Covid-19 Update

2,18,523
मामले (हिमाचल)
2,13,124
मरीज ठीक हुए
3,653
मौत
33,694,940
मामले (भारत)
232,779,878
मामले (दुनिया)

BBN में रेलवे कनेक्टिविटी को लेकर क्या बोले CM, कैसे डूबे हिमाचल के 30 हजार करोड़- जानिए

BBN में रेलवे कनेक्टिविटी को लेकर क्या बोले CM, कैसे डूबे हिमाचल के 30 हजार करोड़- जानिए

- Advertisement -

शिमला। सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि बद्दी, बरोटीवाला, नालागढ़ औद्योगिक क्षेत्र में रेलवे कनेक्टिविटी सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार से मामला उठाया जाएगा। औद्योगिक क्षेत्रों (Industrial Areas) में पानी की समस्या हल करने के लिए जल संरक्षण सुनिश्चित करने के लिए चेकडैम (Check Dam) का निर्माण किया जाएगा। यह जानकारी सीएम जयराम ठाकुर (CM Jai Ram Thakur) ने यहां सीआईआई द्वारा ‘एचपी इकोनॉमिक समिट-गेटिंग द ग्रोथ बैक’ पर आयोजित एक वेबीनार के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए दी। उन्होंने कहा कि प्रदेश औद्योगिक निवेश नीति के तहत औद्योगीकरण को बढ़ावा देने, इसे और अधिक प्रभावशाली व उद्योग अनुकूल बनाने के लिए आकर्षक प्रोत्साहन प्रदान कर रहा है। सीएम ने कहा कि कोविड-19 (Covid-19) के उपरांत इन क्षेत्रों में निवेश को आकर्षित करने के लिए पर्यटन नीति, फिल्म नीति (Film Policy), सूचना प्रौद्योगिकी नीति, आयुष नीति, सस्ती आवास नीति जैसी विभिन्न नीतियों को तैयार किया गया है। हिमाचल प्रदेश को देश का औद्योगिक केंद्र बनाने के लिए राज्य सरकार ने एक समग्र दृष्टिकोण अपनाया है। उन्होंने कहा कि आवास, बिजली उत्पादन, सीए स्टोर, सॉफ्टवेयर प्रौद्योगिकी पार्कों और इस तरह के पर्यटन, बुनियादी और औद्योगिक बुनियादी ढांचे जैसे क्षेत्रों में निजी क्षेत्र की भागीदारी लाभदायक हो सकती है।

यह भी पढ़ें: Live Himachal Cabinet:औद्योगिक कौशल विकास भत्ता योजना 2018 में होगा संशोधन

 

कोरोना मामलों में से 800 मामले राज्य के औद्योगिक क्षेत्रों से आए

जयराम ठाकुर ने कहा कि कोरोना (Corona) महामारी ने विश्व अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। इससे ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट की सफलता के उपरांत राज्य सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्य भी प्रभावित हुए हैं। हालांकि अर्थव्यवस्था सबसे निचले स्तर पर पहुंच गई है, फिर भी सरकार इसे पुनर्जीवित करने और ग्लोबल इन्वेस्टर्स मीट में निर्धारित निवेश लक्ष्यों को हासिल करने के लिए प्रतिबद्ध है। सीएम ने कहा कि लॉकडाउन (Lockdown) और मजदूरों के राज्य से बाहर चले जाने के कारण राज्य में उद्योग क्षेत्र बुरी तरह प्रभावित हुआ है। राज्य में लगभग 3636 कोरोना मामलों में से 800 मामले राज्य के औद्योगिक क्षेत्रों से सामने आए हैं। उन्होंने कहा कि औद्योगिक क्षेत्र को जोड़ने वाली सड़कों के फोरलेन पर काम में तेजी लाने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम औद्योगिक क्षेत्रों में केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है। राज्य सरकार को उम्मीद है कि केंद्र सरकार द्वारा स्थापित किए जाने वाले तीन बल्क ड्रग्स पार्क में से निश्चित रूप से एक बल्क ड्रग पार्क (Bulk Drug Park) हिमाचल प्रदेश में स्थापित किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: बारिश ने रोका Jai Ram का उड़नखटोला, Una दौरा स्थगित; उद्घाटन व शिलान्यास लटके

उद्योग मंत्री बिक्रम सिंह ठाकुर ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों के पुनरुद्धार के लिए हर संभव सहायता प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने इस महामारी से निपटने में राज्य सरकार को हर संभव सहायता प्रदान करने के लिए उद्योग क्षेत्र का धन्यवाद किया। अतिरिक्त मुख्य सचिव, उद्योग राम सुभाग सिंह ने कहा कि राज्य सरकार ने अर्थव्यवस्था के पुनरुद्धार के लिए कैबिनेट (Cabinet) सब-कमेटी का गठन किया है। सरकार सुनिश्चित कर रही है कि कोविड महामारी के कारण अर्थव्यवस्था की गतिविधियों को नुकसान ना हो। उन्होंने कहा कि राज्य में पहली बार बल्क ड्रग पार्क के निर्माण के लिए 2800 एकड़ भूमि को चिन्हित किया गया है।

 

कोरोना महामारी से राज्य की अर्थव्यवस्था को 30,000 करोड़ रुपये का नुकसान

सीआईआई हिमाचल प्रदेश के अध्यक्ष शैलेश पाठक ने राज्य में कोविड-19 महामारी से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए सीएम का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी से राज्य की अर्थव्यवस्था (Economy) को 30,000 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। उन्होंने कहा कि एक पहाड़ी राज्य होने के कारण हिमाचल प्रदेश में विभिन्न विकासात्मक बाधाएं हैं, लेकिन साथ ही यह कई अतिरिक्त भी अवसर प्रदान करता है। सीआईआई हिमाचल (CII Himachal) के उपाध्यक्ष शैलेश अग्रवाल ने मुख्यमंत्री से राज्य के औद्योगिक क्षेत्रों में रेल और सड़क नेटवर्क को सुदृढ़ करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि औद्योगिक क्षेत्र में आंतरिक सड़कों के उचित रख-रखाव और बेहतर बनाने की आवश्यकता है। उन्होंने बद्दी (Baddi), बरोटीवाला, नालागढ़ औद्योगिक क्षेत्र में चेक डैम के निर्माण का भी सुझाव दिया।

यह भी पढ़ें: BBN में श्रमिकों को अंतर राज्य आवागमन में मिलेगी छूट, क्या बोले जयराम – जानिए

माइक्रोटेक के अध्यक्ष सुबोध गुप्ता ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण लगाए गए लॉकडाउन के परिणामस्वरूप वैश्विक अर्थव्यवस्था में मंदी आई है, जिससे भारत और हिमाचल प्रदेश भी अछूते नहीं हैं। उन्होंने कहा कि राज्य की राजस्व प्राप्तियों में भारी वृद्धि हुई है। राज्य को फल प्रसंस्करण, आईटी, जैव प्रौद्योगिकी, सौर ऊर्जा, एमएसएमई आदि पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है। उन्होंने राज्य सरकार को इन क्षेत्रों में उद्यमियों को विशेष प्रोत्साहन प्रदान करने का सुझाव दिया। उद्योगपति सुकेत सिंघल ने कहा कि हिमाचल प्रदेश को देश के फल राज्य के रूप में जाना जाता है, जहां फल प्रसंस्करण क्षेत्र में निवेश की अपार संभावनाएं हैं। उन्होंने कहा कि उपज का मूल्यवर्धन सुनिश्चित करने के लिए सहकारी समितियों का गठन किया जाना चाहिए। इस अवसर पर निदेशक उद्योग हंस राज शर्मा, उद्योगपति हरीश अग्रवाल, संजय खुराना, विनोद, राजेंद्र गुलेरिया, अनिल सहगल व राजीव अग्रवाल आदि उपस्थित थे।

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है