Covid-19 Update

2,05,499
मामले (हिमाचल)
2,01,026
मरीज ठीक हुए
3,504
मौत
31,526,622
मामले (भारत)
196,707,763
मामले (दुनिया)
×

केंद्रीय कारागार व Observation Home पहुंची न्यायधीश

केंद्रीय कारागार व Observation Home पहुंची न्यायधीश

- Advertisement -

observation home: अंबाला। पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायलय की न्यायधीश दया चौधरी ने केंद्रीय कारागार अंबाला शहर तथा ऑबर्जवेशन होम अंबाला शहर का निरीक्षण करके वहां उपलब्ध सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने केंद्रीय कारागार में कैदियों और बंदियों की समस्याएं सुनी और ऑबर्जवेशन होम में बच्चों की समस्याएं भी सुनी। उन्होंने केंद्रीय कारागार में महिला वार्ड में स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्थापित महिला चिकित्सा कक्ष का उद्घाटन भी किया। इस कक्ष में महिला रोग विशेषज्ञ डॉ. रीतू चौधरी महिला कैदियों व बंदियों के स्वास्थ्य की नियमित जांच करेंगी। 

observation home: कैदियों और बंदियों के लिए तैयार किये जा रहे भोजन का निरीक्षण

न्यायधीश ने जिला सत्र न्यायधीश व न्यायिक अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे जरूरतमंद कैदियों और बंदियों को निशुल्क विधिक सेवाओं का शीघ्र और प्रभावी लाभ दिलवाने के लिए सभी संभव प्रयास करें। उन्होंने विधिक सेवा प्राधिकरण के पैनल के अधिवक्ताओं को भी नियमित रूप से कारागार का दौरा करके बंदियों और कैदियों की समस्याएं सुनने तथा स्थानीय न्यायालयों व उच्च न्यायालयों से संबंधित न्यायिक प्रक्रिया में उचित मार्गदर्शन करने के निर्देश दिये। न्यायाधीश ने केन्द्रीय कारागार में कैदियों और बंदियों के लिए तैयार किये जा रहे भोजन का निरीक्षण किया और उन्हें दी जा रही चिकित्सा सुविधाओं के बारे में भी विस्तृत जानकारी प्राप्त की। न्यायधीश ने कहा कि जिन महिला कैदियों और बंदियों को अभी तक इस तरह के कार्य का अनुभव नहीं है, वे भी इस कार्य को सीखें ताकि सजा के बाद वे स्वरोजगार अपनाकर आत्मनिर्भर बन सकें और सम्मानपूर्वक अपना जीवन व्यतीत कर सकें। ऑबर्जवेशन होम के निरीक्षण के दौरान उन्होंने इस होम में रहने वाले बच्चों से कहा कि वे जाने-अनजाने में हुए अपराध के अतीत को भुलाकर अपने उज्जवल भविष्य के लिए प्रयास करें। उन्होंने कहा कि इस होम में रहते हुए बच्चे अपने शिक्षा जारी रखें और उन्हें खेल, गायन, लेखन इत्यादि का जो विशेष हुनर है उसे विकसित करने के लिए भी विशेष प्रयास करें।


3 किलोमीटर दूर School और बैग का बोझ, किसान के बेटे ने निकाला अनोखा तोड़

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है