्र में बहुत अधिक परिवर्तन नहीं दिखा। अन्य सर्दियों के महीने यानी अक्तूबर, फरवरी और मार्च, सभी बेसिन में 2019-20 की तुलना 2018-19 से करने पर, बर्फ आवरण में कमी पायी गई, जो यह दर्शाता है कि शेष सर्दियों के महीनों के दौरान जनवरी के बाद में गिरावट आई हैं। गर्मियों के महीनों यानी अप्रैल और मई के विश्लेषण (Analysis) से पता चला है कि चिनाब बेसिन में, अप्रैल में कुल बेसिन क्षेत्र का 87 प्रतिशत और मई में लगभग 65 प्रतिशत अभी भी बर्फ के प्रभाव में है जो यह दर्शाता है कि कुल बेसिन क्षेत्र के लगभग 22 प्रतिशत हिस्से में बर्फ अप्रैल और मई में पिघल चुकी हैं। दूसरे शब्दों में, हम यह सकते हैं कि कुल बेसिन क्षेत्र का लगभग 65 प्रतिशत अगले (जून से अगस्त) के दौरान पिघल जाएगा, जो चिनाब नदी के बहाव में योगदान देगा। इसी तरह, अप्रैल और मई के महीने में ब्यास बेसिन में कुल बेसिन क्षेत्र का 49 प्रतिशत और लगभग 45 प्रतिशत हिस्सा बर्फ आवरण पर प्रभाव डालता हैं, जो यह दर्शाता है कि कुल बेसिन क्षेत्र का 4 प्रतिशत हिस्से की बर्फ ब्यास नदी में पिघल। इसी तरह ब्यास के कुल बेसिन क्षेत्र का 45 प्रतिशत गर्मियों में पिघल कर पानी की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उपलब्ध होगा। रावी बेसिन में अप्रैल में 44 प्रतिशत और मई में कुल बेसिन क्षेत्र का लगभग 26 प्रतिशत क्षेत्र बर्फ के अंतर्गत आता है, जो यह दर्शाता है कि अप्रैल और मई के बीच कुल बेसिन क्षेत्र की 18 बर्फ पिघली। इसी प्रकार कुल बेसिन क्षेत्र का केवल 26 प्रतिशत बर्फ का पानी अगले महीनों के दौरान रावी बेसिन से पानी की जरूरतों को पूरा करने के लिए उपलब्ध होगा।

 

 

इसी तरह, बसपा, पिन और स्पीति के सतलुज बेसिनों से पता चलता है कि अप्रैल में बेसिन क्षेत्र का लगभग 72 प्रतिशत और मई में 50 प्रतिशत हिस्सा बर्फ के अंतर्गत था, जो दर्शाता है कि सतलुत बेसिन में, अप्रैल और मई के दौरान लगभग 22 प्रतिशत बर्फ पिघली और शेष 50 प्रतिशत बर्फ का पानी अगले वर्ष 2019-20 पानी की जरूरतों को पुरा करने के लिए उपलब्ध होगा।
हिमाचल प्रदेश में (अक्तूबर से मई) 2019-20 के दौरान बर्फ कवर मेपिंग ऐनेलाइजिज से पता चलता है कि हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) में कुल बर्फ में लगभग 0.72 प्रतिशत कमी देखी गई। 2018-19 और 2019-20 की तुलना के तहत बर्फ का कुल औसत क्षेत्र 20210.23 वर्ग किलोमीटर से घटकर 20064.00 वर्ग किलोमीटर हुआ। सर्दियों के दौरान, फरवरी से बर्फ आवरण क्षेत्र धीरे-धीरे कम हो गया है, जो गर्मियों के दौरान नदी के बहाव को प्रभावित कर सकता है। विश्लेषण किए गए आंकड़ों के आधार पर, ब्यास और रावी बेसिन की तुलना में (नवंबर से जनवरी) सतलुज बेसिन में अधिक बर्फ आवरण देखा गया, जबकि चिनाब बेसिन ने इस अवधि के दौरान बर्फ आवरण क्षेत्र में ज्यादा बदलाव नहीं देखा गया। विश्लेषण के आधार पर यह पाया गया कि चिनाब (कुल बेसिन क्षेत्र का 65 प्रतिशत), सतलुज बेसिन (कुल बेसिन क्षेत्र का 50 प्रतिशत), ब्यास बेसिन 45 प्रतिशत और रावी बेसिन 26 प्रतिशत में बर्फ प्रभावित क्षेत्र मई 2020 के बाद पानी की जरूरतों को पूरा करने के लिए उपलब्ध रहेगा।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

CM Jai Ram के गृह जिला में खुलेगा Himachal का पहला मॉडल नशा मुक्ति-पुनर्वास केंद्र

#HP_Protest: श्रम कानूनों के विरोध में प्रदेश भर में गरजा भारतीय मजदूर संघ, ज्ञापन सौंप दी यह चेतावनी

#Sirmaur: कालाअंब- पांवटा NH पर चलती Car में लगी आग, चालक की बची जान

#Manali: तीन भाइयों के मकान में लगी Fire, घर को जलता देख बड़े भाई को पड़ा दिल का दौरा

NPS कर्मी करेंगे 24 को पेन डाउन स्ट्राइक, सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप

भारतीय सेना में निकली JAG 26, SSC टेक 56 समेत 199 पदों पर वैकेंसी; जल्द करें अप्लाई

4 साल में पहली बार किसी IPL मैच में विकेट लेने में नाकाम रहे कगिसो रबाडा

अमिताभ भारत के सबसे भरोसेमंद सेलिब्रिटी, #Hardik_Pandya सबसे विवादास्पद: सर्वे

80 साल साथ रहा दुनिया का सबसे वृद्ध शादीशुदा कपल; पति का 110 साल की उम्र में निधन

#Bihar चुनाव LIVE:पहले चरण में 71 सीटों के लिए वोटिंग शुरू, PM मोदी ने की यह अपील

ड्रग ड्राइविंग के आरोप में पकड़ा गया Delivery Boy, पुलिस वालों ने की कबाब की डिलीवरी

#BJP अध्यक्ष बोले- हिमाचल में तीसरे दल का कोई अस्तित्व नहीं, राजन सुशांत महत्वाकांक्षी

#Corona Update: हिमाचल में बना यह रिकॉर्ड, आज 231 मामले आए सामने-214 ठीक

मौसम: लाहुल घाटी में ताजा #Snowfall, रोहतांग, बारालाचा, और कुंजम दर्रा में चार से पांच सेमी बर्फबारी

#Panchayat_Election: आयोग ने बैलेट पेपर की छपाई का दिया Order, छपेंगे सवा तीन करोड़ पेपर

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board

अब कभी भी-कहीं भी पढ़ाई कर सकेंगे Himachal के छात्र, शिक्षा मंत्री ने किया #Jio_TV का शुभारंभ

#Himachal के इन स्कूलों में सर्दियों की छुट्टियों पर चलेगी कैंची, प्रस्ताव तैयार

जवाहर नवोदय विद्यालय कक्षा 6 का #Entrance_Exam अब 7 नवंबर को

स्कूलों के बाद अब Colleges खोलने की तैयारी, नवंबर से आएंगे Practical विषयों के छात्र

TET Exam में इन अभ्यर्थियों को मिली छूट, बिना आवेदन दे सकेंगे परीक्षा, बस करना होगा ये काम

#Himachal में School खोलने की तैयारी में सरकार, क्या रहेगा प्लान पढ़े यहां

Big Breaking: हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने टैट परीक्षा का शेड्यूल किया जारी- जानिए

#HPBose: 9वीं, 10वीं, 11वीं और 12वीं कक्षाओं के छात्रों को बड़ी राहत- पढ़ें खबर

हिमाचल में 100% मास्टर जी लौट आए #School, बनने लगा स्टूडेंट्स के लिए माइक्रो प्लान

SMC शिक्षकों को बड़ी राहत, #Supreme_Court ने हिमाचल हाईकोर्ट के फैसले पर लगाई रोक

गोविंद ठाकुर बोले- #Himachal में स्कूल खोलने हैं या नहीं, 9 को होगा फैसला

शिक्षा विभाग ने तैयार किया #Himachal में स्कूल खोलने का प्रस्ताव; जानें क्या है योजना

D.El.Ed CET 2020: 12 से 23 अक्टूबर तक होगी स्क्रीनिंग, अभ्यर्थी करें ऐसा

Himachal में 530 हेड मास्टर और लेक्चरर बने प्रिंसिपल, पर वेतन बढ़ोतरी को करना होगा इंतजार

बिग ब्रेकिंगः हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने आठ विषयों की TET परीक्षा का Result किया आउट



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है