Covid-19 Update

59,197
मामले (हिमाचल)
57,580
मरीज ठीक हुए
987
मौत
11,244,092
मामले (भारत)
117,591,889
मामले (दुनिया)

छावनी परिषद Subathu की बैठक में हंगामा, धरने पर बैठे गुस्साए Councilor

छावनी परिषद Subathu की बैठक में हंगामा, धरने पर बैठे गुस्साए Councilor

- Advertisement -

दयाराम कश्यप, सोलन। दो माह के बाद आज हुई Cantonment Council Subathu की Meeting हंगामे की बलि चढ़ गई। मामला बढ़ने पर छावनी अध्यक्ष व सीईओ बैठक छोड़कर चले गए। इससे गुस्साए उपाध्यक्ष सहित Councilor छावनी परिषद के बाहर धरने पर बैठ गए। हंगामा होने के चलते बैठक में विकास कार्यों पर सहमति नहीं बन पाई। बता दें कि Cantonment Council Subathu में मंगलवार को शुरू हुई Board Meeting में विकास के मुद्दों पर चर्चा होने से पहले ही हंगामे में बदल गई।
हालांकि दो महीने बाद होने वाली इस Meeting से स्थानीय लोगों को कई विकास कार्यों पर मोहर लगने की उम्मीदें जुड़ी थीं। लेकिन, Board Meeting में लोगों की शिकायतों पर Hospital में मरीजों की ओपीडी व डॉक्टर के व्यवहार पर छावनी अध्यक्ष ने कड़ा रुख लिया। उन्होंने कहा कि छावनी अस्पताल में मरीजों की ओपीडी पहली मंजील से ग्राउंड फ्लोर पर की जानी चाहिए, ताकि अस्पताल में जाने वाले बुजुर्ग व दिव्यांग लोगों को उपचार के दौरान सिढ़ियां चढ़ कर उपर न जाना पड़े।
इस मामले को लेकर पाषर्दों व अधिकारियों के बीच माहौल काफी तनावपूर्ण होने लगा। हालांकि काफी विवाद के बाद सहमति बनती नजर तो आई। लेकिन, इसी बीच छावनी की महिला कोषाधिकारी ने डॉक्टर के अभद्र व्यवहार को लेकर छावनी अध्यक्ष को अपनी शिकायत दे दी। इस पर छावनी अध्यक्ष ने महिला अधिकारी को पुलिस में लिखित शिकायत दर्ज करवाने की बात कही। बैठक में अभी शांति का माहौल बनने ही लगा था कि सरकारी खर्चों पर फिर से माहौल गर्माने लगा।
बात इतनी बढ़ गई कि छावनी अध्यक्ष ब्रिगेडियर आरएस रावत बोर्ड बैठक को छोड़कर चले गए। इसके बाद भी पाषर्दों ने बैठक को जारी रखने के लिए सीईओ को कहा। लेकिन, उन्होंने भी इस तनावपूर्ण माहौल में बैठना उचित नहीं समझा। इस बात को लेकर उपाध्यक्ष दिनेश गुप्ता, पार्षद मनीष गुप्ता, सकुन चौहान व अरिता शर्मा ने छावनी परिषद के बाहर अपना विरोध जताते हुए धरना शुरू कर दिया। उपाध्यक्ष दिनेश गुप्ता ने कहा कि बैठक के दौरान खर्चों को अगली बैठक में रखने की बात कही गई थी, जिसपर छावनी अध्यक्ष ने तत्काल सभी खर्चों पर सहमति बनाने की बात कही। लेकिन, सहमति न बनने के कारण छावनी अध्यक्ष व सीईओ ने बैठक को छोड़ दिया। इस बारे में सीईओ तनु जैन ने कहा कि छावनी अध्यक्ष ने मरीजों की सुविधाओं को देखते हुए ओपीडी को ग्राउंड फ्लोर में लाने की बात कही, जिस पर पाषर्दों ने छावनी अध्यक्ष से बहस शुरू कर दी। इसके बाद भी अगले मुद्दे रखने पर सहमति नहीं बनाई जा रही थी। उन्होंने कहा की बोर्ड बैठक के तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए बैठक में सभी विकास कार्यों पर सहमति नहीं बन पाई।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है