Covid-19 Update

2,00,603
मामले (हिमाचल)
1,94,739
मरीज ठीक हुए
3,432
मौत
29,944,783
मामले (भारत)
179,349,385
मामले (दुनिया)
×

तीन साल में 9377 सड़क हादसे, 3500 की मौत- 16,593 लोग हुए घायल

तीन साल में 9377 सड़क हादसे, 3500 की मौत- 16,593 लोग हुए घायल

- Advertisement -

शिमला। सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai ram thakur) ने समाज के सभी वर्गों को अपने जीवन की संस्कृति के रूप में सड़क सुरक्षा को अपनाने और इसे एक जन अभियान बनाने का आह्वान किया। सीएम राज्य स्तरीय सड़क सुरक्षा जागरुकता अभियान ( State level road safety awareness campaign) के अवसर पर आज यहां परिवहन विभाग द्वारा आयोजित मैराथन रैली के पुरस्कार वितरण समारोह के दौरान बोल रहे थे। जयराम ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए प्रतिबद्ध है और राज्य स्तरीय सड़क सुरक्षा अभियान की शुरूआत इस दिशा में एक बड़ी पहल है।


यह भी पढ़ें: जयराम के मंत्री बोलेः विरोधी हिमाचल नहीं, कांग्रेस पार्टी बचाओ अभियान कर रहे शुरू


प्रदेश सरकार सड़क सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए बेहतर सड़कों, क्रैश बैरियरों, बेहतर प्रशिक्षित ड्राइवरों और मैकेनिकली फिट वाहनों का प्रावधान करने जा रही है। उन्होंने कहा कि राज्य परिवहन विभाग में एक सड़क सुरक्षा सेल भी गठित किया गया है।सीएम ने कहा कि एक पहाड़ी राज्य होने के नाते, राज्य में गंभीर सड़क दुर्घटनाएं होती हैं और मैदानी क्षेत्रों की तुलना में मरने वालों की संख्या भी आमतौर पर अधिक है। उन्होंने चिंता व्यक्त की कि पिछले तीन वर्षों के दौरान, राज्य में 9377 सड़क दुर्घटनाओं में 3500 लोगों ने अपनी जान गंवाई और 16,593 लोग घायल हुए हैं। उन्होंने कहा कि हालांकि हम सभी यातायात नियमों और प्रावधानों से अच्छी तरह से परिचित हैं, लेकिन आमतौर पर लापरवाही के कारण लोग अक्सर सड़क दुर्घटनाओं का शिकार हो जाते हैं।

लोगों को यह महसूस करना होगा कि ये नियम उनकी सुरक्षा के लिए हैं और उन्हें पूरी जिम्मेदारी के साथ इनका पालन करना चाहिए। जय राम ठाकुर ने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं के विश्लेषण से साबित हुआ है कि शहरी इलाकों की तुलना में ग्रामीण सड़कों पर दुर्घटनाओं में मरने वालों की संख्या हमेशा अधिक होती है। सड़क दुर्घटनाओं के मुख्य कारणों में लापरवाही से और शराब पीकर गाड़ी चलाना, ओवरलोडिंग, सीट बेल्ट का उपयोग न करना, वाहन चलाते समय संगीत सुनना और यातायात नियमों की अनदेखी करना शामिल हैं।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है