Story in Audio

Story in Audio

जलोड़ी दर्रे की बर्फ से ढकी खामोश वादियां पर्यटकों को करती हैं आकर्षित

घूमने के लिए यहां है प्राकृतिक सौंदर्य से लबरेज खूबसूरत स्थल

जलोड़ी दर्रे की बर्फ से ढकी खामोश वादियां पर्यटकों को करती हैं आकर्षित

- Advertisement -

परस राम भारती/बंजार। जलोड़ी दर्रा हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिला में हिमालय पर्वत की चोटी पर स्थित एक ऊंचा दर्रा है जिसकी ऊंचाई समुद्र तल से करीब से दस हजार फुट है। यह दर्रा इनर सराज और बाह्य सराज के मध्य स्थित कुल्लू जिला (Kullu District) के बंजार और आनी उपमंडल को आपस में जोड़ता है। जलोड़ी दर्रा से पूर्व की ओर बाह्य तथा पशिचम की ओर इनर सराज का खूबसूरत नजारा देखने को मिलता है। यहां तक सड़क मार्ग द्वारा आसानी से पहुंचा जा सकता है। यह दर्रा सर्दियों के मौसम में भारी बर्फबारी होने के कारण अक्सर मध्य दिसंबर से फरवरी माह तक वाहनों की आवाजाही के लिए बंद रहता है जो आमतौर पर हर साल मार्च माह के दूसरे सप्ताह में खुलता है। इस दौरान बाह्य सराज के आनी और निरमंड खंड की 58 पंचायतों के हज़ारों लोगों को जिला मुख्यालय कुल्लू में अपने सरकारी व जरूरी कार्य करने के लिए जलोड़ी दर्रा हो कर पैदल ही करीब 6 से 8 फुट बर्फ के बीच बंजार पहुंचना पड़ता है या तो उन्हें भारी भरकम पैसा खर्च करके वाया शिमला करसोग व मंडी होकर कई किलोमीटर का सफर तय करके जिला मुख्यालय कुल्लू पहुंचना पड़ता है।


जलोड़ी दर्रा, जिभी, शोजागढ़, रघुपूर गढ़, खनाग, टकरासी और सरेउलसर झील जैसे प्राकृतिक सौंदर्य (Natural beauty) से लबरेज खूबसूरत स्थल वर्षों पहले ही साहसिक पर्यटन के नक्शे पर आ चुके हैं। यह स्थल अंग्रेजी शासन के समय से ही देशी-विदेशी पर्यटकों (Tourists) को आकर्षित करते रहे हैं। यहां का प्राकृतिक सौंदर्य अंग्रेजों को भी खूब भाता था जो अक्सर यहां पर आते-जाते रहते थे, यहां पर उन्होंने उस समय शोजागढ़ में अपने ठहरने के लिए एक गेस्ट हाउस का निर्माण किया था जहां पर ठहराव के पश्चात वह आगे शिमला का सफर तय करते थे। यह गेस्ट हाउस आज भी यहांभ्रमण करने वाले अतिथियों क लिए हर समय उपलब्ध रहता है। इसके अलावा इस समय शोजागढ़ में वन विभाग द्वारा बनाया गया एक अन्य सरकारी रेस्ट हाउस भी उपलब्ध है।

आजकल भारी बर्फबारी के कारण जलोड़ी दर्रा समेत पूरी जिभी घाटी अपनी अलग ही खुबसूरती पेश कर रही है। यहां की पहाड़ों का दृश्य मौसम के साथ-साथ बदलता रहता है। हर मौसम में यहां की वादियां अपना अलग-अलग आकर्षण व नजारा पेश करती हैं। मौसम बदलते ही यहां की वादियों का रंग रूप भी बदल जाता है। यहां पर बर्फ से ढकी चोटियां, हरे भरे जंगल, ऊंचे पहाड़ों से गिरते हुए झरने, परिन्दों की सुरलेहरिओं से गुनगुनाती धारें, उफनती गरजती नदियां, सुरमयी झीलें, ढलानदार वादियां और चारागाहों जैसी अछूती दृश्यावली के कारण ही यह स्थल पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है। हालांकि अभी तक नाम मात्र पर्यटक ही इस स्थान पर पहुंच रहे हैं लेकिन दर्रा बहाल होते ही यहां पर पर्यटकों की भीड़ उमड़ पड़ती है। गर्मियों के मौसम में यहां सरेउलसर जाने वाले रास्ते में अनेकों कैंप साइटें लगती है।

यह भी पढ़ें: Sirmaur: जंगली जानवरों की अंग तस्करी का भंडाफोड़, तेंदुए की 4 खालों संग 3 धरे

जिभी घाटी व जलोड़ी दर्रा तक पर्यटक सड़क मार्ग द्वारा आसानी से पहुंच सकते हैं। अगर दिल्ली चंडीगढ़ या मंडी की ओर से आना हुआ तो पहले एक छोटा सा कस्बा बंजार पड़ता है जहां से तीर्थन घाटी और जिभी जलोड़ी की ओर अलग-अलग दिशा में सड़क मार्ग जाते हैं। बंजार से आग जलोड़ी दर्रा की ओर 8 किलोमीटर की दूरी पर एक सुन्दर गांव जिभी आता है जहां पर घाटी के दोनों ओर देवदार के हरे भरे जंगल बहुत ही खुबसूरत नजारा पेश करते हैं।

जलोड़ी पास के दाईं तरफ को दो किलोमीटर के फासले पर रघुपूर गढ़ स्थित है जो काफी ऊंचाई पर होने के कारण पर्यटकों के लिए विशेष आकर्षण रखता है। जलोड़ी से उत्तर दिशा की तरफ पांच किलोमीटर आगे एक अत्यंत ही खूबसूरत झील स्थित है जिसे सरेउलसर झील कहते हैं। यह झील समुद्र तट से करीब 3560 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इस झील के आसपास खरशु और रखाल के बड़े बड़े पेड़ हैं जो बहुत ही सुहावने लगते हैं। जलोड़ी जोत से इस झील तक पैदल ही पहुंचा जा सकता है। जलोड़ी दर्रा के आसपास और भी कई खुबसूरत और आकर्षक पर्यटन स्थल मौजूद हैं जिसमें तीर्थन घाटी का ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क, चैहनी कोठी, बाहु, गाड़ागुशैनी, खनाग, टकरासी, बशलेउ दर्रा, आनी और निरमंड आदि स्थल मुख्य रूप से पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र बन चुके हैं। इन खूबसूरत स्थलों में ग्रामीण व साहसिक पर्यटन, शीतकालीन खेलों, स्कीइंग, हाईकिंग, ट्रेककिंग, पर्वतारोहण व अन्य साहसिक खेलों की आपार संभावनाएं है ।

सरकार को इन स्थलों में मूलभूत सुविधाएं जुटा कर पर्यटन के लिए विकसित करने की आवश्यकता है। हालांकि आज से पहले भी सोझा जैसे स्थल पर टूरिस्ट कॉम्प्लेक्स बनाने के प्रयास कागजों में कई बार होते रहे लेकिन धरातल स्तर पर अभी तक सरकार की कोई भी योजना सिरे नहीं चढ़ सकी है। जलोड़ी दर्रा जैसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थल में जहाँ गर्मियों के मौसम में पर्यटकों की भारी भीड़ रहती हैं यह स्थल अभी तक बिजली, पानी, पार्किंग और सार्वजनिक सौचालय जैसी कई मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं। दिल्ली से वाया चंडीगढ़ शिमला और आनी की तरफ से भी इन स्थलों पर सड़क मार्ग द्वारा आसानी से पहुंच सकते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group…

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

हिमाचल की 'Himachali Pahari' गाय को राष्ट्रीय स्तर पर मिली पहचान

पुराने पैटर्न में ही डाल दिया 12वीं Computer Science का प्रैक्टिकल पेपर, छात्र हुए परेशान

लापरवाही: बीच रास्ते में बस से उतर गया HRTC का टल्ली कंडक्टर, दूसरे के आने तक रुकी रही Bus

14 गोरखा ट्रेनिंग सेंटर सुबाथू में कोर्स 125 के जवानों ने ली देश सेवा की शपथ

Jai Ram सरकार ने Kangra को ब्रिक्स से बाहर कर किया कुठाराघात, देखें Video

दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक New Zealand ने बनाए 216 रन, भारत के खिलाफ 51 रन की बढ़त

लीग मैच के दौरान Pak खिलाड़ियों ने की फिक्सिंग ! शोएब अख्तर ने शेयर की तस्वीर

विधवा से दुष्कर्म मामले में BJP MLA समेत 6 को क्लीन चिट, एक गिरफ्तार

बेटी का हत्यारा निकला रक्षा मंत्री की सुरक्षा में तैनात Commando,ऐसे हुआ खुलासा

पशुओं के लिए चारा लेने जंगल गया था युवक, खाई में गिरने से गई जान

जयराम बोले- जल्द तय की जाएगी Cabinet विस्तार की तारीख

Nirbhaya Case : तिहाड़ जेल प्रशासन ने दोषियों के परिजनों को लिखी चिठ्ठी, पूछी ये बात

बातचीत की एक और कोशिश, लगातार चौथे दिन Shaheen Bagh पहुंची साधना रामचंद्रन

ओवैसी की आस्था Pakistan में बसती है, चाहे तो DNA Test करवा लो : बीजेपी विधायक

Corona Virus: भारतीयों को वापस भेजने के लिए जानबूझ कर मंजूरी नहीं दे रहा चीन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

विज्ञान विषयः अध्याय-10... प्रकाश-परावर्तन तथा अपवर्तन

Students के लिए अब आसान होगी केलकुलेशन, शिक्षा बोर्ड करेगा कुछ ऐसा

विज्ञान विषयः अध्याय-9......... अनुवंशिकता एवं जैव विकास

विज्ञान विषयः अध्याय-8......... जीव जनन कैसे करते हैं?

इस बार दो लाख 17 हजार 555 छात्र देंगे बोर्ड परीक्षाएं, 15 से Practical

शिक्षा बोर्डः 10वीं और 12वीं के Admit Card अपलोड, फोन नंबर भी जारी

ब्रेकिंगः HP Board ने इस शुल्क में की कटौती, 300 से 150 किया

विज्ञान विषयः अध्याय-7......... नियंत्रण एवं समन्वय

विज्ञान विषयः अध्याय-6......... जैव प्रक्रम

बोर्ड इन छात्रों को पेपर हल करने के लिए एक घंटा देगा अतिरिक्त, डेटशीट जारी

विज्ञान विषयः अध्याय-5......... तत्वों का आवर्त वर्गीकरण

बोर्ड एग्जाम में आएंगे अच्छे मार्क्स,  बस फॉलो करें ये ख़ास टिप्स

विज्ञान विषयः अध्याय-4… कार्बन और इसके घटक

Breaking: ग्रीष्मकालीन स्कूलों की 9वीं और 11वीं वार्षिक परीक्षा की Date Sheet जारी

विज्ञान विषयः अध्याय-3 ……धातु एवं अधातु


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है