Expand

बदले-बदले आशा के सुर, मंच पर नहीं बैठीं

बदले-बदले आशा के सुर, मंच पर नहीं बैठीं

- Advertisement -

यशपाल शर्मा/ शिमला। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की सचिव, पंजाब व चंडीगढ़ की प्रभारी व डलहौजी की कांग्रेस विधायक आशा कुमारी के सुर प्रदेश कांग्रेस नेतृत्व को लेकर बदले हुए हैं। आशा न केवल अंदरखाने नाराज हैं, उन्होंने पार्टी के सार्वजनिक मंचों पर भी अपनी बेरुखी दिखानी शुरू कर दी है। ताज़ा वाक्या प्रदेश कांग्रेस कमेटी के जरनल हाउस का है। आशा कुमारी को राष्ट्रीय सचिव होने के कारण मंच पर दूसरी पंक्ति में जगह रखी गई थी।

  • अंबिका सोनी के बुलाने पर भी नहीं आईं
  • बोलीं, विधायकों के साथ ही बैठूंगी, मंच पर दूसरी पंक्ति में रखी थी जगह

shimla-10पार्टी के प्रदेश महासचिव हरभजन भज्जी ने उन्हें आम सभा में पहुंचने पर उनसे अपनी सीट पर बैठने का आग्रह भी किया, लेकिन वह मंच पर न बैठकर विधायकों संजय रतन और यादविंदर गोमा के साथ बैठ गईं। जरनल हाउस जैसे ही शुरू होने वाला था और हिमाचल कांग्रेस प्रभारी अंबिका सोनी, सीएम वीरभद्र सिंह और आईपीएच मंत्री विद्या स्टोक्स के साथ सभागार में पहुंचीं, उन्होंने आशा को मंच पर न बिठाने को लेकर पार्टी अध्यक्ष सुखविंद्र सिंह सुक्खू से पूछा। उन्होंने बताया कि दूसरी पंक्ति में जगह रिजर्व थी, लेकिन वह नहीं बैठीं। भज्जी ने भी सोनी को इसके बारे में बताया। इस पर अंबिका सोनी ने खुद आशा को मंच पर बैठने के लिए कहा। वह उठकर उनसे बात करने तो आईं, लेकिन अपनी सीट पर नहीं बैठीं। उन्होंने सबके सामने कहा कि वह विधायकों के साथ ही बैठेंगी। इस पर सोनी ने भी कुछ नहीं कहा, हालांकि आशा के इस व्यवहार से वह रुष्ट जरूर दिखीं। बता दें कि आशा कुमारी कांग्रेस कार्य समिति की सदस्य बनने के बाद से ही प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष से खफा दिख रहीं हैं। उन्होंने बीते दिनों दिल्ली में भी प्रदेश कांग्रेस नेतृत्व में जल्द बड़ा बदलाव होने की बात कही थी। सोमवार को सुक्खू के साथ उनका छत्तीस का आंकड़ा जगजाहिर हो गया। अब ये तो आशा ही बता सकती हैं कि उनकी नाराजगी की असल वजह क्या है।

और बढ़ी सुक्खू की मुसीबत, आशा ने भी खोला मोर्चा

यशपाल शर्मा/शिमला। हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू की मुश्किलें कम होने के बजाए बढ़ती जा रही हैं। सुक्खू को पद से हटाने के लिए सीएम वीरभद्र सिंह और उनकी सेना के बाद अब कांग्रेस विधायक, कांग्रेस कार्य समिति सदस्य, पंजाब एवं चंडीगढ़ की प्रभारी आशा कुमारी ने भी मोर्चा खोल दिया है। दिल्ली में एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू में आशा कुमारी ने प्रदेश अध्यक्ष बदलने को लेकर कड़ा रुख दिखाया। उन्होंने कहा कि हिमाचल में कांग्रेस नेतृत्व में बदलाव को लेकर जल्द बड़ा फैसला होगा। कांग्रेस हाईकमान पूरे मसले पर पैनी निगाह रखे हुए है। प्रदेश अध्यक्ष बदलने को लेकर फैसला हाईकमान को ही करना है। इसे लेकर प्रदेश में विरोध के स्वर काफी दिनों से उठ रहे हैं।

  • sukhuप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बदलने को लेकर हुईं मुखर
  • दिल्ली में बोलीं, कांग्रेस नेतृत्व को लेकर जल्द होगा बड़ा फैसला

बता दें आशा कुमारी प्रदेश के साथ ही केंद्र स्तर पर भी कांग्रेस की राजनीति ने ख़ासा दखल रखती हैं। पंजाब-चंडीगढ़ की प्रभारी व कांग्रेस कार्य समिति सदस्य बनने के बाद उनका कद और बढ़ा है। प्रदेश में कांग्रेस सरकार बनने पर भी आशा ने मंत्री बनने के बजाए राष्ट्रीय स्तर पर पार्टी की सेवा करने का निर्णय लेकर दूर की सोची थी। इसका उन्हें फायदा भी मिला है। उनकी निगाहें कहीं न कहीं हिमाचल कांग्रेस अध्यक्ष की कुर्सी के साथ ही बड़ी कुर्सी पर भी हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है