असली नहीं मार्केट में मिलने वाली चॉकलेट, आप भी हैं तो शौकीन जरूर पढ़ें ये खबर

असली नहीं मार्केट में मिलने वाली चॉकलेट, आप भी हैं तो शौकीन जरूर पढ़ें ये खबर

- Advertisement -

चॉकलेट ऐसी स्वादिष्ट चीज जो सभी को पसंद होगी ही। कोई ऐसा नहीं होगा जिसने कभी चॉकलेट न खाई हो खासकर बच्चों और लड़कियों को तो ये बहुत पसंद है। आपने चॉकलेट खाते हुए ये नोटिस किया होगा कि ये मुंह में जाते ही घुल जाती है। इसके पीछे दो कारण हो सकते हैं एक तो आपकी चॉकलेट शुद्ध कोकी बींस से बनी हो या फिर उसमें वेजिटेबल ऑयल यानी वनस्‍पति तेल का यूज हो रहा हो। आपको ये जानकर हैरानी होगी कि मार्केट में मिलने वाली चॉकलेट असल में चॉकलेट ह‍ी नहीं है।

चॉकलेट दरअसल कोको बीन्स से बनती है, लेकिन पिछले कुछ समय से कोको बींस के उत्पादन में डिमांड की तुलना में काफी कमी आई है। ऐसे में अब सवाल यह है कि कोको बीन्स का उत्पादन कम होने के बावजूद बाजार हमेशा चॉकलेट की कमी क्‍यों नहीं आई। बढ़ती डिमांड के आगे कोको बटर का उत्‍पादन कम है, जिसके वजह से कोको बटर के दाम मार्केट में ऊंचाइयां छू रहे हैं। कोको बटर महंगा होने के वजह से लागत बचाने के ल‍िए कई चॉकलेट उत्‍पादकों ने चॉकलेट में इसकी बजाय वनस्पति तेल जैसे नारियल का तेल, ताड़ का तेल, सफेद सरसों का तेल, सोयाबीन का तेल के अलावा कई तरह के तेल का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है।

चॉकलेट खरीदते समय अगर आप अगर पैकेट पर ध्यान दें, तो आपको हाईड्रोजनीकृत वनस्पति तेल नामक सामग्री का पता चलेगा। यह सामग्री न तो सिर्फ स्वाद, बल्कि असली चॉकलेट के महक को भी खत्म करती है, साथ ही यह सेहत को भी नुकसान पहुंचा सकती है। वनस्पति तेल कमरे के तापमान पर स्थिर रहता है, जो हाईड्रोजिनेशन की प्रक्रिया के बाद सख़्त बनता है। ऐसा करने से चॉकलेट के उपयोग होने तक की अवधि बढ़ जाती है, लेकिन इसकी वजह से शरीर में सैचूरेटेड फैट या ट्रांस फैट बनना शुरू हो जाता है जो सेहत के लिए हानिकारक होते हैं। इसके प्रयोग से शरीर में डायबिटीज़, हृदय संबंधी रोग और मोटापे की परेशानी भी हो सकती है।

मार्केट में उपलब्ध चॉकलेट की सामग्री में हाईड्रोजनीकृत वनस्पति तेल शामिल किया जा रहा है, जो आपकी सेहत के लिए काफी हानिकारक हो सकता है। आप जानकर हैरानी होगी कि अमेरिका में हाइड्रोजनीकृत तेल से निर्मित चॉकलेट पर प्रतिबंध लगा हुआ है, वहां सिर्फ 100 प्रतिशत कोको बटर से न‍िर्मित चॉकलेट ही बिक्री और खरीदने की इजाजत है। जबकि भारत में आने वाली सभी चॉकलेट, जिनमें हाईड्रोजनीकृत वनस्पति तेल होता है, उसके पैकेट पर कहीं भी ‘चॉकलेट’ शब्द का जिक्र नहीं होता है। इसका मतलब यह है कि कोई भी ब्रांड यह दावा नहीं कर रहा है कि हकीकत में ये असली चॉकलेट ही है इसल‍िए अगली बार अपने बच्‍चों के ल‍िए चॉकलेट्स खरीदने से पहले पूरी जांच पड़ताल कर लें।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है