×

Covid-19 Update

59,197
मामले (हिमाचल)
57,616
मरीज ठीक हुए
988
मौत
11,244,786
मामले (भारत)
117,749,800
मामले (दुनिया)

सीएम चिकित्‍सा सहायता कोष गठित, बड़े अस्‍पतालों में होगा गंभीर बीमारियों का इलाज

सीएम चिकित्‍सा सहायता कोष गठित, बड़े अस्‍पतालों में होगा गंभीर बीमारियों का इलाज

- Advertisement -

पालमपुर। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री विपिन सिंह परमार ने कहा कि गंभीर बीमारियों से ग्रस्त जरूरतमंद लोगों को उपचार के लिए सहायता प्रदान करने को सीएम चिकित्सा सहायता कोष (CM Medical assistance Fund) गठित किया गया है। इसके तहत जरूरतमंदों को प्रदेश के सरकारी अस्पतालों के अतिरिक्त प्रदेश के बाहर पीजीआई (PGI) चंडीगढ़, मेडिकल कॉलेज चंडीगढ़, एम्स(AIMS) दिल्ली सहित आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत पंजीकृत अस्पतालों (Hospitals) में उपचार करवाने के लिए भी सहायता प्रदान की जा सकेगी।

यह भी पढ़ें: शिमला बस हादसाः छात्र-अभिभावक मंच ने डीसी ऑफिस के बाहर किया प्रदर्शन

 

सभी गंभीर बीमारियों को इसमें शामिल किया गया है। यह बात स्वास्थ्य मंत्री ने आज सुलह विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत पनियाली में वन विभाग के विश्राम गृह में आयोजित जनमंच कार्यक्रम में लोगों को संबोधित कर हुए कही। स्वास्थ्य मंत्री (Health Minister) ने पनियाली में लगभग 250 लोगों की समस्याओं को सुना। उन्होंने अधिकतर समस्याओं का मौके पर समाधान कर दिया तथा शेष समस्याओं के समाधान के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि राज्य में संपूर्ण स्वास्थ्य योजना आरंभ की गई है। इसके अंतर्गत प्रथम चरण में 12 स्वास्थ्य संस्थानों को संपूर्ण अस्पतालों में परिवर्तित किया जाएगा। इन संपूर्ण अस्पतालों में सभी आवश्यक सुविधाओं का प्रावधान किया जाएगा। इसके साथ ही ऐसी व्यवस्था भी स्थापित की जाएगी जिसके माध्यम से संपूर्ण अस्पतालों को रेफर केसिस की आनलाइन मॉनिटरिंग भी सुनिश्चित की जाएगी, ताकि लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिल सकें। इस अवसर पर आयुर्वेद विभाग द्वारा निःशुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया, जिसमें 135 लोगों की स्वास्थ्य जांच की गई।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार भारत की प्राचीन चिकित्सा पद्धति ‘आयुर्वेद’ को मजबूत करने के लिए प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि आयुर्वेंदिक केवल रोगों की चिकित्सा तक ही सीमित नहीं है, अपितु यह जीवन मूल्यों, स्वास्थ्य एवं जीवन जीने का संपूर्ण ज्ञान है। हिमाचल में औषधीय जड़ी-बूटियों एवं पौधों की अकूत संपदा है। सरकार इसके समूचित दोहन के लिए कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में इस समय कुल 1175 आयुर्वेदिक चिकित्सा केंद्र तथा 34 आयुर्वेद अस्पताल कार्यरत हैं।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है