×

अकांक्ष Murder Case: मेहताब की अग्रिम जमानत याचिका खारिज

अकांक्ष  Murder Case: मेहताब की अग्रिम जमानत याचिका खारिज

- Advertisement -

चंडीगढ। हिमाचल के सीएम वीरभद्र सिंह के साले अरूण सेन के बेटे अकांश के मर्डर मामले में ओरोपी मेहताब उर्फ फरीद की अग्रिम जमानत याचिका सेशन कोर्ट ने खारिज कर दी है। मेहताब ने सोमवार को चंडीगढ की सेशन कोर्ट में अग्रिम जमानत के लिए अर्जी दाखिल की थीएजिस पर बीते कल भी सुनवाई हुई थी। आज सुबह इस मामले में फिर से सुनवाई हुई पर कोर्ट ने पहले अपना फैसला सुरक्षित रख लिया, उसके बाद दोपहर को हुई सुनवाई में अग्रिम याचिका को खारिज कर दिया। याद रहे कि आकांश की पीजीआई चंडीगढ़ में इलाज के दौरान शुक्रवार को मौत हो गई थी। अकांश की मौत की वजह सड़क हादसा नहीं बल्कि मर्डर बताया जा रहा है। बीते वीरवार सुबह 5 बजे चंडीगढ़ सेक्टर-9 में दो युवकों ने बीएमडब्ल्यू कार से अकांश को पहले टक्कर मारकर सड़क पर गिरा दिया फिर टायर चढ़ाकर उसके सिर को बुरी तरह कुचल दिया था।


  • चंडीगढ की सेशन कोर्ट में आरोपी ने सोमवार को लगाई थी अर्जी
  • मंगलवार को भी हुई थी सुनवाई, दूसरे आरोपी ने नहीं दी है अर्जी

अकांश सेन सेक्टर-9 में नेशनल शूटर राजा सिद्धू के सेक्टर 9 स्थित मकान नंबर 165 में रहते थे। अकांश ने पार्टनरशिप में सेक्टर 9 में बूम बॉक्स कैफे करीब एक महीने पहले खोला था। उसी समय से अकांश ने शहर में नियमित रहना शुरू किया था। बीते वीरवार रात को घर में पार्टी में रखी थी, जिसमें दोनों आरोपी फरीद सिंह और बलराज सिंह रंधावा भी आए थे। अकांश के साथ वहीं पर रहने वाला शेरा भी पहुंचा था। पार्टी के दौरान शेरा और दोनों आरोपियों में पुरानी किसी बात पर बहस हो गई और बात हाथापाई तक पहुंच गई। उस समय बीच बचाव कर मामला शांत करवा दिया गया, जिसके बाद अकांश सेन और उसका भाई अदम्य सिंह वहां से सेक्टर 18 आ गए।

सुबह पांच बजे अकांश ने एक दोस्त करन को सेक्टर 18 बुलाया और सेक्टर 9 दोबारा देखने पहुंच गए कि कोई झगड़ा तो नहीं हुआ। उनको वहां देखते ही बलराज सिंह गुस्से में आ गया और अकांश से कहा कि “तु ज्यादा शेरा का बॉडी गार्ड बना फिरता है”। यह कहते हुए वह बीएमडब्लू कार में बैठ गया और उसके साथ फरीद बैठा हुआ था। बलराज ने तेज गति से बीएमडब्लू कार अकांश पर चढ़ा दी। एक बार टक्कर मारने के बाद कार से दोबारा उसके सिर को रौंदते हुए दोनों फरार हो गए। पास ही उसका भाई अदम्य और दोस्त खड़े थे। उन्होंने अकांश को तुरंत पीजीआई के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती करवाया। पुलिस ने अदम्य की शिकायत पर दोनों पर पहले हत्या के प्रयास का केस दर्ज किया और अकांश की मौत के बाद हत्या की धारा जोड़ दी। पुलिस वीरवार से ही दोनों की तलाश में पंजाब के लुधियाना, पटियाला, सोहाना, लांडरा सहित दर्जन भर जगहों पर छापे मार चुकी है लेकिन दोनों का कुछ पता नहीं चला।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है