Covid-19 Update

2,21,942
मामले (हिमाचल)
2,16,947
मरीज ठीक हुए
3,712
मौत
34,126,682
मामले (भारत)
242,810,096
मामले (दुनिया)

International Coffee Day: कॉफी कैसे बनती है यह जान गए तो पीना तो दूर आप कॉफी के दाने को हाथ भी नहीं लगाएंगे

International Coffee Day: कॉफी कैसे बनती है यह जान गए तो पीना तो दूर आप कॉफी के दाने को हाथ भी नहीं लगाएंगे

- Advertisement -

नई दिल्ली। आज इंटरनेशनल कॉफी डे (International Coffee Day) है। कॉफी लवर्स (Coffee Lovers) के लिए आज का दिन बेहद खास है। आज सोशल मीडिया (Social Media) पर कॉफी पीने के शौकीन रखने वाले कॉफी के मग संग अपनी फोटो शेयर कर रहे हैं। मालूम हो कि कॉफी कई प्रकार की होती है।

कॉफी के शौकीन महंगी कॉफी पीने के लिए मोटा पैसा भी खर्च देते हैं। हालांकि, आज हम आपकों जो बताने जा रहे हैं। उसके बाद ही शायद आपका मन कॉफी पीने का मन करेगा। दुनिया की सबसे महंगी कॉफी होती है सिवेट। इसके बनने की पूरी कहानी सुनने के बाद कॉफी लवर्स भी एक बार इस कॉफी पीने से पहले सोचने के लिए मजबूर हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें: सिर्फ नाम से कड़वा है करेला, पर गुण एक से बढ़कर एक

कैसे बनती है ये कॉफी?

सिवेट कॉफी (civate Coffee) बनने की प्रोसेस हैरान करने वाली है। दरअसल, सबसे महंगी बिकने वाली ये कॉफी बिल्ली (Cat) की पॉटी से निकलती है। ये जानकर भले ही आपको अचरज हो, लेकिन हकीकत यही है। बिल्ली की पॉटी के जरिए ही दुनिया की सबसे महंगी कॉफी बनाई जाती है। इस बिल्ली के प्रजाति का नाम सिवेट है। सिवेट बिल्ली की पॉटी से ही दुनिया की सबसे महंगी कॉफी तैयार की जाती है।

कहते हैं कि इस कॉफी में काफी पोषक तत्व होते हैं। इसे बनाने के लिए पहले कॉफी बीन सिवेट बिल्ली खाती हैं। इसके बाद उसकी आंतों में मौजूद खास एंजाइम कॉफी के बीचों को कुछ इस अंदाज में बदलते हैं कि मल के साथ कॉफी निकलती है। इसे ही सिवेट कॉफी को लुवार्क कॉफी भी कहते हैं और इसलिए इतनी महंगी होती है, क्योंकि इससे बनाने का तरीका काफी अलग होता है।

यह भी पढ़ें: इंसुलिन प्रतिरोध से बढ़ता है स्ट्रोक का खतरा, अध्ययन में हुआ खुलासा

कितनी महंगी है?

पहले तो आपको बता दें कि सिर्फ दूसरे देशों में ही नहीं, बल्कि भारत में भी इस कॉफी का उत्पादन होता है। रिपोर्ट्स के अनुसार, यह कई देशों में 25 हजार रुपये किलो के हिसाब से भी बेची जाती है। बताया जा रहा है कि यहां यह कॉफी 8 हजार रुपये किलो में बिकती है, लेकिन विदेश में इसकी रेट 25 हजार रुपये तक है। भारत के सबसे बड़े कॉफी उत्पादक राज्य कर्नाटक में कूर्ग कॉन्सोलिटेड कमोडिटीज (सीसीसी ) ने छोटे पैमाने पर सिवेट का उत्पादन शुरू किया है। वहीं, आपको जानकर हैरानी होगी कि सीवेट बिल्ली के अलावे हाथी के गोबर से भी कॉफी तैयार की जाती है।

हाथी के गोबर से भी बनती है कॉफी

इसी तरह हाथी के गोबर से भी कॉफी बनती है। ब्लैक आइवरी ब्लेंड दुनिया की सबसे महंगी कॉफियों में से एक है। इस कॉफी को हाथी की पॉटी में से निकाला जाता है। उत्तरी थाइलैंड में बनाई जाने वाली ये कॉफी दरअसल हाथी की पॉटी यानी लीद में शामिल बीजों से तैयार होती है। हाथी कच्ची फलियां खाते हैं, उसे पचाते हैं और लीद गिरा देते हैं। इसके बाद उसी गोबर में कॉफी के बीज निकाले जाते हैं इस कॉफी की कीमत 1100 डॉलर तक है

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है