Expand

सीएम की सदैव जीत को शतचंडी यज्ञ शुरू

सीएम की सदैव जीत को शतचंडी यज्ञ शुरू

- Advertisement -

धर्मशाला। मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की सदैव जीत के लिए जिला मंडी के करसोग में छिंडी माता मंदिर में शतचंडी यज्ञ शुरू किया गया। पंचायत तकनीकी सहायकों द्वारा शुरू किए गए इस शतचंडी यज्ञ में 9 अक्तूबर तक आहुती डाली जाएगी तथा 9 अक्तूबर को ही इस शतचंडी महायज्ञ की पूर्णाहुति होगी, जिसमें मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को मुख्यातिथि के रूप में बुलाने पर पंचायत तकनीकी सहायक संघ विचार कर रहा है।

  • पंचायत तकनीकी सहायकों ने करसोग के छिंडी माता मंदिर में शुरू किया कार्यक्रम
  • शतचंडी महायज्ञ की जानकारी देते हुए पंचायत तकनीकी सहायक संघर्ष समिति के प्रदेशाध्यक्ष भुवनेश कुमार ने बताया कि यह यज्ञ मुख्यमंत्री की सदैव जीत के लिए किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि 9 दिन तक चलने वाले इस हवन यज्ञ में 11 के करीब पंडित आहुतियां डाल रहे हैं, जबकि इनकी संख्या लगातार बढ़ती जाएगी। भुवनेश कुमार के अनुसार इस शतचंडी हवन यज्ञ का आयोजन शनिवार को पहले नवरात्र से शुरू हो गया है, gafoor-2जबकि 9 अक्तूबर को शतचंडी हवन यज्ञ की पूर्णाहुति होगी। उन्होंने बताया कि संघ द्वारा समापन अवसर पर मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को बुलाने पर विचार किया जा रहा है। अगर सब कुछ ठीक रहा तो समापन अवसर की अध्यक्षता मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह करेंगे। उन्होंने बताया कि इस शतचंडी यज्ञ का आयोजन मुख्यमंत्री द्वारा उनकी मांगों को मान लिए जाने के उपलक्ष्य पर किया जा रहा है।

बताते चलें कि पंचायत तकनीकी सहायक 16 अगस्त से कलम छोड़ो हड़ताल पर हैं। उनकी मांग है कि जब तक उन्हें नियमित नहीं किया जाता तब तक उनकी हड़ताल जारी रहेगी। वहीं पंचायती राज मंत्री अनिल शर्मा उनकी इस हड़ताल को अवैध करार देते आ रहे हैं। अनिल शर्मा  तो यह भी ऐलान कर चुके हैं कि यदि हड़ताल समाप्त नहीं की गई तो इन लोगों को बर्खास्त कर दिया जाएगा। हाल ही में सीएम के सिराज घाटी के दौरे के दौरान तकनीकी सहायकों ने सीएम से मुलाक़ात की थी। सीएम ने उन्हें वार्ता के लिए शिमला बुलाया था। शिमला में सीएम ने निदेशक पंचायती राज विभाग की मौजूदगी में एक बैठक की और विभाग को तकनीकी सहायकों की मांगों पर विचार करने और नीति बनाने के निर्देश दिए।

पंचायत तकनीकी सहायक संघर्ष समिति के प्रदेशाध्यक्ष भुवनेश कुमार का कहना है कि संघर्ष समिति की प्रमुख मांग हर एक तकनीकी सहायक को रेगुलर करना है।

  • यह इतिहास में पहली बार हो रहा है कि अनुबंध कर्मचारियों को दूसरी बार अनुबंध पर रखा जा रहा है। पहले धूमल सरकार ने वर्ष 2011 में तकनीकी सहायकों को अनुबंध पर रखा था और अब वर्तमान सरकार ने भी तकनीकी सहायकों को अनुबंध पर रखने की घोषणा की है जो की प्रदेश के 1100 पंचायत तकनीकी सहायकों के साथ मजाक है।

अब तकनीकी सहायक आर पार की लड़ाई लड़ रहे हैं और ईमानदारी से निम्न स्तर पर विकास कार्यों को अमलीजामा पहनाने वाले तकनीकी सहायकों के साथ मजाक सहन नहीं किया जाएगा। भुवनेश कुमार का कहना है कि पंचायती राज विभाग में अलग से एक तकनीकी विंग की स्थापना की जानी चाहिए। क्योंकि पंचयात तकनीकी सहायकों का एक महत्वपूर्ण रोल है और इस विंग के गठन के बाद उनको काम करने में अधिक मदद मिलेगी।भुवनेश कुमार ने बताया कि सीएम ने आगामी कैबिनेट में उनकी मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया है। उन्होंने कहा कि जैसे ही कैबिनेट उनकी मांगों को मान लेगी उनकी हड़ताल समाप्त हो जाएगी।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है