×

केंद्र सरकार ने बताया टैक्स से पेट्रोल और डीजल पर कितनी कमाई हो रही, पढ़ें रिपोर्ट

सरकार के मुनाफे में पिछले साल मई के बाद हुई बढ़ोतरी

केंद्र सरकार ने बताया टैक्स से पेट्रोल और डीजल पर कितनी कमाई हो रही, पढ़ें रिपोर्ट

- Advertisement -

नई दिल्ली। पेट्रोल और डीजल की कीमतों (Petrol Diesel Price) से भारत के लोग परेशान हैं। पेट्रोल और डीजल की कीमतें अपनी रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच चुकी हैं। कुछ शहरों में तो पेट्रोल ने शतक भी लगा दिया था। इसके बावजूद केंद्र सरकार और राज्य सरकारों ने पेट्रोल और डीजल पर लगाए जाने वाले टैक्स (Petrol Central Government Tax) में कटौती नहीं की है। इस बीच अब खबर सामने आई है, जिसमें पता चल रहा है कि प्रति लीटर पेट्रोल और डीजल से केंद्र सरकार कितनी कमाई कर रही है।


यह भी पढ़ें: इन्वेस्टमेंट किए बिना भी आपको मिल सकती है Tax पर ऐसे छूट, जानने के लिए करें क्लिक

हालांकि सरकारी तेल कंपनियों (Oil Companies) की ओर से आज 17वें दिन भी पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव नहीं किया गया, लेकिन इससे भी पेट्रोल-डीजल (Petrol Diesel) के उपभोक्ताओं को कई राहत नहीं मिली है। उधर, सरकार ने माना है कि उसे छह मई 2020 के बाद से एक लीटर पेट्रोल (Petrol) से 33 रुपए का मुनाफा हो रहा है। इसके अलावा एक लीटर डीजल (Diesel) से भी सरकार को करीब 32 रुपए की कमाई हो रही है, जबकि मार्च 2020 से पांच मई 2020 के बीच यह आय पेट्रोल (Petrol) पर 23 रुपए और डीजल पर 19 रुपए प्रति लीटर थी।

यह भी पढ़ें: सरकारी कर्मचारियों-पेंशनर्स के लिए खुशखबरी-जल्द मिलने वाला है बहुत कुछ

इसके अलावा एक जनवरी 2020 से 13 मार्च 2020 तक भी एक लीटर पेट्रोल और डीजल (Petrol and Diesel) से सरकार को क्रमश: 20 रुपए और 16 रुपए की कमाई हो रही थी। इस हिसाब से तुलना की जाए तो एक जनवरी, 2020 से सरकार की आय में प्रति लीटर पेट्रोल से 13 रुपए और डीजल (Diesel) से 16 रुपए बढ़ोतरी हुई है। आपको बता दें कि पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों पर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Union Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने भी कुछ समय पहले बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि इस मुद्दे पर केंद्र सरकार और राज्य सरकार को बैठकर बात करनी होगी, क्योंकि तेल पर दोनों सरकारों द्वारा टैक्स वसूला जाता है। उन्होंने कहा कि जब केंद्र सरकार को पेट्रोलियम पर राजस्व (Revenue on Petroleum) प्राप्त होता है, तो इसका करीब 41 फीसदी हिस्सा राज्यों के पास जाता है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है