Expand

Congress में फेरबदल से CM खुश नहीं

Congress में फेरबदल से CM खुश नहीं

- Advertisement -

शिमला। प्रदेश कांग्रेस कमेटी में पिछले दिन हल्का-फुल्का फेरबदल की गया। इस फेरबदल में कुछ को एक जगह से हटाकर नई जिम्मेदारी दी गई है, तो उसमें तरक्की भी साथ-साथ मिली है। इस फेरबदल में प्रदेश कांग्रेस कमेटी(पीसीसी) में तीन नए उपाध्यक्ष व दो महासचिव नियुक्त किए गए हैं। इसके साथ ही जिला कांग्रेस कमेटी शिमला ग्रामीण, मंडी व सुंदरनगर में अध्यक्षों की नियुक्ति की गई। पर प्रदेश कांग्रेस में लगता है कि अभी सब ठीक नहीं है। पार्टी संगठन में हुए इस फेरबदल से सीएम वीरभद्र सिंह खुश नजर नहीं लगते हैं।

  • congress_बोले, फेरबदल करने से पहले उनसे नहीं ली गई राय

उनका कहना है कि वे किसी को हटाने में नहीं, बल्कि जोड़ने में विश्वास रखते हैं। जहां तक शिमला ग्रामीण और मंडी संगठनात्मक जिलों के अध्यक्षों को हटाने की बात है, उन्हें जिन्होंने बनाया था, उन्होंने ही हटवाया है।

वे आज रिज मैदान पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान मीडिया से रू-ब-रू हुए थे। इस दौरान सीएम ने कहा कि केहर सिंह खाची को सिंचाई मंत्री विद्या स्टोक्स ने ही शिमला जिला ग्रामीण के अध्यक्ष बनाया था और आज उन्होंने ही खाची को हटवाया है। यही नहीं, पूर्ण ठाकुर को स्वास्थ्य मंत्री ठाकुर कौल सिंह ने मंडी जिला का अध्यक्ष बनाया था और उन्हें भी कौल सिंह ने ही हटवाया है। गौर हो कि खाची और स्टोक्स के बीच पिछले कुछ समय से ठनी हुई है। एक वक्त था कि स्टोक्स और खाची में काफी नजदीकियां थीं, लेकिन कुछ वक्त से दोनों में संबंध अच्छे नहीं थे और स्थिति यह थी कि दोनों एक-दूसरे को देखने से भी परहेज करने लगे थे।

  • किसी को हटाने में नहीं, बल्कि जोड़ने में रखता हूं विश्वास

vidyaइसका कारण ठियोग विधानसभा हलका है। स्टोक्स और खाची दोनों वहीं से हैं और खाची भी अबकी बार टिकट के दावेदार बने हुए हैं। बस इसी से स्टोक्स नाराज चल रही हैं और स्टोक्स ने खाची को जिलाध्यक्ष की कुर्सी से हटाने को कमर कस ली और पार्टी आलाकमान से भी यह मामला उठाया और खाची को हटाकर ही दम लिया।

उधर, कौल सिंह और पूर्ण ठाकुर के बीच संबंध भी कुछ ऐसे ही खेल का शिकार हैं और आज दोनों एक-दूसरे के विरोधी बने हुए हैं। कांग्रेस के विपक्ष के दौरान पूर्ण ठाकुर वे शख्स थे जो कौल सिंह ठाकुर को सीएम बनाने का नारा बुलंद किए हुए थे, लेकिन कुर्सी पर वीरभद्र सिंह विराजमान हो गए।

इसके बाद पिछले वर्ष पूर्ण ठाकुर जिला परिषद के चुनाव में उतरे तो कौल सिंह नाराज हो गए और तब से इनमें दूरी बढ़ती गई और आज स्थिति यह बनी कि कौल सिंह ने पूर्ण को हटाने के लिए मोर्चा खोल दिया और इसके लिए कांग्रेस हाईकमान का दरवाजा भी खटखटाया। आलाकमान ने भी पूर्ण को जिलाध्यक्ष पद से चलता कर दिया। बेशक उन्हें प्रदेश उपाध्यक्ष बनाया है, लेकिन लड़ाई जिलाध्यक्ष को लेकर थी। उनका कहना था कि प्रदेश कांग्रेस में जो फेरबदल किया गया, वह उनके नोटिस में नहीं था। उन्होंने कहा कि केहर सिंह खाची को संगठन में स्टोक्स ही लाई थी और अब उनकी वजह से ही खाची को जिलाध्यक्ष पद से हटाया गया है। सीएम ने कहा कि कांग्रेस संगठन में फेरबदल करने से पहले उनसे राय नहीं ली गई थी। इसे देखते हुए लगता है कि आने वाले दिनों में प्रदेश कांग्रेस में राजनीतिक माहौल गरमाएगा।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है