Covid-19 Update

1,98,583
मामले (हिमाचल)
1,91,025
मरीज ठीक हुए
3,379
मौत
29,510,410
मामले (भारत)
176,764,688
मामले (दुनिया)
×

आईएनएक्स केस: बुरे फंसे चिदंबरम, CBI के बाद गिरफ्तारी के लिए घर पहुंची ED की टीम

आईएनएक्स केस: बुरे फंसे चिदंबरम, CBI के बाद गिरफ्तारी के लिए घर पहुंची ED की टीम

- Advertisement -

नई दिल्ली। कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम (P Chidambaram) की आईएनएक्स (INX) मीडिया केस में दिल्ली हाई कोर्ट (Delhi High Court) ने दोनों अग्रिम जमानत अर्जियां खारिज कर दी है। वहीं, हाई कोर्ट में जमानत याचिका खारिज हो जाने के बाद पूर्व वित्त मंत्री के वकील सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में न्याय की गुहार लगाई। जहां उनके मामले की सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट ने आज इंकार कर दिया। सुप्रीम कोर्ट अब बुधवार को सुनवाई कर सकता है। वहीं इस बीच खबर मिली है कि सुनवाई से पहले चिदंबरम के घर सीबीआई के 6 अधिकारियों की टीम पहुंची है। लेकिन वहां पर चिदंबरम मौजूद नहीं थे। जिसके बाद सीबीआई टीम उनके स्टाफ से पूछताछ कर खाली हाथ लौट आई है।

 


यह भी पढ़ें: गुलाम नबी आजाद को फिर नहीं मिली जम्मू में एंट्री, वापस दिल्ली भेजा गया

 

सीबीआई के बाद प्रवर्तन निदेशालय की टीम अब चिदंबरम के घर पहुंची है। अग्रिम जमानत याचिका और तीन दिन की मोहलत खारिज होने के बाद अब ईडी और सीबीआई जल्द ही चिदंबरम को गिरफ्तार करना चाहती हैं। वहीं गिरफ्तारी से बचने के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री सुप्रीम कोर्ट में शरण में हैं। चिदंबरम की विशेष याचिका सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हो गई। पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम पर साल 2007 में वित्त मंत्री के पद पर तैनात रहते हुए आईएनएक्स मीडिया को फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रोमोशन बोर्ड (Foreign investment promotion board) से गैरकानूनी रूप से स्वीकृति दिलाने के लिए 305 करोड़ रुपए की रिश्वत लेने का आरोप है।


यह भी पढ़ें: भारतीय सेना ने फिर लिया शहादत का बदला, पाक के कई पोस्ट और सैनिक किए खत्म

 

इस मामले में चिदंबरम को कोर्ट से कई बार अंतरिम प्रोटेक्शन मिली है। हालांकि, इस मामले में सीबीआई और ईडी ने पहले ही चिदंबरम के बेटे कार्ति को गिरफ्तार कर लिया था लेकिन अभी वे जमानत पर हैं। इस मामले में आईएनएक्स मीडिया की मालकिन और आरोपी इंद्राणी मुखर्जी के स्टेटमेंट भी इस साल रिकॉर्ड किए गए थे। बता दें, जिन कंपनियों में राशि हस्तांतरित की गई उनको चिदंबरम के बेटे कार्ति देखते हैं और उनके पास यह मानने का एक कारण है कि INX मीडिया को एफआईपीबी मंजूरी उनके बेटे के हस्तक्षेप पर प्रदान की गई। हाई कोर्ट ने 25 जुलाई 2018 को चिदंबरम को दोनों ही मामलों में गिरफ्तारी से अंतरिम संरक्षण प्रदान किया था जिसे समय-समय पर बढ़ाया गया।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है