हिमाचली किसानों की आमदनी बढ़ाएगा “खरीफ प्याज”

1 क्विंटल गट्ठियों से मिलेगा 6 क्विंटल प्याज

हिमाचली किसानों की आमदनी बढ़ाएगा “खरीफ प्याज”

- Advertisement -

सोलन। हिमाचल प्रदेश में प्याज की केवल एक फसल उगाई जाती है। महाराष्ट्र में प्याज की तीन फसलें उगाई जाती हैं। प्रदेश में प्याज की मांग को पूरा करने के लिए बाहरी राज्यों के प्याज पर निर्भर रहना पड़ता है। समय-समय पर यह देखा गया है कि प्याज के दाम, आम जनता की पहुंच से दूर हो जाते हैं। इसी समस्या से निजात दिलाने के लिए डॉ यशवन्त सिंह परमार औद्यानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय नौणी के वैज्ञानिकों ने एक बेहतर विकल्प ढूंढ निकाला है- खरीफ प्याज। खरीफ प्याज न केवल आम जनता को महंगाई के दंश से बचा सकता है अपितु किसानों की आमदनी को बढ़ाने का भी एक विकल्प हो सकता है बशर्ते किसान इसकी खेती को तकनीक हासिल करके वैज्ञानिक विधि से अपनाएं। खरीफ प्याज की फसल ऐसे समय में बाजार में दस्तक देती है जब आम जनता प्याज के आसमान छूती कीमतों से परेशान होती है।



हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

नौणी विवि के नेरी स्थित औद्यानिकी एवं वानिकी महाविद्यालय में कार्यरत सब्जी वैज्ञानिक डॉ दीपा शर्मा, खरीफ प्याज की लोकप्रियता एवं जागरूकता स्तर को बढ़ाने के लिए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, नई दिल्ली, भारत सरकार द्वारा स्वीकृत 20.43 लाख रुपये की एक परियोजना पर कार्य कर रही हैं। यह योजना वर्तमान में चंबा जिला के विभिन्न स्थानों पर चलाई जा रही है। इस योजना में विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक डॉ राजीव रैना और डॉ संजीव बन्याल सह-प्रमुख अन्वेषक के रूप में कार्य कर रहे हैं। इस प्रोजेक्ट के अंतर्गत विगत दो वर्षों में चंबा जिला के विभिन्न स्थानों पर 245 प्रदर्शन एवं 14 प्रशिक्षण कार्यक्रम किए गए जिनमें लगभग 362 किसानों लाभान्वित हुए।

आंकड़े बताते हैं कि खरीफ प्याज की 1 क्विंटल गट्ठियां तैयार करके रख ली जाएं तो यही गट्ठियां बाद में प्याज के रूप में छह गुणा अधिक उत्पादन देती हैं। बाजार में यही प्याज 50 रुपये किलोग्राम के हिसाब से आराम से बिक जाता है। किसान 1 क्विंटल गट्ठियों से 6 क्विंटल प्याज प्राप्त करके 30 हजार रुपये तक आय प्राप्त कर सकता है। लिहाजा किसान न केवल अपने लिए प्याज उत्पादन कर सकता है बल्कि आम जनता के लिए भी बाहरी राज्यों की आवक के बजाय क्षेत्रीय प्याज को सस्ते दामों पर उपलब्ध करवा सकता है।


हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें…

चंबा जिला में खरीफ प्याज की बढ़ती लोकप्रियता एवं किसानों द्वारा खरीफ प्याज से प्राप्त आय को मध्यनजर रखते हुए यह समय की मांग लग रही है कि खरीफ प्याज के व्यावसायिक उत्पादन के लिए प्याज उत्पादन वाले क्षेत्रों में खरीफ प्याज (बरसाती प्याज) उत्पादन की लोकप्रियता एवं जागरुकता को किसानों तक पहुंचाया जाए। चम्बा जिला में इसका सफल प्रयोग हो चुका है और वहां के किसानों से बहुत ही उत्साहवर्धक आंकड़े प्राप्त हुए हैं। किसान खरीफ प्याज की फसल की गट्ठियां तैयार करके इसे अगस्त माह के दूसरे सप्ताह में पुनः रोपित कर सकते हैं। अक्तूबर माह के दूसरे सप्ताह में हरे प्याज के रूप में भी प्रयोग या बेच सकते हैं। अतः प्याज उस समय बाजार में आता है जब इसके दाम आसमान छूने लगते हैं। यह फसल दिसम्बर माह के प्रथम सप्ताह में तैयार हो जाती है।

नौणी विवि के कुलपति डॉ परविंदर कौशल ने खरीफ प्याज पर किए इस कार्य को किसानों द्वारा व्यावसायिक स्तर पर अपनाने की सलाह दी और विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों को इसे अधिक से अधिक किसानों तक पहुंचाने का आग्रह किया। निदेशक अनुसंधान डॉ जेएन शर्मा, नेरी महाविद्यालय के डीन डॉ पीसी शर्मा और विश्वविद्यालय के अन्य अधिकारियों ने खरीफ प्याज के ऊपर किये गये कार्य की सराहना की।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Chennel… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

जवाली और फतेहपुर के बीयर बार में एक्साइज विभाग की दबिश, रिकॉर्ड जब्त

कांगड़ा सहित 5 जिलों में येलो अलर्ट जारी, भारी बारिश और बर्फबारी की संभावना

जयराम सरकार ने बदले जवाली और धीरा के एसडीएम, इन्हें दी तैनाती

अनुराग की जयराम सरकार को सलाह-सड़कों की दशा सुधारों, फिर आएगा निवेश

हाईकोर्ट के कड़े रुख के बाद हिमाचल में मानवाधिकार आयोग का होगा गठन

बुजुर्ग महिला क्रूरता मामलाः हत्या के प्रयास का मामला हो दर्ज

आर्मी जवान के खाते से निकाले एक लाख 40 हजार रुपए, धोखाधड़ी का केस

बुजुर्ग से अमानवीय घटना दर्शाती है, सत्ता की चाबी कमजोर हाथों में, ये बोली कांग्रेस की रजनी

विक्रमादित्य शिमला को लेकर करने जा रहे हैं ऑनलाइन सिग्नेचर कैंपेन, क्यों मांगा योगदान पढ़ें

वीरभद्र सिंह के आईजीएमसी में डायलिसिस के साथ अन्य चेकअप, वापस हॉली लॉज लौटे

बर्थडे का केक लेकर बाइक पर जा रहे थे, सड़क हादसे में भाई की मौत, बहन गंभीर

रमेश राणा को बीजेपी संगठनात्मक जिला नूरपुर की कमान

नशे पर लगाम लगाने को ऊना प्रशासन शुरू करेगा अभियान, लोगों से मांगा सहयोग

एलआईसी पॉलिसी के नाम पर धोखाधड़ी, इस तरह के फोन कॉल से रहें सावधान

बुजुर्ग महिला से क्रूरता: माता-पिता के साथ 8 माह का मासूम भी पहुंचा जेल

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है