- Advertisement -

HPCA होटल लीजः CM बोले, होगी कानूनी कार्रवाई

1

- Advertisement -

मंडी। धर्मशाला में एचपीसीए द्वारा होटल द पवेलियन को लीज पर देने के मामले पर सीएम वीरभद्र सिंह ने कानूनी कार्रवाई करने की बात कही है। कुल्लू से शिमला जाते वक्त मंडी के ऐतिहासिक पड्डल मैदान में रुके सीएम वीरभद्र सिंह ने यहां पर पत्रकारों के साथ अनौपचारिक बातचीत की। सीएम वीरभद्र सिंह ने कहा कि एचपीसीए कानून तोड़ने पर तुली हुई है। उन्होंने कहा कि जब धर्मशाला में होटल का निर्माण किया गया तो उस जमीन को बंजर बताया गया, जबकि बाद में पता चला कि वहां पर 1500 पेड़ थे।

  • cm-mandiसीएम वीरभद्र सिंह ने मंडी में कही बात
  • बोले, कानून तोड़ने पर तुली हुई है एचपीसीए
  • 1500 पेड़ों को काटकर बनाया गया है होटल
  • राजस्व मंत्री के बयान न देने पर साधी चुप्पी

उन्होंने कहा कि एचपीसीए ने सरकार के साथ फ्रॉड किया है और इस पर अब कानूनी कार्रवाई की जाएगी। वहीं, जब सीएम वीरभद्र सिंह से राजस्व एवं कानून मंत्री कौल सिंह ठाकुर द्वारा इस पूरे मामले पर साधी गई चुप्पी को लेकर पूछा गया तो सीएम ने भी इस पर अपनी प्रतिक्रिया नहीं दी। उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले पर राजस्व मंत्री से ही पूछा जाए। वहीं इसका जबाव देंगे। बता दें कि सीएम वीरभद्र सिंह शुक्रवार को कुल्लू से मंडी तक सड़क मार्ग से आए और इसके बाद यहां से हेलिकाप्टर के माध्यम से शिमला के लिए रवाना हुए।

kullu-10इतिहास बना दौरा

सीएम का आज सैंज का दौरा इतिहास में दर्ज हो गया। बुशहर के राजा के थड़े पर विराजमान हुए वीरभद्र सिंह का गवाह पूरा शांगड़ बना। थड़े पर बैठने के बाद सीएम ने यहां पर दूर –दूर से आए लोगों से मुलाकात की और उनकी समस्याओं का भी निवारण किया। इससे पहले शुक्रवार सुबह CM वीरभद्र सिंह शांगड़ पहुंचे और उन्होंने शुचैहण-शांगड़ सड़क का किया उद्घाटन कर उसे लोगों के लिए समर्पित कर दिया। सीएम ने 2.50 करोड़ की लागत से बनने वाली शांगड़ पेयजल योजना का भी नींव पत्थर रखा।

सीएम वीरभद्र सिंह ने शांघड़ में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि हमारे देवी-देवता हमारे समाज का अटूट हिस्सा है और ये हमारी खुशी और दुःख में  बराबर के भागीदार  हैं।  उन्होंने कहा कि यह हमारी सभी की जिम्मेदारी है कि पुराने मंदिरों को सहेजा जाएं और इनमें पारंपरिक ढंग से पूजा अर्चना की जाए। यह हमारी जिम्मेदारी भी है। पारंपरिक रीति-रिवाज, भाषा और परंपराओं की रक्षा करना सबसे जरूरी है। उन्होंने शंखचूल देवता के मंदिर की प्रतिष्ठा समारोह में शिरकत की। इसके साथ ही उन्होंने पीने के पेयजल आपूर्ति योजना Dugedi, Konsha, Berra-Shanghad, धारा-Lapah, Tandi-Nihai और Lotla-तुंग की आधारशिला रखी। इस पर करीब 2.41 करोड़ खर्च आएगा और इससे  42 बस्तियों और 4500 की आबादी को लाभ होगा। सीएम ने सैंज की सभी पंचातों को सात करोड़ देने की घोषणा की। 

CM की दो टूक, आलोचना के कारण शिक्षण Institute खोलना बंद नहीं करूंगा

कुल्लू।  सीएम वीरभद्र सिंह ने कहा कि मेरा हमेशा ही यह लक्ष्य रहा है कि सभी क्षेत्रों का सर्वांगीण एवं संतुलित विकास सुनिश्चित हो तथा cm1ऊपरी व निचले हिमाचल के नाम पर कोई भी भेदभाव न हो। उन्होंने कहा कि प्रदेश विकास के पथ पर तेजी के साथ आगे बढ़ रहा है, विशेषकर शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय उपलब्धियां हासिल की हैं और प्रदेश को देश भर के बड़े राज्यों की श्रेणी में शिक्षा तथा समग्र विकास के लिए पुरस्कृत किया गया है। उन्होंने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार ने गत 48 महीनों के दौरान 42 नए कॉलेज खोले हैं, जिससे अब प्रदेश में कॉलेजों की संख्या बढ़कर 116 हो गई है। उन्होंने कहा कि विपक्ष द्वारा अनेकों स्कूल खोलने के लिए उनकी आलोचना की जा रही है।

  • बोले, ऊपरी व निचले हिमाचल के नाम पर कोई भी भेदभाव नहीं
  • समृद्ध संस्कृति व परम्पराओं को न भूलें और इन्हें हर कीमत पर बनाएं रखें

उन्होंने दो टूक कहा कि उनकी आलोचना के कारण शिक्षण संस्थान खोलना बंद नहीं करूंगा और ‘मैं चाहता हूं कि प्रदेश में एक भी बच्चा शिक्षा से वंचित न रहे।

cm2उन्होंने कहा कि बीजेपी मौजूदा सरकार की आलोचना केवल आलोचना के उद्देश्य से ही कर रही है। यह बात सीएम वीरभद्र सिंह ने आज कुल्लू जिले की सैंज घाटी के दूर-दराज गांव शांघड़ में एक जनसभा को सम्बोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि हमारे देवी-देवता प्रदेश के लोगों के अभिन्न हिस्सा हैं, जिनकी उपस्थिति हम अपने दुःख व सुख में अनुभव करते हैं।

  • अपनी संस्कृति व रीति-रिवाजों को दर-किनार करने वालों का हुआ पतन

हम सभी का यह दायित्व है कि हम अपने प्राचीन मन्दिरों का संरक्षण सुनिश्चित बनाएं और नित्य प्रति इनमें पूजा-अर्चना की रस्मों को भी निभाएं। उन्होंने कहा कि देवी-देवता प्रत्येक बुराई से हमारा बचाव करते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी यह भी जिम्मेवारी है कि हम अपनी भाषा, रीति-रिवाजों व परम्पराओं का संरक्षण करें।  उन्होंने कहा कि समृद्ध संस्कृति व परम्पराओं से ही हिमाचल प्रदेश की अलग पहचान है।

सीएम ने भावी पीढ़ियों को सन्देश देते हुए कहा कि उनकी कामना है कि वे हर प्रकार से सम्पन्न व खुशहाल हों, लेकिन वे अपनी cmसमृद्ध संस्कृति व परम्पराओं को न भूलें और इन्हें हर कीमत पर बनाएं रखें। उन्होंने कहा कि जिन्होंने ने भी अपनी संस्कृति व रीति-रिवाजों को दर-किनार किया वे धीरे-धीरे समाप्त हो गए। उन्होंने कहा कि उन्हें पहाड़ी होने पर गर्व है और वह तब भी यही कहते थे, जब वह सांसद व केन्द्र में मंत्री थे। उन्होंने कहा कि जो युवा अन्य राज्यों में शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं, उन्हें अपनी संस्कृति पर शर्मिन्दगी महसूस नहीं करनी चाहिए और अपने आप को पहाड़ी होने पर गर्व करना चाहिए। वीरभद्र सिंह ने कहा कि सादियों पूर्व उनके परिवार से कोई यहां आया था और इस ऐतिहासिक पदवी पर बैठा था, जो शंगचुल देवता ने उपहार स्वरूप दी थी और यहां स्थापित की गई। उन्होंने कहा कि इस सड़क को भविष्य में चौड़ा तथा पक्का किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हमारी संस्कृति की गहरी जड़ें हैं। सीएम ने सैंज घाटी के दूरदराज शांघड़ गांव में शंगचूल महादेव मन्दिर की ‘प्रतिष्ठा रस्म में भाग लिया। यह प्राचीन मन्दिर आगजनी के कारण नष्ट हो गया था और इसका प्रदेश सरकार द्वारा सहायता प्रदान कर प्राचीन पारम्परिक वास्तुशिल्प के अनुरूप पुनर्निर्माण किया गया है। 

- Advertisement -

1 Comment
  1. shaila thakur says

    HPCA और CM के बीच तनातनी…

Leave A Reply