Covid-19 Update

2,06,161
मामले (हिमाचल)
2,01,388
मरीज ठीक हुए
3,505
मौत
31,695,958
मामले (भारत)
199,022,838
मामले (दुनिया)
×

Drug Regulating Act का विरोधः कांगड़ा में Chemist 30 को बंद रखेंगे दुकानें

Drug Regulating Act का विरोधः कांगड़ा में Chemist 30 को बंद रखेंगे दुकानें

- Advertisement -

एसोसिएशन का दावा, केंद्र सरकार की नई नीति से रिटेलर्स की बढ़ेंगी परेशानी

Protest: धर्मशाला। ड्रग रेगुलेशन एक्ट का विरोध शुरू हो गया है। अबकी बार ऑल इंडिया कैमिस्ट एसोसिएशन पूरे लाव-लश्कर के साथ इस बिल के विरोध में उतरी है। बहरहाल, 30 मई को कांगड़ा के सभी कैमिस्ट अपनी दुकानें बंद रखेंगे। ऑल इंडिया कैमिस्ट एसोसिएशन के आह्वान पर जिला कांगड़ा कैमिस्ट एसोसिएशन 30 मई को बंद में शामिल होगी

जिला कांगड़ा कैमिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेश वासुदेवा एवं अन्य पदाधिकारियों ने धर्मशाला में आयोजित पत्रकारवार्ता के दौरान कहा कि इस बंद का आह्वान नए ड्रग रेगुलेशन एक्ट के विरोध में किया जा रहा है। वासुदेवा का कहना है कि केंद्र सरकार द्वारा लाई जा रही इस नई नीति से दवा उद्योग में निर्माताओं ओर व्यापारियों को दिक्कतें होंगी, लेकिन सबसे ज्यादा परेशानी रिटेलर्स को उठानी पड़ेगी।


नई नीति की प्रक्रिया लंबी है और खर्चीली

नई नीति के तहत जब कोई व्यक्ति कैमिस्ट की दुकान पर दवाई लेने आएगा तो कैमिस्ट को उस पर्ची को स्कैन करके ई-पोर्टल पर अपलोड़ करना पड़ेगा। उसकी प्रक्रिया पूरी होने के बाद बिल बनाया जा सकेगा। यह प्रक्रिया लंबी है और खर्चीली है। दवाई लेने वाला व्यक्ति इतनी देर इंतज़ार नहीं करेगा और कैमिस्टों की दुकानों पर आए दिन झगड़े बढ़ेंगे। उनका कहना है कि दवा का आर्डर देने की प्रक्रिया भी इसी तर्ज पर ई-पोर्टल के माध्यम से पूरी होगी।

इससे सारा कारोबार ठप होने के आसार हैं। वासुदेवा ने बताया कि केंद्र सरकार दवाइयों की गुणवत्ता और फर्जी दवाइयों को पहचानने के लिए नई नीति बनाई है उसका वह स्वागत करते हैं। स्वास्थ्य क्षेत्र में बेहतर सुविधाओं के साथ दवाइयों की गुणवत्ता पर नजर रखना अच्छी बात है, लेकिन इस नई नीति के लिए सबसे पहले बुनियादी ढांचा भी सुदृढ़ होना चाहिए। ई-पोर्टल पर सारी जानकारी अपलोड़ करने के लिए इंटरनेट, कम्प्यूटर,स्कैनर इत्यादि की आवश्यकता पड़ेगी। 90 फीसदी कैमिस्टों के पास कम्प्यूटर नहीं हैं और इंटरनेट व्यवस्था कैसे चल रही है इसका भी सरकार को अंदाजा होगा ही। ऐसी व्यवस्था लागू करने से पहले यह सभी सुविधाएं भी सुनिश्चित बनाई जानी चाहिए ताकि बीच राह में नीति लटकती न रह जाए।

लाइसेंस फीस बढ़ोतरी का विरोध

कैमिस्ट एसोसिएशन का कहना है कि सरकार लाइसेंस नवीकरण फीस 3 हजार रुपए से बढ़ाकर 30 हजार रुपए करने जा रही है। इसका भी कैमिस्ट विरोध कर रहे हैं। इसके अलावा दवाइयों की ऑनलाइन सेल का भी कैमिस्ट एसोसिएशन विरोध करती है। दवाई पर लिखा होता है कि यह किसी प्रशिक्षित ओर पंजीकृत व्यक्ति द्वारा ही डॉक्टर की सलाह पर बेची जा सकती है तो फिर ऑनलाइन बिक्री क्या इस नियम की अवहेलना नहीं है।

सरकार नए नियमों में दवाइयों के थोक के कारोबार में भी व्यक्ति के दवा क्षेत्र में प्रशिक्षित होने की बात कर रही है जो कि गलत है। रिटेल के लिए यह नियम जरूरी ओर सही है लेकिन होलसेल में इस नियम का कोई तुक नहीं है। एसोसिएशन ने सभी कैमिस्टों से इस बंद में शामिल होने का आह्वान करते हुए लोगों से उनको होने वाली परेशानी के लिए क्षमा मांगी है। एसोसिएशन के कहना है कि आपात स्थिति में वह मरीज के लिए दवाई की उपलब्धता सुनिश्चित बनाएंगे। अपने 30 मई के बंद के बारे में वह डीसी ओर एसपी को भी अवगत करवाने जा रहे हैं।

सुन लें Shahpur वाले… देहरा व धर्मशाला में ही बनेगी CU

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है