Covid-19 Update

58,777
मामले (हिमाचल)
57,347
मरीज ठीक हुए
983
मौत
11,122,986
मामले (भारत)
114,822,832
मामले (दुनिया)

गुड़िया प्रकरणः सूरज हत्या मामले में Status Report एवं Charge sheet दाखिल, 1 माह में जांच पूरी करने की बात

गुड़िया प्रकरणः सूरज हत्या मामले में Status Report एवं Charge sheet दाखिल, 1 माह में जांच पूरी करने की बात

- Advertisement -

लेखराज धरटा/ शिमला। गुड़िया प्रकरण से जुड़े पुलिस कस्टडी में सूरज सिंह हत्या मामले में सीबीआई ने हाईकोर्ट में स्टेट्स रिपोर्ट एवं 600 पन्नों की चार्जशीट भी दाखिल कर दी है।  20 दिसंबर को मामले की अगली सुनवाई होगी। यह मामला जस्टिस संजय करोल और जस्टिस संदीप शर्मा की बेंच में लगा था। सुनवाई के दौरान सीबीआई से कोर्ट ने पूछा कि पूरे मामले को कब तक सुलझा लिया जाएगा। इस पर सीबीआई ने बताया कि दस लोगों की टीम मामले की जांच कर रही है, एक माह में मामले की जांच पूरी कर ली जाएगी।

डीडब्ल्यू नेगी के खिलाफ चार सप्ताह में चालान पेश करने का आदेश

सीबीआई ने हाईकोर्ट को बताया कि अभी तक 1000 सैंपल लिए गए है उनमें से कुछ की रिपोर्ट आनी अभी बाकी है। कोर्ट ने कहा कि गुड़िया प्रकरण जन भावनाओं से जुड़ा हुआ है, जनता से साथ कोर्ट की भी उम्मीदें है कि मामला जल्द सुलझाया जाए। कोर्ट ने कहा की सीबीआई ने अभी तक अच्छा काम किया है, उम्मीद है जल्द मामला सुलझ जाएगा। सीबीआई की तरफ से वकील अंशुल बंसल ने बताया कि कुछ पुलिस वालों ने धारा 164 के तहत बयान दर्ज करवाएं हैं। उसमें हर पहलू पर विचार कर देखा जाएगा कि इन्हें सरकारी गवाह बनाना है या नहीं। उन्होंने बताया कि गुड़िया रेप व मर्डर मामले की जांच चल रही है। इसके साथ ही कोर्ट ने सीबीआई को आदेश दिए कि निलंबित एसपी डीडब्ल्यू नेगी के खिलाफ चार सप्ताह में चालान पेश करें। गुड़िया मामले और स्टेटस रिपोर्ट पर अब 20 दिसंबर को सुनवाई होनी है।

 सूरज की हत्या राजू ने नहीं की,पुलिस वालों ने ही मार डाला

 हाईकोर्ट में पेश की गई स्टेटस रिपोर्ट में यह भी खुलासा हुआ है कि कोटखाई थाना में  दूसरे आरोपी राजू ने सूरज की हत्या नहीं की थी, बल्कि पुलिस वालों ने ही उसे मारा था। हाईकोर्ट में पेश स्टेटस रिपोर्ट में सीबीआई ने कहा है कि पुलिस के थर्ड डिग्री टॉर्चर से ही सूरज की जान गई। जबकि पुलिस ने अपनी एफआईआर में दर्ज किया था कि  आरोपी सूरज पर राजू ने जानलेवा हमला किया और उसकी मौत हो गई। सीबीआई के वकील अंशुल बंसल ने कहा कि सूरज की मौत पुलिस की प्रताड़ना से हुई है।  दूसरे आरोपी ने जानलेवा हमला नहीं किया था। उन्होंने कहा कि घटना से सबंधित ओर आरोपियों को पकड़े जाने से इनकार नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि गुड़िया प्रकरण में जल्द ही बड़े खुलासे होंगे और कोर्ट की उम्मीद पर सीबीआई खरा उतरेगी।

आठ पुलिस अधिकारियों व कर्मियों की 29 अगस्त को हुई थी गिरफ्तारी

जांच एजेंसी ने इस मामले में निलंबित आइजी जेड एच जैदी, निलंबित डीएसपी मनोज जोशी, निलंबित एसएचओ राजिंद्र सिंह समेत आठ पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ सीबीआई कोर्ट में पहले ही चार्जशीट पेश कर दी है। शिमला के निलंबित एसपी डीडब्ल्यू नेगी की भूमिका की अभी जांच चल रही है और उनके खिलाफ चालान पेश होना है। हाईकोर्ट के आदेशों के अनुसार सीबीआई ने आरोपियों के खिलाफ तीन महीने के भीतर जांच पूरी कर निचली कोर्ट में चार्जशीट भी दाखिल की। निलंबित आईजी समेत आठ पुलिस अधिकारियों व कर्मियों की 29 अगस्त को गिरफ्तारी हुई थी

सूरज की लॉकअप में मौत का मामलाः CBI की Report में खुलासा …
गुड़िया केसः CBI की बलसन क्षेत्र में दस्तक, अपग्रेड हुए School में की पूछताछ

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है