Covid-19 Update

3,12, 218
मामले (हिमाचल)
3, 07, 893
मरीज ठीक हुए
4189
मौत
44,591,112
मामले (भारत)
623,119, 878
मामले (दुनिया)

CBI ने किया बड़े घोटाले का खुलासा, एक ही कर्मचारी चला रहा था चार कंपनियां

पीएनबी की शिकायत के आधार पर एफआईआर दर्ज की गई

CBI ने किया बड़े घोटाले का खुलासा, एक ही कर्मचारी चला रहा था चार कंपनियां

- Advertisement -

उत्तर प्रदेश के कानपुर की रोटोमैक कंपनी ने चार कंपनियों से 26 हजार करोड़ का कारोबार किया। हालांकि, इन चारों कंपनियों के कर्मचारी और पता एक ही है। सीबीआई (CBI) ने इस घोटाले का खुलासा किया है। अब सीबीआई इस बात की जांच कर रही है कि कैसे एक कर्मचारी वाली कंपनियों से कारोबार के आधार पर रोटोमैक को 2100 करोड़ का कर्ज दिया गया।

यह भी पढ़ें:NIA की बड़ी कार्रवाई, दिल्ली में PFI हेड परवेज अहमद गिरफ्तार

जानकारी के अनुसार, सीबीआई को अभी तक की जांच में पता चला है कि रोटोमैक (Rotomac) ने सिर्फ चार कंपनियों के साथ 26,143 करोड़ रुपए का कारोबार किया था। इन कंपनियों का पता भी एक ही है, जो कि 1500 वर्ग फुट का हॉल है। हैरानी की बात ये है कि इन चारों कंपनियों में वही कर्मचारी हैं, जो कंपनी का सीईओ भी है। इतना ही नहीं इन कंपनियों के साथ हो रहे अरबों रुपए के कारोबार के आधार पर बैंकों ने रोटोमैक को 2100 करोड़ रुपए का कर्ज भी दिया था। सीबीआई का आरोप है कि निदेशकों विक्रम कोठारी, जिसकी मौत हो चुकी है और राहुल कोठारी ने अन्य लोगों के साथ अपनी बैलेंस शीट के साथ फर्जीवाड़ा करके बैंक को धोखा दिया। पीएनबी की शिकायत के आधार पर सीबीआई ने रोटोमैक ग्लोबल के निदेशक राहुल, साधना कोठारी और अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ 93 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है।

ये कंपनी खरीद रही थीं सामान

सीबीआई के अनुसार, रोटोमैक ग्रुप के साथ कारोबार करने वाली चार कंपनियां रोटोमैक के सीईओ राजीव कामदार के भाई प्रेमल प्रफुल्ल कामदार के स्वामित्व में हैं। रोटोमैक ने इन चार कंपनियों को कागज में उत्पादों का निर्यात किया, ये सभी कंपनियां बंज ग्रुप से रोटोमैक को सामान बेच रही थीं यानी जिस कंपनी ने सामान बनाया वह उसका माल खरीद रही थी। इन चार कंपनियों में मैग्नम मल्टी ट्रेड, ट्रायम्फ इंटरनेशनल, पैसिफिक यूनिवर्सल जनरल ट्रेडिंग और पैसिफिक ग्लोबल रिसोर्सेज प्राइवेट लिमिटेड के नाम शामिल हैं।

पीएनबी ने की शिकायत

जानकारी के अनुसार, पीएनबी की शिकायत के आधार पर मंगलवार को नई एफआईआर दर्ज की गई। सीबीआई जांच में सामने आया कि 26 हजार करोड़ का कारोबार दिखाने वाली चार कंपनियों में एक ही कर्मचारी था, जिसका नाम प्रेमल प्रफुल्ल कामदार था। यही कर्मचारी एक कमरे में बैठ कर पोर्ट से लेकर लोडिंग-अनलोडिंग तक का सारा काम कर रहा था। अधिकारियों का कहना है कि रोटोमैक समूह की कंपनियां पहले ही सात बैंकों के एक संघ से 3,695 करोड़ रुपए और बैंक ऑफ इंडिया से 806.75 करोड़ रुपए के लोन घोटाले में जांच का सामना कर रही है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है