चंबा के इस मंदिर में विराजमान है “मौत के देवता”

चौरासी मंदिर समूह में संसार का एकमात्र धर्मराज मंदिर

चंबा के इस मंदिर में विराजमान है “मौत के देवता”

- Advertisement -

पुनीत शर्मा/ चंबा।  चंबा जिला के कबायली क्षेत्र भरमौर स्थित चौरासी मंदिर समूह में संसार का एकमात्र धर्मराज मंदिर है। इस मंदिर की स्थापना काफी प्राचीन है। वहीं चंबा रियासत के राजा मेरू वर्मन ने छठी शताब्दी में इस मंदिर की सीढिय़ों का जीर्णोद्धार किया था। नास्तिक हो या आस्तिक, धर्मराज के इस मंदिर में मृत्यु के बाद हर किसी को जाना पड़ता है। इस मंदिर में एक खाली कमरा है जिसे चित्रगुप्त का कमरा माना जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार चित्रगुप्त व्यक्ति के कर्मों का लेखा-जोखा रखते हैं।


 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page… 

 

मान्यता के अनुसार जब किसी प्राणी की मृत्यु होती है तब धर्मराज के दूत उस व्यक्ति की आत्मा को पकड़ कर सबसे पहले इस मंदिर में चित्रगुप्त के सामने प्रस्तुत करते हैं। चित्रगुप्त जीवात्मा को उनके कर्मों का पूरा लेखा-जोखा देते हैं। इसके बाद चित्रगुप्त के सामने के कक्ष में आत्मा को ले जाया जाता है। इस कमरे को धर्मराज की कचहरी कहा जाता है। गरुड़ पुराण में भी यमराज के दरबार में चार दिशाओं में चार द्वार का उल्लेख किया गया है। सदियों पूर्व चौरासी मंदिर समूह का यह मंदिर झाडिय़ों से घिरा था और दिन के समय भी यहां कोई व्यक्ति आने की हिम्मत नहीं जुटा पाता था। मंदिर के ठीक सामने चित्रगुप्त की कचहरी है और यहां पर आत्मा के उल्टे पांव भी दर्शाए गए हैं। मंदिर के पुजारी बताते हैं कि यहां पर अढ़ाई पौढ़ी भी है।

मान्यता है कि अप्राकृतिक मौत होने पर यहां पर प‍िंड दान किए जाते है। साथ ही परिसर में वैतरणी नदी भी है, जहां पर गौ-दान किया जाता है। इसके अलावा धर्मराज मंदिर के भीतर अढ़ाई सौ साल से अखंड धूना भी लगातार जल रहा है। यहां पर यमराज कर्मों के अनुसार आत्मा को अपना फैसला सुनाते हैं।  इस मंदिर में चार अदृश्य द्वार हैं जो स्वर्ण, रजत, तांबा और लोहे के बने हैं। यमराज का फैसला आने के बाद यमदूत आत्मा को कर्मों के अनुसार इन्हीं द्वारों से स्वर्ग या नरक में ले जाते हैं। गरूड़ पुराण में भी यमराज के दरबार में चार दिशाओं में चार द्वारों का उल्लेख किया गया है। लिहाज़ा शिव की भूमि भरमौर में स्थित विश्व का यह एकमात्र मन्दिर अद्भुत धार्मिक मान्यताओं के साथ अकेला मन्दिर है जहां मौत के देवता यानी धर्मराज विराजमान हैं।


हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

क्रिकेटर यूसुफ पठान ने बीड़ बिलिंग में की पैराग्लाइडिंग

INDvsAUS: ऐतिहासिक हार के बाद टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को 36 रनों से हराया

ब्रेकिंगः मंडी पहुंची फिल्म अभिनेत्री कंगना रणौत, किसी को नहीं लगी भनक

पुलिस जवान की जान बचाने को बर्फीले रास्ते में 4 घंटे में 7 किमी पैदल सफर

HRTC Bus और कार में टक्कर, महिला की गई जान-दो पहुंचे अस्पताल

देहरा के जवान को सैन्य सम्मान के साथ दी अंतिम विदाई, गमगीन हुआ माहौल

पांवटा साहिब में एक लाख रिश्वत लेते टीसीपी का प्लानिंग ऑफिसर गिरफ्तार

राठौर ने गिनाईं अपनी उपलब्धियां, BJP को बताया ड्रामेबाज-रेरा पर भी घेरा

नए अध्यक्ष के नामांकन अवसर पर पुराने के बारे क्या बोले जयराम-जानिए

सीएम जयराम की मौजूदगी में Bindal ने किया नामांकन, बीजेपी अध्यक्ष पद का ऐलान कल

शिक्षण संस्थान व मंदिर के निकट ऊना बस अड्डे पर खोल दिया शराब का सब बैंड

Jairam की सराजघाटी में लीजिए "बर्फ के घर" का मजा

राहुल गांधी ने लगाया DSP देवेंद्र का केस दबाने का आरोप, गुजरात दंगे से जोड़े तार

डॉ. बिंदल आज BJP मुख्यालय में दो बजे भरेंगे नामांकन, कल होगी घोषणा

Fresh Snowfall ने फिर बढ़ाई मुश्किलें, ऊपरी शिमला के लिए आवाजाही ठप

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है