Covid-19 Update

2,63,914
मामले (हिमाचल)
2, 48, 802
मरीज ठीक हुए
3944*
मौत
40,085,116
मामले (भारत)
360,446,358
मामले (दुनिया)

अपने घर की ये चीजें समय रहते बदल दें वरना हो सकता है नुकसान

समस्याओं से बचने के लिए सामान बदलना है जरूरी

अपने घर की ये चीजें समय रहते बदल दें वरना हो सकता है नुकसान

- Advertisement -

हमारी आदत है कि जब तक कोई सामान पूरी तरह से खराब ना हो उसे बदलते नहीं है। वह सामान सालों-साल चलता रहता है। उसे तब बदला जाता है जब तक वो पूरी तरह खराब ना हो जाए या फिर टूट ना जाए। लेकिन कुछ सामान ऐसा है, जिसको समय रहते बदल देना बहुत जरूरी होता है। अगर आप भी सामान तभी बदलते हैं जब तक वह खराब नहीं हो जाता तो जरा सतर्क हो जाइए। क्योंकि कुछ चीजों को समय रहते बदलना ही बेहतर होता है, ताकि कई समस्याओं से बचा जा सके।

यह भी पढ़ें-तनाव दूर करने के यह आसान टिप्स, जल्द मिलेगा आराम

मैट्रेस कवरः हमारा मानना यह होता है कि गद्दों (Mattress) पर बिछे कवर खराब नहीं होते क्योंकि इनके ऊपर तो चादर बिछी होती है। असल में समय के साथ इनमें बैक्टीरिया पनपने लगते हैं। इसीलिए हर 2-3 महीने में धोना चाहिए।

 

बाथ मैटः इन्हें हर हफ्ते-दो हफ्ते में धोना चाहिए। ये लगातार नमीयुक्त वातावरण में रहते हैं और इनमें बैक्टीरिया जमा होते रहते हैं। इसके साथ ही नमी के कारण इन पर फफूंद भी लग सकती है, जो संक्रमण का कारण बन सकती है। इसलिए बाथ मैट्स (Bath Mats) को 18 से 20 महीने के अंतराल में बदलना जरूरी होता है।

टूथब्रश: कुछ लोग टूथब्रश (Tooth Brush) तो तब तक नहीं बदलते जब तक उन के ब्रिसल बिलकुल खराब ना हो जाए। लेकिन टूथब्रश को दो महीने में बदल लेना चाहिए। पुराना होने पर यह मुंह की सफाई को बेहतर तरीके से करने में असमर्थ रहता है। इस कारण मुंह से दुर्गंध आना, दांतों की सफाई ठीक से ना होना जैसी समस्याएं सामने आती हैं। पुराना होने के कारण इसमें बैक्टीरिया जमा हो जाते हैं।

तकिए: फोम हो या रुई, तकियों (Pillow) में अकसर गंदगी जमती ही है। जुकाम के दौरान भले इस पर तौलिया या कपड़ा बिछा दें, पर कीटाणु अंदर जाते ही हैं। इसी तरह मुंह, आंख व नाक के द्रव्य भी इसमें प्रवेश करते ही रहते हैं। इसलिए रुई के तकियों को हर साल धुनवाकर भरवा लेना चाहिए और इतने ही समय में रेक्रोन या फोम के तकियों को मशीन में धोना या ड्रायक्लीन करवा लेना चाहिए।

बेडशीट: अमूमन बेडशीट्स (Bedsheets) को लोग सालों साल चलाते हैं। लेकिन समय के साथ इनका रंग फीका पड़ जाता है और रेशे कमज़ोर पड़ने लगते हैं। लाख धो लेने के बावजूद इसके रेशों में जमी धूल पक्की जगह ले लेती है। इसलिए इन्हें 2 से 3 साल में बदल देना बेहतर होता है। हां, अगर बेडशीट्स खास मौकों पर बिछाने वाली है तो इन्हें 2 साल में बदलना जरूरी नहीं है। रोज़मर्रा में इस्तेमाल होने वाली बेडशीट्स को ही 2-3 साल के अंतराल में बदलें।

तौलियाः हम भले दो-तीन तौलियों (Towel) को बारी-बारी इस्तेमाल करते हों, पर लगातार उपयोग व धोए जाने से इनके रेशे कमजोर होते जाते हैं और इनमें गंदगी डेरा जमा लेती है। छह महीने में तौलियों की भी समीक्षा कर लें।

आई मेकअपः आंखों के मेकअप (Eye Makeup) उत्पाद हर 3-4 महीने में बदलते रहना जरूरी हैं। इनका लगातार इस्तेमाल आंखों में संक्रमण बढ़ा सकता है। इसके अलावा आईशैडो, फाउंडेशन, ब्लश और ब्रॉन्ज़र को 2 साल के अंतराल में बदलें। लिक्विड और क्रीम मेकअप करीब एक साल तक ही चलते हैं।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group

- Advertisement -

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है