Covid-19 Update

2,05,499
मामले (हिमाचल)
2,01,026
मरीज ठीक हुए
3,504
मौत
31,526,589
मामले (भारत)
196,267,832
मामले (दुनिया)
×

दो टूकः जो करना है कर लो, Auckland School में होकर रहेगा धरना

दो टूकः जो करना है कर लो, Auckland School में होकर रहेगा धरना

- Advertisement -

CITU protest : ऑकलैंड स्कूल के 100 मीटर दायरे में लगाई है धारा 144

CITU protest : लोकिन्दर बेक्टा/शिमला। माकपा के मजदूर संगठन सीटू ने ऐलान किया है कि कल 24 अप्रैल को राजधानी के ऑकलेंड स्कूल में प्रस्तावित 24 घंटे का धरना होकर रहेगा। उसका कहना है कि यह धरना 32 मजदूरों को स्कूल से निकालने, स्कूल प्रबंधन द्वारा की गई भारी फीस बढ़ोतरी के खिलाफ है। इसके साथ-साथ इस स्कूल में शिक्षा का अधिकार कानून को लागू न किए जाने को लेकर होगा। सीटू के जिला सचिव विजेंद्र मेहरा ने आज यहां प्रेस कांफ्रेंस में आरोप लगाया कि जिला प्रशासन ने मजदूरों के आंदोलन को कुचलने और वहां फीस वृद्धि के खिलाफ हो रहे आंदोलन को कुचलने के लिए ऑकलेंड स्कूल के पास धारा-144 लगाई है।

सीटू ने डीसी पर साधा निशाना, स्कूल प्रबंधन का साथ देने का आरोप

उन्होंने जिला प्रशासन और डीसी शिमला को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि वह इसमें खुद शामिल हैं। क्योंकि उनका हित वहां जुड़ा है।मेहरा ने कहा कि डीसी का बच्चा भी उसी स्कूल में पढ़ता है और इसलिए वह स्कूल प्रबंधन की भाषा बोल रहे हैं और जो स्कूल प्रबंधन कहता है, वह कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा का अधिकार कानून को लागू करने का जिम्मा जिला प्रशासन का है और वह इसे लागू करने में असफल रहे हैं। उन्होंने कहा कि डीसी कभी स्कूल में यह देखने नहीं गए कि इस स्कूल में कितने गरीब बच्चों को स्कूल प्रबंधन ने प्रवेश दिया है। उनका कहना था कि डीसी को स्कूल प्रंबधन के खिलाफ जो कदम उठाने चाहिए, वह तो उठाए नहीं, उल्टे उनकी मदद करने में लगे हैं।


डीसी निभाएं संवैधानिक जिम्मेवारियों, नहीं तो होगा आंदोलन

उन्होंने डीसी शिमला से कहा कि वह अपनी संवैधानिक जिम्मेवारियों का निर्वाहन करें और ऑकलेंड स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई करें। यदि डीसी ने ऐसा नहीं किया तो सीटू उनके खिलाफ भी मोर्चा खोल देगा। सीटू नेता ने कहा कि ऑकलैंड स्कूल प्रबंधन में श्रम कानून लागू नहीं हो रहे हैं। इसके लिए मजदूर 77 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं, लेकिन स्कूल प्रबंधन इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। मैहरा ने कहा कि धारा-144 आम तौर पर वहां लगाई जाती है, जहां कोई दंगा-फसाद या फिर हिंसा होती है, लेकिन यहां शांतिपूर्ण प्रदर्शन से डीसी को क्या खतरा है।

उन्होंने आरोप लगाया कि स्कूल प्रबंधन ने जो नए कर्मचारी रखे हैं, उन्हें डराया-धमकाया जा रहा है। इसके साथ-साथ उन मजदूरों पर दबाव डालकर आंदोलनरत मजदूरों के खिलाफ शिकायत देने को कहा जा रहा है। उन्होंने इसकी घोर निंदा करते हुए कहा कि स्कूल प्रबंधन डीसी को साथ लेकर जो भी कानून करना चाहता है, करें, लेकिन कल होने वाला 24 घंटे का धरना होकर रहेगा।

LIC तोड़ रही समझौता, नहीं दे रही Pension

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है