Covid-19 Update

2,06,369
मामले (हिमाचल)
2,01,520
मरीज ठीक हुए
3,506
मौत
31,723,560
मामले (भारत)
199,307,256
मामले (दुनिया)
×

श्रीलंका ने चीन की पनडुब्बी रखने से किया मना

श्रीलंका ने चीन की पनडुब्बी रखने से किया मना

- Advertisement -

कोलंबो बंदरगाह पर रखने की  दी थी इजाजत, भारत ने किया था विरोध

China Submarine Colombo Port  : कोलंबो। श्रीलंका ने चीन की एक पनडुब्बी को कोलंबो के बंदरगाह में रखने को लेकर की गई पेइचिंग की अपील को खारिज कर दिया है। गुरुवार को पीएम नरेंद्र मोदी के श्रीलंका पहुंचने के बाद सरकार के दो वरिष्ठ अधिकारियों ने यह जानकारी दी। श्रीलंका ने अक्टूबर 2014 में आखिरी बार किसी चीनी पनडुब्बी को कोलंबो बंदरगाह पर रखने की इजाजत दी थी, जिसका भारत ने कड़ा विरोध किया था। बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी दो दिन के दौरे पर श्रीलंका आए हुए हैं। श्रीलंका सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कोलंबो में एक चीनी पनडुब्बी को रखने की पेइचिंग की अपील को खारिज कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि श्रीलंका चीन की पनडुब्बी को किसी भी समय कोलंबो में रखने की अपील से सहमत नहीं था। इस संबंध में उन्होंने भारत की चिंताओं का भी जिक्र किया।

पनडुब्बी को रखे जाने का फैसला फिलहाल टाल दिया

मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए अधिकारी ने अपना नाम नहीं बताया। रक्षा मंत्रालय के एक और अधिकारी ने चीन की पनडुब्बी को कोलंबो के डॉकयार्ड में रखे जाने की अपील को खारिज किए जाने की पुष्टि की, हालांकि उन्होंने कहा कि भविष्य में पनडुब्बी को रखे जाने का फैसला फिलहाल टाल दिया गया है। अधिकारी ने कहा, ऐसा बाद में हो सकता है। उन्होंने बताया कि चीन ने कुछ दिन पहले 16 मई के आसपास पनडुब्बी को बंदरगाह पर रखे जाने के लिए स्वीकृति मांगी थी। चीन के दूतावास के एक नजदीकी सूत्र ने इस बात की पुष्टि की है कि चीन ने अपनी पनडुब्बी को कोलंबो में रखने के लिए श्रीलंका से अपील की थी, लेकिन उसे अभी श्रीलंका के जवाब का इंतजार है। हाल के सालों में चीन ने श्रीलंका में एयरपोर्ट्स, सड़कें, रेलवे और बंदरगाह के निर्माण के लिए काफी निवेश किया है। ऐसा करने के पीछे उसका मकसद भारत के लिए (आर्थिक) अस्थिरता पैदा करना है जो पारंपरिक रूप से श्रीलंका का आर्थिक साझेदार रहा है। कोलंबो में 70 प्रतिशत जहाजों की आवाजाही भारत से होती है। वहीं श्रीलंका घाटे में चल रहे अपने हैमबैनटोटाटा बंदरगाह को चीन को 99 साल के लिए किराए पर देने की योजना पर अंतिम फैसला लेने जा रहा है, हालांकि ट्रेड यूनियनों के विरोध की वजह से डील में देरी हो रही है।


आतंक के साये में रेलवे, चारबाग Station को Bomb से उड़ाने की दी धमकी

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है