Expand

परीक्षा और Invigilation स्टाफ पर रहेगी CCTV की नजर

परीक्षा और  Invigilation स्टाफ पर रहेगी  CCTV  की नजर

- Advertisement -

धर्मशाला। निजी स्कूलों में स्थापित परीक्षा केन्द्रों में नकल रोकने के उद्वेश्य से CCTV कैमरा स्कूल द्वारा लगाना अनिवार्य होगा, इसमें आईपी एडरेस की सुविधा होगी, ताकि बोर्ड द्वारा संचालित परीक्षाओं में बैठे परीक्षार्थियों तथा ड्यूटी पर तैनात इंविजीलेशन स्टाफ पर बोर्ड कार्यालय से ही निगरानी की जा सके। यह फैसला प्रयोगात्मक तौर से पहले निजी स्कूलों में लागू किया जाएगा, जिसकी समीक्षा के उपरान्त इसे सरकारी स्कूलों में भी चरणबद्व तरीके से लागू किया जाएगा। विशेषकर उन परीक्षा केन्द्रों में यह पहले लागू किया जाएगा, जो नकल की दृष्टि से ज्यादा संवेदनशील हैं।

  • school-boardस्कूल शिक्षा बोर्ड की 110वीं बैठक में लिया फैसला

यह फैसला स्कूल शिक्षा बोर्ड की 110वीं बैठक में लिया गया है। इसके अलावा यह भी फैसला लिया गया कि बोर्ड परीक्षा संचालन व मूल्यांकन कार्य के लिए अध्यापकों को बोर्ड द्वारा जो कार्य आवंटित किया जाएगा, उसे अध्यापकों को अनिवार्य  रूप से निपटाना होगा।

इसके लिए हिमाचल प्रदेश सेकेंडरी शिक्षा कोड के नियम 2.20 में प्रावधान किए जाने की सरकार को सिफारिश की गई। स्कूल के मुखिया की यह जिम्मेवारी हागी कि जब भी अध्यापकों की बोर्ड परीक्षा संचालन व मूल्यांकन के कार्य के लिए तैनात किए जाने के आदेश प्राप्त होते हैं तो अध्यापकों को दी गई ड्यूटी के लिए तुरन्त रिलीव करना होगा, ताकि बोर्ड की परीक्षाओं एवं मूल्यांकन का कार्य सुचार रूप से चल सके तथा उसमें कोई बाधा न आए, क्योंकि परीक्षा व मूल्यांकन का कार्य समयबद्व होता है तथा इसे दी गई अवधि में पूरा किया जाना होता है। स्कूल school-board1शिक्षा बोर्ड की 110वीं बैठक  23 नवबंर को बोर्ड परिसर धर्मशाला में स्कूल शिक्षा बोर्ड अध्यक्ष  बलवीर तेगटा की अध्यक्षता में हुई। इसमें दिनकर बुराथोकी, निदेशक उच्चतर शिक्षा आदि ने भाग लिया।

छठी से दसवीं तक फॉइनेंसियल एजुकेशन का पाठयक्रम होगा सम्मलित

छठी से दसवीं कक्षा तक के विद्यार्थियों को फॉइनेंसियल एजुकेशन का पाठयक्रम सम्मलित किया जाएगा जो NCRT के द्वारा तैयार किया गया है। यह पाठयक्रम वर्तमान विषयों के साथ अलग अध्याय के रप में जोड़ा जाएगा यह विषय नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के द्वारा चलाए गए फॉइनेंसियल लिटरेसी विषय के अलावा होगा जो नवीं से वाहरवीं कक्षा के लिए एक वेकल्पिक विषय है जो प्रदेश के कुछ चयनित स्कूलों में चल रहा है।

अधिकारियों व कर्मचारियों की सेवा शर्तो के लिए उप समिति का गठन

school-board2धर्मशाला स्थित टीर्चज होम की नए सिरे से मरम्मत व साज-सजा के लिए भी फैसला लिया गया, ताकि यह पुराने टीर्चज होम को और अधिक सुविधाएं प्रदान करके इसे आरामदायक बनाया जाए।  बोर्ड के अधिकारियों व कर्मचारियों की सेवा शर्तो के नियमों के संकलन तथा अपडेट करने के लिए एक बोर्ड स्तरीय उप-समिति का गठन किया गया। सफाई कर्मचारियों की सेवा शर्तो के लिए भी अधिकारी स्तर की कमेटी का गठन किया गया जो एक निशचित अवधि के अन्दर बोर्ड को अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे।

अध्ययन केन्द्र स्थापित करने का फैसला

राज्य मुक्त विलय के लिए अध्ययन केन्द्रों को स्थापित करने की नीति के अंर्तगत यह फैसला लिया गया कि अब से किसी भी प्रतिष्ठित सरकारी अथवा निजी स्कूल में जो बोर्ड से सम्बद्वता प्राप्त है में अध्ययन केन्द्र स्थापित किए जा सकेंगे जो दिए गए मापदंडों को पूरा करते हों। इससे पहले केवल जिला मुख्यालयों एवं उप-मंडल मुख्यालयों में स्थापित स्कूलों को ही इस दायरे में लाया गया था। इस निर्णय से ग्रामीण क्षेत्रों में रह रहे बच्चों को यह सुविधा अपने घर के समीप प्राप्त हो जाएगी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है