Covid-19 Update

2,01,054
मामले (हिमाचल)
1,95,598
मरीज ठीक हुए
3,446
मौत
30,082,778
मामले (भारत)
180,423,381
मामले (दुनिया)
×

नई पर्यटन नीति अंतिम चरण में, शिमला-मनाली जैसे पर्यटन स्थलों से कम होगी भीड़

नई पर्यटन नीति अंतिम चरण में, शिमला-मनाली जैसे पर्यटन स्थलों से कम होगी भीड़

- Advertisement -

शिमला। प्रदेश सरकार ने पर्यटन क्षेत्र में 10 हजार करोड़ रुपए के लक्ष्य के मुकाबले अब तक 8071 करोड़ रुपए लागत के 72 समझौता ज्ञापन (MOU) भावी उद्यमियों के साथ हस्ताक्षरित किए हैं जिन्हें ‘हिम प्रगति’ वेबसाइट (Website) पर भी अपलोड किया गया है। सीएम जयराम ठाकुर ने आज यहां पर्यटन विभाग की एक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के लिए नई पर्यटन नीति तैयार की जा रही है, जिसका कार्य अंतिम चरण में है।


यह भी पढ़ें: जयराम बोलेः धूमल-वीरभद्र सरकार में भी तो बढ़े भत्ते, हमने क्या नया किया


नई पर्यटन नीति में राज्य के नए गंतव्यों को विकसित करने और शिमला व मनाली जैसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों से भीड़-भाड़ कम करने पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। इसके अतिरिक्त नए साहसिक खेल नियम, 2019 भी तैयार किए जा रहे हैं, ताकि प्रदेश में साहसिक पर्यटन को प्रोत्साहन मिले व इन पर नियंत्रण रखा जा सके। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश पर्यटन सतत विकास योजना भी इस वर्ष अक्तूबर माह तक तैयार हो जाएगी, जिसके अंतर्गत सुनियोजित पर्यटन विकास सुनिश्चित होगा।


जयराम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश सरकार मंडी (Mandi) जिला के जंजैहली क्षेत्र को इको पर्यटन के लिए विकसित करने के प्रयास कर रही है। प्रमुख औद्योगिक घराना क्लब महेंद्रा जंजैहली में टूरिस्ट रिजॉर्ट की स्थापना करने जा रहा है। प्रदेश सरकार जंजैहली से रायगढ़ और उससे आगे शिकारी माता तक रज्जूमार्ग निर्मित करने पर विचार कर रही है। उन्होंने कहा कि जंजैहली क्षेत्र में और अधिक पर्यटकों को आकर्षित करने के उद्देश्य से यहां एक मनोरंजनात्मक/पारंपरिक केंद्र भी स्थापित किया जाएगा।


बीड़ बिलिंग पैराग्लाइडिंग व साहसिक खेलों के तौर पर होगा विकसित

सीएम ने कहा कि कांगड़ा (Kangra) जिला के बीड़ बिलिंग को पैराग्लाइडिंग व साहसिक खेलों के गंतव्य के रूप में विकसित किया जाएगा, ताकि यह क्षेत्र विश्व पर्यटन मानचित्र पर उभर सके और स्थानीय युवाओं को रोजगार के पर्याप्त अवसर भी उपलब्ध हों। उन्होंने कहा कि साहसिक खेलों के प्रेमियों की सुविधा के लिए बीड़ बिलिंग में 8.70 करोड़ रुपए की लागत से पैराग्लाइडिंग प्रशिक्षण संस्थान स्थापित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कांगड़ा जिला के पौंग डैम (Pong Dam) को ‘नई राहें नई मंजिलें’ योजना के अंतर्गत जल क्रीड़ा स्थल के तौर पर विकसित किया जा रहा है।

पौंग झील में प्रदूषण रहित वाहन, शिकारा, हाऊस बोट और फ्लोटिंग रेस्टोरेंट सैलानियों के लिए आकर्षण का केंद्र होंगे। शिमला जिला के चांशल क्षेत्र को शीतकालीन खेलों और स्कीइंग गंतव्य के रूप में विकसित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही चांशल में स्काई रिजॉर्ट स्थापित करने के लिए निविदाएं अमंत्रित की जाएंगी। उन्होंने कहा कि चांशल को स्नो स्पोर्ट गंतव्य बनाने के साथ-साथ समर रिजॉर्ट के रूप में भी विकसित किया जाएगा। देवीधार और पंजैन, बिजाही इत्यादि में कैंपिंग साइट विकसित की जाएगी।


बगलामुखी नेचर पार्क में इंटरप्रटेशन केंद्र स्थापित करना प्रस्तावित

इसके अतिरिक्त बगलामुखी नेचर पार्क में इंटरप्रटेशन केंद्र स्थापित करना भी प्रस्तावित है। उन्होंने कहा कि कैक्ट्स गार्डन, रोपवे, नेचर वॉक और रॉक क्लाईंबिंग इत्यादि सुविधाएं भी इस क्षेत्र में विकसित की जाएंगी। पंडोह के पास लॉग हट का निर्माण किया जाएगा, ताकि कुल्लू-मनाली (Kullu-Manali) जाने वाले पर्यटकों को रास्ते में एक और पर्यटन स्थल की सुविधा मिल सके। मुख्य सचिव डॉ. श्रीकान्त बाल्दी, प्रधान सचिव राजस्व ओंकार शर्मा, निदेशक पर्यटन यूनुस और राज्य सरकार के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है