×

घोड़े पर सवार होकर तांगणू पहुंचे CM, अग्निपीड़ितों का जाना दर्द

घोड़े पर सवार होकर तांगणू पहुंचे CM, अग्निपीड़ितों का जाना दर्द

- Advertisement -

रोहड़ू। सीएम वीरभद्र सिंह ने आज शिमला ज़िला के रोहडू उपमंडल के दूर-दराज तांगणू गांव का दौरा किया तथा जिन लोगों को 14 जनवरी  की रात को आग लगने के कारण बेघर हो गए हैं, को हर संभव सहायता देने का आश्वासन दिया। अग्निकांड से गांव में घर व जान-माल का भारी नुकसान हुआ था। सीएम वीरभद्र सिंह ने वन विभाग को भवनों के निर्माण के लिए इमारती लकड़ी उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि गांव में सामुदायिक केन्द्र का निर्माण किया जाएगा। वीरभद्र सिंह ने कहा कि सरकार बेघर परिवारों के पुनर्वास के लिए अतिरिक्त वित्तीय सहायता उपलब्ध करवाएगी। उन्होंने उपायुक्त को निर्देश दिए कि सभी 54 प्रभावित परिवारों को एक समान वित्तीय सहायता उपलब्ध करवाई जाए।


  • वन विभाग को इमारती लकड़ी मुहैया करवाने के दिए निर्देश
  • सीएम का आग्रह, घर निर्माण करते भवनों के मध्य में पर्याप्त दूरी रखें

उन्होंने गांव के लिए सम्पर्क मार्ग निर्माण और तांगणू में महिलामंडल निर्माण तथा सभी आवश्यक मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। सीएम ने लोगों से आग्रह किया कि वे घर का निर्माण करते समय भवनों के मध्य में पर्याप्त दूरी रखें। उन्होंने कहा कि लोगों को पशुओं के चारे के भंडारण के लिए अतिरिक्त प्रावधान करने चाहिए।  उन्होंने इस अवसर पर लोगों की समस्याओं को सुना तथा प्रशासन को उनका तत्काल निवारण करने के निर्देश दिए। ग्राम पंचायत तांगणू-जंगलिक के प्रधान ने सीएम तथा प्रशासन का अग्नि पीड़ित परिवारों को तुरन्त राहत व पुनर्वास प्रदान करने के लिए आभार व्यक्त किया। डीसी रोहन ठाकुर ने सीएम को बताया कि प्रभावित परिवारों को 71 लाख रुपये की राशि वितरित की गई है।

इसके अतिरिक्त, लोगों को ईंधन, खाद्यान्न सामग्री, कम्बल, पशुओं के लिए चारा तथा बर्तन भी प्रदान किए गए। उन्होंने कहा कि बच्चों को किताबें उपलब्ध करवाने का खर्च डिला रेडक्रॉस सोसायटी वहन करेगी। जिला रेडक्रॉस सोसायटी द्वारा 3 लाख रुपये की राशि दी गई है।  उपमंडलाधिकारी (ना.) रोहडू अनुपम कुमार ने कहा कि प्रत्येक परिवार को 1.19 लाख रुपये की राशि दी जा रही है, जिनमें से अधिकतर को यह राशि पहले ही दी जा चुकी है। गांव के लिए रास्ता जोखिम भरा होने के चलते वीरभद्र सिंह घोडे़ पर सवार होकर गांव पहुंचे।

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है