Covid-19 Update

1,99,740
मामले (हिमाचल)
1,93,403
मरीज ठीक हुए
3,411
मौत
29,762,793
मामले (भारत)
178,254,136
मामले (दुनिया)
×

Kullu दशहरा संपन्न: 6 फीसदी बढ़ा देवताओं का नजराना, CM ने की घोषणा

Kullu दशहरा संपन्न: 6 फीसदी बढ़ा देवताओं का नजराना, CM ने की घोषणा

- Advertisement -

कुल्लू। सीएम वीरभद्र सिंह ने देवताओं के नजराने में छह प्रतिशत वृद्धि की घोषणा की है। साथ ही ‘ गैर मुआफीदार’ देवताओं (जिनकी भूमि मुज़ारियत अधिनियम में गई थी) तथा दशहरा उत्सव में शामिल नहीं हुए देवताओं केे प्रतिदिन के धार्मिक कार्यों को करने के लिए 1000 रुपये की राशि देने की घोषणा की। अंतरराष्ट्रीय दशहरा उत्सव कुल्लू के समापन अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए सीएम वीरभद्र सिंह ने कहा कि प्रदेश में शैक्षणिक संस्थान खोले जाने को लेकर बीजेपी हमेशा ही अलोचना करती आई है। पर कांग्रेस सरकार का मकसद हर बच्चे को घर द्वार पर शिक्षा मुहैया करवाना है। इसी के चलते उन्होंने कभी भी बीजेपी की अलोचना की ओर ध्यान नहीं दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को प्रदेश के कोने-कोने में शिक्षा का प्रकाश अलख जगाने पर विश्वास है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सच्चे लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता की भावना को कायम रखने के लिए जानी जाती है। सभी धर्म के लोगों को समान रूप से देखते हैं। बीजेपी की तरह मतभेद नहीं करते हैं।  भारत एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है और कांग्रेस सभी धर्मों को मानती है। कांग्रेस के पास बीजेपी की तरह कट्टर मानसिकता नहीं है।

लंका दहन के साथ अंतरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा उत्सव संपन्न

लंका दहन के साथ विश्व का सबसे बड़ा देव महाकुंभ सात दिवसीय अंतरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा उत्सव संपन्न हो गया है। देवताओं के इस महाकुंभ में हजारों लोगों सहित सैकड़ों देवी-देवतााओं ने भी डुबकी लगाई। उधर,सीएम वीरभद्र सिंह ने अंतरराष्ट्रीय लाल चंद प्रार्थी कलाकेंद्र में दशहरा उत्सव का विधिवत समापन किया। विश्व के सबसे बड़े देव महाकुंभ एवं अनूठी परंपराओं का संगम कुल्लू दशहरा पर्व में रघुनाथ की रथ यात्रा के बाद विधिवत रूप से शुक्रवार को लंका दहन के  नजारे के हजारों लोग गवाही बने। लिहाजा, सात दिनों तक चलने वाले इस महाकुंभ में सैकड़ों देवी-देवताओं के साथ रघुनाथ जी ने लंका पर चढ़ाई कर रावण परिवार के साथ बुराई का भी अंत किया है। लंका चढ़ाई के लिए  हुई रथ यात्रा में यहां पहुंचे सभी देवी-देवताओं ने भाग लिया। लंका दहन के साथ ही अंतरराष्ट्रीय दशहरा उत्सव का समापन हुआ। गोबर के बने रावण मेघनाथ व कुंभकर्ण को तीर से भेदने के बाद लंका में आग लगाई।


देव महाकुंभ में रावण वध कर वापस लौटे सैकड़ों देवी-देवता

अंतरराष्ट्रीय दशहरा उत्सव में सात दिन के बाद रावण का वध कर व लंका दहन करके जिला के सभी देवी-देवता अपने देवालय लौटने लगे हैं। लंका पर चढ़ाई के लिए हुई रघुनाथ यात्रा  में  भाग  लेने के बाद यहां पहुंचे 250 देवी-देवताओं ने घर वापसी के लिए कूच किया है। लिहाजा, सात दिनों तक चले इस ऐतिहासिक देव महाकुंभ में धरती पर उतरे देवता रवाना हो गए हैं और ढालपुर  मैदान देवी-देवताओं के बिना सूना पड़ गया है। सात दिनों तक तपस्वी की जिंदगी बीता कर शनिवार को देवी-देवता के कारकून भी अपने देवी-देवताओं के साथ देवालय की ओर कूच कर गए  हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है